Headline • महिला सांसदों पर किये गए टिपण्णी से घिरे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प• सुप्रीम कोर्ट ने की आसाराम की जमानत याचिका खारिज • धोनी को संन्यास देने की तयारी में है चयनकर्ता, बहुत जल्द कर सकते है फैसला • तकनीकी कारणों की वजह से 56 मिनट पहले रोकी गयी चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग, इसरो ने कहा - जल्द नई तरीक करेंगे तय • भविष्य के टकराव ज्यादा घातक और कल्पना से परे होंगे : सेना प्रमुख जनरल विपिन रावत • इसरो के चेयरमैन ने बताई चंद्रयान-2 मिशन के लांच होने की तरीक, चाँद पर पहुंचने में लगेगा 2 महीने का समय • झाऱखंड के स्वास्थ मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी का रिशवत लेते वीडीयो वायरल, पुलिस ने की FIR दर्ज • राफेल भारत के लिए रणनीतिक तौर पर बेहद अहम साबित होगी : एयर मार्शल भदौरिया• उत्तराखंड : विधायक प्रणव सिंह चैंपियन BJP से बहार • चारा घोटाला मामले में लालू को मिली जमानत• आइटी पेशेवरों के लिए अमेरिका से अच्छी खबर• कर्नाटक संकट : बागी विधायक बोले इस्तीफे नहीं लेंगे वापस• 'अब बस' जाने क्या है मामला• सबाना के सपोर्ट में स्वरा• कर्नाटक का सियासी संग्राम जारी • भारत और न्यूजीलैंड का 54 ओवर का खेल आज• भारत बनाम न्यूजीलैंड• कर्नाटक संकट का असर राज्यसभा में• अहमदाबाद की अदालत  में राहुल गांधी• व्हाइट हाउस में भरा बारिश का पानी • क्या अनुपमा परमेसरन को डेट कर रहे जसप्रीत बुमराह• पाकिस्तान को आंख दिखाता नाग• यूएई और भारत के बीच द्विपक्षीय सहयोग बढ़ाने पर होगी बात• कर्नाटक में सियासी संकट• सभी चोरों का उपनाम मोदी क्यों है: राहुल गांधी


वाराणसीः देशभर में एससी-एसटी एक्ट में संशोधन को लेकर सवर्ण समाज के भारत बंद का कई शहरों में असर देखने को मिला।

पीएम के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में भी कई स्थानों पर सवर्ण समाज के लोगों का प्रदर्शन किया। वाराणसी के नेशनल हाईवे-2 पर सवर्ण समाज के लोगों ने एक्ट के विरोध में हाईवे को जाम कर दिया  ।

सवर्ण समाज के लोगों द्वारा जाम लगाने के बाद हाईवे पर वाहनों की लंबी कतारें लग गईं। देखते ही देखते वहां सवर्ण समाज के लोगों ने टायर में आगजनी कर दी और हाईवे पर ही धरने पर बैठ गए।

एससी एसटी एक्ट के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों ने नेशनल हाईवे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सीएम योगी आदित्यनाथ के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। सवर्ण समाज के लोगों द्वारा हाईवे जाम करने के बाद मौके पर पहुंची पुलिस फोर्स ने लोगों को काफी समझाने की कोशिश की लेकिन उसके बावजूद प्रदर्शन कर रहे लोग समझने को तैयार नहीं थे।

मजबूरीवश प्रशासन को प्रदर्शन कर रहे लोगों को हिरासत में लेना पड़ा। प्रदर्शन कर रहे लोगों का कहना था कि एससी एसटी एक्ट के खिलाफ जिस तरह से नेशनल हाईवे को जाम किया गया, यह केंद्र के लिए एक चेतावनी है।

अगर इसमें बदलाव नहीं किया गया तो और भी बड़ा आंदोलन करने के लिए वे मजबूर होंगे। इसके लिए केंद्र सरकार जिम्मेदार होगी। 

उधर, पुलिस कप्तान का कहना है कि जो भी कानून का उल्लंघन करेगा, उस पर कार्रवाई की जाएगी। फिलहाल नेशनल हाईवे टू को सुचारु रुप से संचालित कर दिया गया है। 

 

संबंधित समाचार

:
:
: