Headline • नाना पाटेकर को क्लिन चिट मिलने पर तनुश्री दत्ता ने कहा• बीजेपी, टीएमसी के बाद अब बंगाल में कांग्रेस का नाम भी आया राजनीतिक हिंसा में• आगामी भारत और पाकिस्तान के मैच में कैसा रहेगा, मैनचेस्टर में मौसम का मिजाज• मांगो को मानने के लिए ममता सरकार को 48 घंटे का डॉक्टरों ने दिया अल्टिमेटम• इतनी फिल्मे करने के बाद भी क्यों सलमान खान को लगता है समीक्षको से डर !• भारत और इंग्लैड के बीच होगा फाइनल मैच: गूगल सीईओ सुन्दर पिचाई• बीजेपी के सहयोगी नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू बजट सत्र में करेगी तीन तलाक का विरोध • 'टिकटॉक' विडियों बनाने के चक्‍कर में सलमान को लगी गोली, 2 युवक पहुंचे जेल • लोक सभा के बाद अमित शाह ने हरियाणा विजय की खास रणनीति बनाई• घट सकती है दिल्ली मेट्रों का किराया, 30 लाख से अधिक यात्रियों को फायदा• चक्रवाती तूफान 'वायु' ने अपना रास्ता बदला लेकिन एजेंसियां अलर्ट पर अभी खतरा बाकी है • महेंद्र सिंह धोनी के सेना के 'बलिदान बैज' वाले दस्तानों पर बहस तेज• अफगानिस्तान सेना के दस्ते ने आतंकी संगठन तालिबान की जेल से छुड़ाए 83 नागरिक• जगन मोहन रेड्डी ने पलटा चंद्रबाबू सरकार का फैसला, अब आंध्र प्रदेश में CBI कर सकेगी जांच• नमाज के दौरान बेकाबू कार ने भीड़ को मारी टक्‍कर हुआ हगामा • गृह मंत्रालय का प्रभार संभालते ही बीजेपी चीफ अमित शाह ऐक्शन में, जम्मू-कश्मीर में परिसीमन आयोग पर विचार• मायावती की सपा-बसपा प्रेस कॉन्‍फ्रेंस के बाद अब अखिलेश ने तोड़ी चुप्पी, 'सभी सीटों पर अकेले लड़ेंगे उपचुनाव'• लोकसभा चुनाव प्रदर्शन से नाखुश बसपा बसपा सुप्रीमो मायावती का बड़ा फैसला, अब लड़ेगी सभी उपचुनाव • अमेरिका को चीन की युद्ध की धमकी से पड़ोसी देश चिंतित • भारतीय वायुसेना का एएन-32 विमान लापता, वायुसेना का सर्च ऑपरेशन जारी • अमेरिका ने भारत को GSP दर्जे से किया बाहर • देश में भीषण गर्मी का कहर, दिल्‍ली मे रेड अलर्ट जारी • इलाहाबाद विश्‍वविद्यालय के बाद अब लखनऊ विश्‍वविद्यालय में पढ़ाया जाएगा अनुच्‍छेद 370• जम्‍मू-कश्‍मीर में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ में दो आतंकी ढेर• मोदी सरकार में अमित शाह गृहमंत्री, राजनाथ होंगे रक्षा मंत्री, निर्मला सीतारमन बनीं वित्‍त मंत्री


देहरादूनः उत्तराखण्ड के हाईप्रोफाइल एनएच 74 घोटाले में 545 दिनों की एसआईटी जांच के बाद आखिरकार मंगलवार को त्रिवेंद्र सरकार ने दो आईएएस अधिकारियों को सस्पेंड कर दिया। बताया जाता है कि सरकार ने यह कार्रवाई एनएच 74 घोटाले में जांच रिपोर्ट के आधार पर की है। 

सरकार के फैसले के बाद से ही देहरादून से लेकर जिला मुख्यालय रुद्रपुर में अधिकारियों में हडकंम्प मचा हुआ है। गौरतलब है कि मार्च 2017 में कुमाऊ कमिश्नर को शिकायत मिल रही थी कि एनएच-74 में भूअधिग्रहण को लेकर बड़ा गोलमाल चल रहा है, जिसको लेकर 1 मार्च को तत्कालीन कुमाऊं कमिश्नर डी सिन्थिल पांड्यन उधम सिंह नगर जिला मुख्याल पहुंचे थे।

उन्होंने अधिकारियों संग बैठक कर एनएच-74 में वर्ष 2011 से 2016 की फाइलों को तलब किया जिसके बाद एक जांच कमेटी बैठाई गई। 8 दिनों के भीतर जांच रिपोर्ट देने को कहा गया जांच के दौरान टीम को करोड़ की हेर फेर के अहम दस्तावेज हाथ लगे जिसके बाद कुमाऊ कमिश्नर के निर्देश के बाद 10 मार्च को अपर जिलाधिकारी प्रताप सिंह शाह द्वारा पन्तनगर थाने में मुआवजे घोटाले को लेकर मुकदमा दर्ज करवाया गया।

10 मार्च को कुमाऊ कमिश्नर द्वारा जांच रिपोर्ट शासन को भेजी गई थी। मामले में उच्च स्तरीय जांच कराने के लिए भी प्रस्ताव बनाया गया। 10 मार्च को ही कुमाऊ कमिश्नर के नेतृत्व में जांच कमेटी का गठन किया गया, जिसमें लगभग 200 करोड़ का घपला सामने आया।

18 मार्च को सीएम त्रिवेंद्र रावत ने मुख्यमंत्री की शपथ लेते ही आधा दर्जन पीसीएस अधिकारियों को सस्पेंड कर दिया। इस मामले की जांच एसआइटी को सौंपी गई थी। साथ ही केंद्र सरकार को सीबीआई जांच की संस्तुति दी गई थी।

26 मई को एनएचआई के चेयरमैन युद्धवीर सिंह का उत्तराखंड के मुख्य सचिव एस रामास्वामी को फोन किया, जिसमे उन्होंने धमकी दी कि अगर इस तरह से एनएचआई के अधिकारियों के खिलाफ जांच चलती रही तो वह एनएचआईए के सभी प्रोजेक्ट उत्तराखंड में रोक देंगे। 

1 जून 2017 तत्कालीन कुमाऊ कमिश्नर का ट्रांसफर कर दिया गया। एसआइटी की जांच पुलिस को ट्रांसफर कर दिया गया। पुलिस कप्तान द्वारा एएसपी कमलेश उपाध्याय के नेतृत्व में एसआईटी गठित की गई।

 

संबंधित समाचार

:
:
: