Headline • PM मोदी का ऐलान: आतंकियों की बहुत बड़ी गलती चुकानी होगी कीमत• गांधीजी के पुतले को गोली मारने वाली हिंदू महासभा सचिव पूजा पांडे को मिली जमानत• कश्मीर के पुलवामा में आत्मघाती विस्फोट 41 सीआरपीएफ जवानों की मौत• राजीव सक्सेना को अगस्ता वेस्टलैंड मामले में 22 फरवरी तक मिली अंतरिम जमानत • सुप्रीम कोर्ट ने केजरीवाल और एलजी विवादों पर अपना फैसला सुनाया• केसरी: अक्षय कुमार अभिनीत ऐतिहासिक ड्रामा का पहला झलक वीडियो रिलीज़ • पीएम मोदी ने हरियाणा में की विकास परियोजनाओं की शुरुआत • राफेल डील को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की मोदी सरकार पर जुबानी जंग • मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस में SC ने राव के माफ़ी नामे को किया अस्वीकार लगाया 1 लाख का जुर्माना• आरक्षण की मांग को लेकर गुर्जर आंदोलन उग्र • शराब पर राजनीति: त्रिवेंद्र सिंह रावत से मुख्यमंत्री पद का इस्तीफा देने की मांग• आ रही हूँ यूपी लूटने- वाराणसी में प्रियंका वाड्रा के खिलाफ लगाए गए पोस्टर• PM मोदी ने 300 करोड़ के भोजन वितरण पर मथुरा वासियो को किया सम्बोधित • आंध्र प्रदेश में PM का विरोधी पोस्टरों से स्वागत, उपवास पर बैठे चंद्रबाबू नायडू • J&K: हिमस्‍खलन के बाद फसे पुलिसकर्मियों की तलाश जारी • SC ने तेजस्वी यादव को पटना में सरकारी बंगला खाली करने का दिया आदेश • इलाहाबाद हाईकोर्ट ने उत्तर प्रदेश के राज्य कर्मचारियों की हड़ताल को अवैध ठहराया • राहुल गांधी ने राफेल डील को लेकर PM मोदी पर सादा निशाना • ममता के धरने में शामिल होने वाले अधिकारियों पर गिर सकती है गाज• मुजफ्फरपुर आश्रय गृह में यौन उत्पीड़न: सुप्रीम कोर्ट ने बिहार से दिल्ली ट्रांसपर किया मामला• शेर से भिड़ा युवक, आत्मरक्षा के लिए शेर को ही मार डाला• PM मोदी 15 फरवरी को पहली स्वदेशी इंजन रहित वंदे भारत एक्सप्रेस को दिखाएंगे हरी झंडी • मनी लॉन्ड्रिंग केस: रॉबर्ट वाड्रा आज फिर पहुंचे ED दफ्तर• सुष्मिता ने चुनरी चुनरी सॉन्ग पर दूल्हा और दुल्हन के साथ किया जमकर डांस • किम जोंग और डोनाल्ड ट्रंप की दूसरी शिखर वार्ता 27-28 फरवरी को वियतनाम में


मुरादाबादः पिछले सप्ताह आई बाढ़ के बाद हालात अब भी बदतर बने हुए है। देहात क्षेत्रों में नदियों का जलस्तर बढ़ जाने से सम्पर्क मार्ग बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गए है।

इसके चलते दर्जनों गांवों से लोगों का सम्पर्क कटा हुआ है। सड़कें और पुल बह जाने के चलते अपने घरों तक पहुंचने के लिए स्थानीय लोगों को जान जोखिम में डालकर सफर पूरा करना पड़ रहा है। प्रशासन के दावों के उलट लोगों का आरोप है कि मुसीबत की इस घड़ी में उनका साथ कोई नहीं दे रहा। 

भारी बरसात के चलते नदियों का जलस्तर बढ़ने से जलमग्न हुई सड़कें और पानी की तेज धाराओं के बीच ग्रामीण खुद के आने-जाने के लिए रास्ता तैयार कर रहे हैं। इस वक्त बाढ़ के कहर को झेल रहे मुरादाबाद जनपद में हर कहीं तबाही नजर आती है। रामगंगा समेत दूसरी नदियों का जलस्तर बढ़ने से नदियों का पानी सड़कों पर बह रहा है और ऐसे हालात में गांवों को जोड़ने वाले सम्पर्क मार्ग क्षतिग्रस्त हो चुके हैं। 

 

मुसीबत की इस घड़ी में ग्रामीण प्रशासन की मदद का इंतजार करने के बजाय खुद ही अपने लिए रास्ता बना रहे है। नदी के पानी के बीच खड़े होकर लकड़ियों की मदद से वाहनों और पैदल यात्रियों के लिए पुल तैयार कर रहे हैं। ग्रामीणों को अब यहीं आखिरी रास्ता नजर आ रहा है।

मुरादाबाद से काशीपुर मार्ग को जोड़ने वाले रास्ते पर रामगंगा नदी के पानी के चलते आधा दर्जन से ज्यादा गांव जलमग्न है। इन गांवों में आवागमन का कोई रास्ता नहीं बचा है और गांवों को जोड़ने वाली सड़क पर बनी पुलिया पानी में बह चुकी है।

प्रशासन बाढ़ से हुए नुकसान का आंकलन करने में जुटा होने का दावा कर रहा है लेकिन ग्रामीण जानते है कि प्रशासन की मदद के इंतजार में ना जाने कितने दिन लग जाएंगे।

 

जलमग्न हुई इस सड़क से आधा दर्जन से ज्यादा गांव जुड़े हुए है। बढेरा और चटकाली गांव के बीच तेलीवाला के पास पन्द्रह ग्रामीणों द्वारा बनाये गए लकड़ी के पुल से हर रोज जान हथेली पर लेकर पैदल यात्री और दोपहिया वाहन चालक गुजर रहे है।

लकड़ी के टुकड़ों को आपस में जोड़कर बना यह पुल हादसों का सबब भी बन सकता है लेकिन ग्रामीणों के पास इसके अलावा कोई और विकल्प नजर नहीं आता। 

संबंधित समाचार

:
:
: