Headline • सीएम योगी से मिलने के बाद बोलीं विवेक तिवारी की पत्नी- सरकार पर भरोसा और बढ़ गया• राजकपूर की पत्नी कृष्णा राज कपूर का 87 साल की उम्र में निधन• गाजियाबाद: आपसी झगड़े में BSF जवान ने दूसरे को मारी गोली, एक की मौत• लखनऊ शूटआउट : विवेक तिवारी की पत्नी ने सीएम योगी से की मुलाकात• लखनऊ : कारोबारी के घर लाखों की डकैती, वारदात के बाद दंपती को बाथरूम में बंद कर फरार हुए नकाबपोश बदमाश • मुजफ्फरनगर : युवती का अपहरण कर रेप, जंगल में फेंककर हुए फरार• विवेक तिवारी हत्याकांड पर बीजेपी विधायक ने उठाए सवाल, सीएम योगी को लिखा पत्र• विवेक तिवारी हत्याकांड:CM योगी ने पीड़ित परिवार से फोन पर की बात,हर संभव मदद करने का दिया भरोसा• बस्ती : खराब बस को धक्का लगा रहे यात्रियों को ट्रक ने कुचला, 6 की दर्दनाक मौत• विवेक तिवारी हत्याकांड :'पुलिस अंकल, आप गाड़ी रोकेंगे तो पापा रुक जाएंगे... Please गोली मत मारियेगा'• लखीमपुर खीरी के यतीश ने तोड़ा लगातार पढ़ने का वर्ल्ड रिकॉर्ड, 123 घंटे पढ़कर बनाया कीर्तिमान• रुद्रप्रयाग : अनियंत्रित होकर गहरी खाई में गिरी कार • फाइनल में सेंचुरी बनाने वाले लिटन दास को क्यों कहना पड़ा, मैं बांग्लादेशी हूं और धर्म हमें बांट नहीं सकता• ललितपुर : SDM ने होमगार्ड की राइफल से गोली मारकर की आत्महत्या• टेनिस की इस खिलाड़ी ने किया टॉपलेस वीडियो, कारण जानकार आप भी करने लगेंगे तारीफ• इंडोनेशिया में भूकंप से मरने वालों की संख्या 800 पार पहुंची, अभी भी कई इलाकों में नहीं पहुंचा राहत दल• मेरठ : हिस्ट्रीशीटर की चाकुओं से गोदकर हत्या• एशिया कप के साथ फोटो शेयर कर इशारों इशारों में  बुमराह ने राजस्थान पुलिस को मारा ताना• तनुश्री के सपोर्ट में आईं कई हिरोईन तो नाना के समर्थन में आईं राखी सावंत, कहा, मरते दम तक साथ दूंगी• SHO और मुंशी के टॉर्चर से परेशान होकर महिला सिपाही ने लगाई फांसी, सुसाइड नोट में हुआ खुलासा• मामा-भांजी को पेड़ से बांधकर की पिटाई, चचिया ससुर ने बदला लेने के  लिए किया ऐसा घिनौना काम• बदनामी के बीच आई यूपी पुलिस की एक ईमानदार छवि, केस से नाम हटाने को 4 लाख देने वाले को जेल भेजा• इस दिन रिलीज हो रहा है कंगना की मणिकर्णिका: द क्वीन ऑफ झांसी' का टीजर• पुलिस के आतंक से पुरुषों ने गांव छोड़ा, दो पक्षों के झगड़े में सिपाही के घायल होने पर गांव में पुलिस का तांडव• स्वामी प्रसाद का सपा पर हमला, कहा-अखिलेश ने गरीब के पैसे और साइकिल कार्यकर्ताओं में बांट दिए


सुलतानपुर. यूपी के सुलतानपुर जिले में एक युवती को अनजान नंबर पर बात करना भारी पड़ गया। आरोप है कि जब लड़के ने लड़की को देखा तो वह उसे गोमती नदी में धक्का देकर फरार हो गया। युवती ने तैरकर अपनी जान बचाई और मामले की जानकारी पुलिस को दी। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। 

-जानकारी के मुताबिक, यह मामला बस्ती जिले के मोढ़ा गांव  का है।

-यहां रहने वाली पूजा को प्रतापगढ़ जिले के पट्टी कस्बे के लड़के का अनजान नंबर से कॉल आया। 

-दोनों के बीच रोजाना बातचीत होने लगी और दोस्ती हो गई। धीरे-धीरे दोस्ती प्यार में बदल गई। यह सिलसिला करीब दो महीने तक चला।

-उसके बाद लड़के ने पूजा से शादी के लिए अपने ही रिस्तेदार के यहां बुलवाया और उनसे फोन पर बातचीत भी करवाई।

-आरोप है कि युवक ने उससे कहा कि वह उससे ही शादी करेगा।

-इसके बाद युवती लड़के के रिश्तेदार के यहां बताए पते पर पहुंच गई लेकिन लड़के को पूजा पसंद नहीं आई। 

-आरोप है कि बीती रात को आरोपी युवक ने उसे दो पहिया वाहन पर बैठाया और कस्बे के पास गोमती पुल से धक्का दे दिया और वहां से फरार हो गया। 

-पूजा ने किसी तरह तैर कर अपनी जान बचाई और ग्रामीणों व पुलिस को अपनी आप बीती सुनाई।

हरदोई. यूपी के हरदोई जिले में बुखार का कहर देखने को मिल रहा है। यहां पिछले 12 घंटों में 8 लोगों की मौत हो गई है। इन मौतों से इलाके में हड़कंप मचा हुआ है।

-जानकारी के मुताबिक, यह मामला सण्डीला ब्लॉक के सिकरोरी का है। 

-यहां गंगा 18 पुत्री अवधेश,राजपती 40 पत्नी कालीचरण,गुलजार 45 पुत्र कढीले की मौत हुई है। जिनका लखनऊ में इलाज चल रहा था।

-वहीं इसी गांव में महनूर 20 पुत्र साबिर अली की कल मौत हुई थी।जबकि मलैया में छोटू 5 पुत्र राजेश,गोसावा के मुंशी 60 पुत्र कन्हई की कल शाम मुन्नी 50 पत्नी गजराज निवासी डोगवा व कैलाशा 65 पत्नी केदारी इजराइल खेड़ा की आज सुबह मौत हो गयी।

-यह तीनों ग्राम पंचायत गोसवा डोगवा में है।

गंदगी को वजह से फैल रही बीमारी 

-लोगों का कहना है कि इलाके के ग्रामीण क्षेत्र में गंदगी फैली है जिसके कारण मच्छर पनप रहे है जिससे मलेरिया,वायरल और टाइफाइड जैसी बीमारी से लोग परेशान है और मौत के गाल में समा रहे है।

कैंप लगवाकर बंटवाई जा रही दवाएं 

-सण्डीला सीएचसी अधीक्षक डॉक्टर शरद वैश्य का कहना है कि संक्रमण रोग नियंत्रण टीम ने एक दर्जन से अधिक गांवों में कैम्प लगाकर दवाएं वितरित कराई गई है।

-हरदलमऊ व सिकरोरिया में तीन-बार व मलैया में एक माह तक लगातार कैंप लगाकर दवाये वितरित कराई गई है।

-अधीक्षक ने ग्रामीणों से अपील की है  कि वह झोलाछाप डॉक्टरों से दवा न लेकर सरकारी अस्पताल में इलाज कराए। गांव में टीम आने का इंतजार न करे, गंभीर हालत में 108 का प्रयोग करें।

मेरठः सरकारी बाबुओं के काम भी निराले होते हैं। कब किसी को जिन्दा कर दे, कब मुर्दा ये बताना बड़ा मुश्किल है। जी है, विकलांग पेंशन बंद हुई तो पीड़ित को पता चला की वह तो कई बरस पहले मर चुका है। इतना ही नहीं सरकारी दफ्तर में उसको जीवित व्यक्ति नहीं बल्कि उसका भूत बताने लगा। 

एसडीएम एक आम आदमी के घर में बैठकर मेज पर कलम से लिख रहे थे। जिसे देखकर लोग सकते में पड़ गए। मामला ही कुछ ऐसा था कि जो सुने वो दंग  रह जाये। खुद घरवालों को भी सुनकर आश्चर्य हो रहा था कि जो दिन रात हमारे बीच रहा है वह सरकारी कागजों में मृत है।  

दरअसल मेरठ के मवाना तहसील में रहने वाले ओमी जो पैर से विकलांग है, को सरकारी कागजों में मृत दर्शा दिया गया है। उसके पास जिला चिकित्साधिकारीकी ओर से जारी विकलांगता का प्रमाण पत्र भी है।

ओमी को सरकार की ओर से विकलांग पेंशन भी मिलती है। पर अचानक उसकी पेंशन आनी  बंद हो गई। जिसके बाद ओमी ने विकलांग कल्याण अधिकारी के दफ्तर में जाकर सम्पर्क किया तो वहां बैठे अधिकारी उसका मजाक बनाने लगे कि ये तो भूत है।

ऐसा सुनकर ओमी खुद चकित रह गया जिसके बाद उसने नगर पालिका मवाना जाकर मालूम किया तो उसके पैरों तले जमीन खिसक गई। सरकारी रिकॉर्ड के हिसाब से वह मर चुका है। 

एसडीएम को जब इस बारे में बताया तो तत्काल वे तत्काल मवाना अपनी टीम को साथ लेकर पीड़ित के घर जा पहुंचे ओर पूरी छानबीन की जिसकी रिपोर्ट बनाकर आलाधिकारिओ को भेजी जा रही है। जांच में नगर पालिका मवाना के अधिकारियों और कर्मचारियों की गलती  सामने आई है। 

 

हमीरपुरः  ज़िले में गुरुवार को केंद्रीय मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति ने मोदी सरकार के चार सालों में इलाके में एक भी नई रलवे लाइन ना बिछाए जाने पर अफसोस जताया है।

बता दें कि बुंदेलखंड का क्षेत्र यूपी का सबसे पिछड़ा क्षेत्र है। यहां विकास की काफी जरूरत है। विकास के वादे पर ही यहां के लोगों ने बीजेपी को वोट दिया था। चार साल पहने यहां रेलवे की नई लाइन डलवाने का वादा किया गया था लेकिन यह वादा अभीतक पूरा नहीं हो पाया।

यहां पहुंची केंद्रीय मंत्री ने कहा कि आप ने देखा होगा कि पिछले चार सालों में एक भी नई रेलवे लाइन नहीं बिछाई गई। जब भी देश में नया प्रोजेक्ट शुरू होगा तब यहां भी लाइन बनाई जाएगी। 

हमीरपुर जिले के राठ तहसील में एक कार्यक्रम में शिरकत होने के बाद पत्रकार वार्ता में निरंजन ज्योति ने कहा कि रेलवे लाइन की बात आप ने कही है। रेलवे लाइन एक मेरे यहां से भी प्रस्तावित है।

आप ने देखा होगा कि इन चार वर्षों में नई रेलवे लाइन कही नहीं बिछाई गई। यूपीए गवर्मेंट में घोषणाएं हुई थी, काम शुरू हुआ था लेकिन उनको पूरा नहीं किया गया। हमारी सरकार ने यह तय किया कि पहले जो काम अधूरे पड़े हैं, हम पहले पूरा करेंगे, क्योंकि वो जनहित से जुड़े हुए है। 

उन्होंने कहा कि महोबा से सीधे उरई को जोड़ने वाली रेलवे लाइन पर काम जल्द शुरु होगा। जिस दिन भी नया प्रोजेक्ट देश मे लागू होगा उस दिन यह लाइन भी बनेगी।

 

इलाहाबादः अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद आने वाले दिनों में गरीबों व असहायों के अंतिम संस्कार का खर्च उठायेगी। बीस सितंबर को इलाहाबाद में होने वाली अखाड़ा परिषद की बैठक में एक प्रस्ताव लाया जायेगा। जिसके बाद सभी अखाड़ों की सहमति बनने पर अखाड़े अपने अपने क्षेत्रों में इसकी शुरुआत करेंगे।

अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरी के मुताबिक सनातन धर्म को मानने वाले मृत्यु के बाद अंतिम संस्कार करते हैं। लेकिन कई ऐसे मामले पता चल रहे हैं जिसमें गरीबी और आर्थिक तंगी की वजह से लोग मजबूरी में शवों को नदियों में प्रवाहित कर देते हैं या फिर जमीन में दफनाते हैं। जिससे मरने वाली आत्मा को शांति भी नहीं मिलती है और नदियों में शवों को प्रवाहित करने से जल प्रदूषण भी बढ़ रहा है। 

ऐसे में अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरी ने गरीबों के अंतिम संस्कार का खर्च अखाड़ों द्वारा उठाये जाने का प्रस्ताव बनाया है। सभी अखाड़ों की सहमति बनने के बाद देश भऱ में फैले अखाड़े अपने क्षेत्रों में इस पुण्य कार्य में जुट जायेंगे।

महंत नरेन्द्र गिरी के मुताबिक इलाहाबाद की दो विधानसभा क्षेत्रो में गरीबी की वजह से लोग अंतिम संस्कार करने के बजाय शवों को गंगा में प्रवाहित कर देते हैं।

इसकी शुरुआत महंत नरेन्द्र गिरी इलाहाबाद से ही करेंगे। जिसके लिये उन्होंने मठ और लेटे हनुमान मंदिर में आने वाले गरीबों को जागरुक करने का फैसला लिया है। 

जानकारी मिलने के बाद अखाड़ों से जुड़े लोग उस गांव में जाकर मृतक के अंतिम संस्कार के लिये कफन से लेकर लकड़ी तक का सारा इंतजाम कर अंतिम संस्कार करवायेंगे।

अखाड़ों की इस पहले से उन गरीबों को राहत मिलेगी जो पैसे के अभाव में किसी अपने का अंतिम संस्कार नहीं कर पाते थे। बीस सितंबर को होने वाली अखाड़ा परिषद की बैठक में इस प्रस्ताव को मंजूरी मिल जायेगी तो देश भर में फैले सभी अखाड़े गरीब और असहायों के अंतिम संस्कार में मदद करेंगे ।  

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: