Headline • बीजेपी के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष बने जे.पी. नड्डा • फिल्म आर्टिकल 15 को लेकर सुर्खियों में छाए रहे, आयुष्मान खुराना • लगातार दो शतक जड़ के शाकिब ने बांग्लादेश के लिए रचा इतिहास • एक बार फिर कथित लव-जिहाद का ममला सामने आया जाने पूरी खबर• बिहार में लू के कारण 246 मौतें, लगी धारा 144 • बॉलीवुड एक्ट्रेस सोनाली बेंद्रे को क्यो किडनैप करना चाहते थे शोएब अख्तर• सानिया मिर्जां के साथ पार्टी करना शोएब मलिक को पड़ा भारी।• केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन हुए परिजनों के गुस्से का शिकार • 17वी लोकसभा में प्रधानमंत्री मोदी विपक्ष पर बोले • नाना पाटेकर को क्लिन चिट मिलने पर तनुश्री दत्ता ने कहा• बीजेपी, टीएमसी के बाद अब बंगाल में कांग्रेस का नाम भी आया राजनीतिक हिंसा में• आगामी भारत और पाकिस्तान के मैच में कैसा रहेगा, मैनचेस्टर में मौसम का मिजाज• मांगो को मानने के लिए ममता सरकार को 48 घंटे का डॉक्टरों ने दिया अल्टिमेटम• इतनी फिल्मे करने के बाद भी क्यों सलमान खान को लगता है समीक्षको से डर !• भारत और इंग्लैड के बीच होगा फाइनल मैच: गूगल सीईओ सुन्दर पिचाई• बीजेपी के सहयोगी नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू बजट सत्र में करेगी तीन तलाक का विरोध • 'टिकटॉक' विडियों बनाने के चक्‍कर में सलमान को लगी गोली, 2 युवक पहुंचे जेल • लोक सभा के बाद अमित शाह ने हरियाणा विजय की खास रणनीति बनाई• घट सकती है दिल्ली मेट्रों का किराया, 30 लाख से अधिक यात्रियों को फायदा• चक्रवाती तूफान 'वायु' ने अपना रास्ता बदला लेकिन एजेंसियां अलर्ट पर अभी खतरा बाकी है • महेंद्र सिंह धोनी के सेना के 'बलिदान बैज' वाले दस्तानों पर बहस तेज• अफगानिस्तान सेना के दस्ते ने आतंकी संगठन तालिबान की जेल से छुड़ाए 83 नागरिक• जगन मोहन रेड्डी ने पलटा चंद्रबाबू सरकार का फैसला, अब आंध्र प्रदेश में CBI कर सकेगी जांच• नमाज के दौरान बेकाबू कार ने भीड़ को मारी टक्‍कर हुआ हगामा • गृह मंत्रालय का प्रभार संभालते ही बीजेपी चीफ अमित शाह ऐक्शन में, जम्मू-कश्मीर में परिसीमन आयोग पर विचार


मुरादाबादः मुरादाबाद नगर निगम में टैक्स के नाम पर बड़ा घोटाला सामने आया है। नगर निगम द्वारा टैक्स अधिकारियों को आवास कर और जलकर  वसूलने के लिए रसीद बुक दी गई थी। लेकिन नगर निगम के कर विभाग से 60 से ज्यादा रसीद बुक गायब हो गई हैं।

सारी रसीद बुक से मोटा टैक्स वसूला गया था। जिसके बाद पैसों का गबन करके रसीद बुक गायब कर दी गई। मामला सामने आने के बाद नगर आयुक्त ने पूरे मामले पर जांच बैठा दी है।

मुरादाबाद नगर निगम में घोटाले रुकने का नाम नहीं ले रहा है। ताज़ा मामला नगर निगम के कर विभाग से है। जहां निगम द्वारा कर इंस्पेक्टर्स को लोगों से आवास कर ओर जलकर वसूलने के लिए रसीद बुक दी गई थी।

कर विभाग के कर्मचारियों ने इन बुक से टैक्स भी वसूला है। लेकिन आश्चर्यजनक रूप से नगर निगम से 60 से ज्यादा रसीद बुक गायब कर दी गई। निगम बोर्ड की बैठक के दौरान पार्षदों ने इस मामले को नगर आयुक्त के सामने उठाया।

घपला संज्ञान में आने के बाद नगर आयुक्त ने पूरे मामले की जांच के आदेश दे दिए है। अपर नगर आयुक्त को पूरे मामले की जांच सौंपी गई है।

साथ ही उनसे जल्द पूरे मामले की रिपोर्ट देने को भी कहा गया है। फिलहाल मामला सामने आने के बाद नगर निगम में हड़कंप मचा हुआ है।

देहरादूनः उत्तराखण्ड के हाईप्रोफाइल एनएच 74 घोटाले में 545 दिनों की एसआईटी जांच के बाद आखिरकार मंगलवार को त्रिवेंद्र सरकार ने दो आईएएस अधिकारियों को सस्पेंड कर दिया। बताया जाता है कि सरकार ने यह कार्रवाई एनएच 74 घोटाले में जांच रिपोर्ट के आधार पर की है। 

सरकार के फैसले के बाद से ही देहरादून से लेकर जिला मुख्यालय रुद्रपुर में अधिकारियों में हडकंम्प मचा हुआ है। गौरतलब है कि मार्च 2017 में कुमाऊ कमिश्नर को शिकायत मिल रही थी कि एनएच-74 में भूअधिग्रहण को लेकर बड़ा गोलमाल चल रहा है, जिसको लेकर 1 मार्च को तत्कालीन कुमाऊं कमिश्नर डी सिन्थिल पांड्यन उधम सिंह नगर जिला मुख्याल पहुंचे थे।

उन्होंने अधिकारियों संग बैठक कर एनएच-74 में वर्ष 2011 से 2016 की फाइलों को तलब किया जिसके बाद एक जांच कमेटी बैठाई गई। 8 दिनों के भीतर जांच रिपोर्ट देने को कहा गया जांच के दौरान टीम को करोड़ की हेर फेर के अहम दस्तावेज हाथ लगे जिसके बाद कुमाऊ कमिश्नर के निर्देश के बाद 10 मार्च को अपर जिलाधिकारी प्रताप सिंह शाह द्वारा पन्तनगर थाने में मुआवजे घोटाले को लेकर मुकदमा दर्ज करवाया गया।

10 मार्च को कुमाऊ कमिश्नर द्वारा जांच रिपोर्ट शासन को भेजी गई थी। मामले में उच्च स्तरीय जांच कराने के लिए भी प्रस्ताव बनाया गया। 10 मार्च को ही कुमाऊ कमिश्नर के नेतृत्व में जांच कमेटी का गठन किया गया, जिसमें लगभग 200 करोड़ का घपला सामने आया।

18 मार्च को सीएम त्रिवेंद्र रावत ने मुख्यमंत्री की शपथ लेते ही आधा दर्जन पीसीएस अधिकारियों को सस्पेंड कर दिया। इस मामले की जांच एसआइटी को सौंपी गई थी। साथ ही केंद्र सरकार को सीबीआई जांच की संस्तुति दी गई थी।

26 मई को एनएचआई के चेयरमैन युद्धवीर सिंह का उत्तराखंड के मुख्य सचिव एस रामास्वामी को फोन किया, जिसमे उन्होंने धमकी दी कि अगर इस तरह से एनएचआई के अधिकारियों के खिलाफ जांच चलती रही तो वह एनएचआईए के सभी प्रोजेक्ट उत्तराखंड में रोक देंगे। 

1 जून 2017 तत्कालीन कुमाऊ कमिश्नर का ट्रांसफर कर दिया गया। एसआइटी की जांच पुलिस को ट्रांसफर कर दिया गया। पुलिस कप्तान द्वारा एएसपी कमलेश उपाध्याय के नेतृत्व में एसआईटी गठित की गई।

 

बहराइच : भारत नेपाल सीमावर्ती तराई के जिला बहराइच में दिमागी बुखार का प्रकोप छाया हुआ है। जिला अस्पताल में इन दिमागी बुखार के मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही हैं। हालत यह है कि बड़ी तादाद में मासूम बच्चों का इलाज फर्श पर हो रहा है। ऐसे में स्वास्थ्य महकमा मासूमों की जान से खिलवाड़ करता नजर आ रहा है। सीधे तौर पर जिला अस्पताल यह नहीं बताता है कि मष्तिष्क ज्वर के कितने मरीज़ है लेकिन मुख्य चिकित्सा अधीक्षक ने बताया 19 मरीजों के सैम्पल जांच के लिए लखनऊ भेजे गए हैं। जिस तरह मासूमों को फर्श पर लिटाकर इलाज किया जा उससे मासूमों में संक्रमण फैलने का खतरा भी बना हुआ है। लगातार हो रही बच्चों की मौत के बावजूद अस्पताल प्रशासन सबक लेने को तैयार नहीं है। 

जिला अस्पताल में मस्तिष्क ज्वर के मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही हैं। इन बच्चों के उपचार को लेकर अस्पताल प्रशासन के हाथ पांव फूल रहे हैं। मासूमों के उपचार में कदम कदम पर लापरवाही बरती जा रही है। आने वाले मरीजो को स्ट्रेचर मिलना तो दूर, हाथ मे मासूम मरीज को लेकर खड़े होने वाले तीमारदारों से चिकित्साकर्मी बात तक करने को तैयार नहीं है ।

 

-अस्पताल के वार्ड में भारी उमस और गर्मी के बीच लोग मासूमों का इलाज कराने को मजबूर है। लेकिन वार्ड में फैली गंदगी से फर्स पर लिटाकर मासूमों का उपचार उनकी जिंदगी पर भारी पड़ सकती है। वार्ड में 6 वर्षीय बच्ची की इलाज के दौरान मौत भी हो गई है । मामले में जब बुजुर्ग तीमारदार से जानकारी लेने का प्रयास किया गया तो उनकी आंखें नम हो गई। लगातार हो रही मौतों के बाद भी जिला अस्पताल प्रशासन की बड़ी लापरवाही उजागर हो रही है।

-हालत यह है कि लोग जूते-चप्पलें पहन कर वार्ड में घूमते रहते है। इससे ये मासूम संक्रामक बीमारियों की चपेट में आ रहे है। 

 

 

हरदोई : यूपी के हरदोई जिले में चलती ट्रेन में एक युवक का स्टंट वीडियो वायरल हो रहा है। इस स्टंट को देखकर रौंगटे खड़े हो रहे हैं। इस सटंट को करते वक्त अगर जरा सी चूक होती तो जान भी जा सकती थी, लेकिन  युवक बेधड़क होकर चलती ट्रेन में स्टंट कर रहा है। वीडियो वायरल होने के बाद युवक को आरपीएफ ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। 

-आरपीएफ के मुताबिक, जो युवक वायरल वीडियो में दिखाई दे रहा है वह एक चोर है और ये कोई स्टंट नहीं है इसके चोरी करने का तरीका है । जिसके चलते ये रेलवे पुलिस के लिए एक रहस्य बना हुआ था ।

-अक्सर आरपीएफ ने चोरी की शिकायत होने पर चलती ट्रेन में सघन तलाशी की लेकिन इसके खतरनाक तरीके की वजह से पकड़ में नहीं आता था ।

-ये चलती ट्रेन में चोरी करने के बाद चलती ट्रेन में ट्रेन के नीचे छिप जाता था । लेकिन अपना वीडियो बनाना ही इसके पकड़े जाने का कारण बन गया ।

 -इस तरह का स्टंट वायरल करने के बाद जब आरपीएफ ने इस पूरे मामले की छानबीन की तो पता चला कि युवक का नाम अमित कश्यप है और वह कोतवाली हरदोई के मंगलीपुरवा मुहल्ले का रहने वाला है और इसका पेशा ट्रेनों में चोरी करने का है।

-आरपीएफ को इसकी ट्रेन के इंजन से बैटरी चोरी करने के मामले तलाश थी।

वाराणसी. उत्तर प्रदेश में सरकारी से लेकर गैर सरकारी कोई भी अब सुरक्षित नहीं रहा है शायद यही वजह है कि कभी पुलिस पर हमला हो रहा है तो कभी चलती ट्रेन में टीटीई को पीटा जा रहा है। ऐसा ही एक दबंगई का मामला आज वाराणसी में देखने को मिला है। यहां पर लखनऊ से मुगलसराय के लिए जा रही पंजाब मेल एक्सप्रेस ट्रेन में एक टीटी भूर सिंह मीणा को कुछ दबंगों ने सिर्फ इसलिए बुरी तरह से लाठी-डंडों से पीट दिया क्योंकि उसने ट्रेन में चढ़े इन युवकों से टिकट मांग ली थी। फिलहाल, जीआरपी कैंट ने तीन अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। 

-घायल TTE भूर सिंह मीणा ने बताया कि वह लखनऊ में पोस्टेड है और आज पंजाब मेल ट्रेन से मुगलसराय के लिए ड्यूटी पर तैनात थे।

-इस दौरान स्लीपर क्लास में जब वह टिकट की चेकिंग कर रहे थे।इस बीच ट्रेन में सवार तीन युवक उनके सामने आए।

-उन्होंने तीनों युवकों से टिकट मांगी तो वह लोग उनसे उलझ गए। मामला कहासुनी के बाद शांत हो गया और TTE भी वहां से जाकर एसी बोगी के बाहर खड़े होकर अपना काम करने लगे।

-TTE का कहना है कि इसी बीच तीनों युवक वहां पहुंचे और हाथों में डंडा लेकर उनसे उलझ पड़े हाथापाई के बाद तीनों युवकों ने पीछे से उनके ऊपर डंडे से एक के बाद एक कई बार वार किए और चेहरे पर भी बुरी तरह से मार।

-जब तक TTE को समझ पाते तब तक तीनों युवक जंघई रेलवे स्टेशन पर उतर कर भाग निकले। 

-वहीं मामला जंघई स्टेशन का है लेकिन रास्ते में कोई बड़ा स्टेशन ना पड़ने की वजह से वह वाराणसी में उतरे और उन्होंने तीन अज्ञात युवकों के खिलाफ तहरीर दी। जिस पर पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया।

-इस पूरे मामले में जीआरपी कैंट थाने पर तैनात SI का कहना है कि मामले में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है और तीनों युवकों की तलाश की जा रही है। 

 

:
:
: