Headline • नवजोत सिंह सिद्धू के शो से बाहर होने पर कपिल शर्मा का बयान• तमिलनाडु में भाजपा संग एआईएडीएमके गठबंधन हुआ तय • इमरान खान की भारत को धमकी बिना साबुत किया हमला तो खुला जवाब देंगे• अलीगढ़ हिंदू छात्र वाहिनी कार्यकर्ताओं का धारा 370 को हटाने को लेकर प्रदर्शन• कुलभूषण जाधव मामले की सोमवार से सुनवाई शुरू• उत्तराखंड पुलिस की कश्मीरी छात्रों से सोशल मीडिया पर भड़काऊ बयान न देने की अपील • पुलवामा एनकाउंटर: मेजर समेत 4 जवान शहीद, 2 आतंकी ढेर• राजस्‍थान का गुर्जर आंदोलन शनिवार को खत्म• पुलवामा आतंकी हमले पर सर्वदलीय बैठक शुरू• PM मोदी का ऐलान: आतंकियों की बहुत बड़ी गलती चुकानी होगी कीमत• गांधीजी के पुतले को गोली मारने वाली हिंदू महासभा सचिव पूजा पांडे को मिली जमानत• कश्मीर के पुलवामा में आत्मघाती विस्फोट 41 सीआरपीएफ जवानों की मौत• राजीव सक्सेना को अगस्ता वेस्टलैंड मामले में 22 फरवरी तक मिली अंतरिम जमानत • सुप्रीम कोर्ट ने केजरीवाल और एलजी विवादों पर अपना फैसला सुनाया• केसरी: अक्षय कुमार अभिनीत ऐतिहासिक ड्रामा का पहला झलक वीडियो रिलीज़ • पीएम मोदी ने हरियाणा में की विकास परियोजनाओं की शुरुआत • राफेल डील को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की मोदी सरकार पर जुबानी जंग • मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस में SC ने राव के माफ़ी नामे को किया अस्वीकार लगाया 1 लाख का जुर्माना• आरक्षण की मांग को लेकर गुर्जर आंदोलन उग्र • शराब पर राजनीति: त्रिवेंद्र सिंह रावत से मुख्यमंत्री पद का इस्तीफा देने की मांग• आ रही हूँ यूपी लूटने- वाराणसी में प्रियंका वाड्रा के खिलाफ लगाए गए पोस्टर• PM मोदी ने 300 करोड़ के भोजन वितरण पर मथुरा वासियो को किया सम्बोधित • आंध्र प्रदेश में PM का विरोधी पोस्टरों से स्वागत, उपवास पर बैठे चंद्रबाबू नायडू • J&K: हिमस्‍खलन के बाद फसे पुलिसकर्मियों की तलाश जारी • SC ने तेजस्वी यादव को पटना में सरकारी बंगला खाली करने का दिया आदेश


फतेहपुरः  जिले के महिला हॉस्पिटल में नर्सों द्वारा गलत इंजेक्शन लगाए जाने से लगभग तीन दर्जन भर्ती महिलाओं की हालत बिगड़ गई। खबर फैलते ही अस्पताल में परिजनों ने जमकर हंगामा काटा।

महिलाओं की हालत बिगड़ता देख नर्से भाग निकलीं। हॉस्पिटल में हंगामे की सूचना मिलते ही डॉक्टर्स की टीम वार्ड में पहुंचकर भर्ती मरीजों का इलाज करना शुरू कर दिया।

 वहीं हंगामा कर रहे तीमारदारों की मानें तो सुबह नर्सों द्वारा इंजेक्शन लगाया गया था, जिसके बाद सभी भर्ती मरीजों की हालत बिगड़ने लगी। कुछ मरीज तड़पने लगे, मरीजों को तड़पता देख डाक्टरों को बताया लेकिन कोई नहीं आया।

वहीं भर्ती महिला मरीज का कहना था कि इंजेक्शन लगाने के बाद से ठंड लगने लगी और चीखपुकार होने लगी। कोई देखने तक नहीं आया। 

वहीं डाक्टर ने बताया कि वायरल फीवर का वायरस है जिसकी वजह से मरीजों की हालत बिगड़ी है। एक घंटे के अंदर सब नार्मल हो जायेगा। महिला हॉस्पिटल में हंगामा की सूचना मिलते ही मौके पर पहुंचे सीएमओ ने भर्ती मरीजों का हाल जाना। 

उन्होंने बताया कि जो भी इंजेक्शन लगाए गए है वह सारे एन्टीवायोटिक इंजेक्शन है। फिर भी उनकी जांच कराइ जा रही है कि आखिर ऐसा क्यों हुआ। 

 

संबंधित समाचार

:
:
: