Headline • अलीगढ़ : पुलिस ने मीडिया को बुलाकर किया LIVE एनकाउंटर !,परिजनों का आरोप- चार दिन पहले घर से उठाकर लाई थी पुलिस• हमीरपुर : घरों में अचानक आई दरार, प्रशासन ने खाली कराए मकान• अमेठी : लोगों से भरी नाव पलटी,8 निकाले गए,3 लापता, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी • मोहर्रम को लेकर पुलिस-प्रशासन अलर्ट,पूर्व मंत्री राजा भैया के पिता को किया नजरबंद,छावनी में तब्दील हुआ कुंडा• जब अचानक बच्चों को स्कूल में पढ़ाने पहुंच गई डीएम, गंदगी देखकर टीचर्स को लगाई फटकार• पं. दीनदयाल उपाध्याय की हत्या के मामले में हो सकती है CBI जांच• ज्वैलरी शोरूम से 50 लाख के गहने लेकर फरार हुई महिलाएं, सीसीटीवी में कैद हुई वारदात• गाजियाबाद की वसुंधरा कॉलोनी में नहीं रुक रही हैं चोरी की घटनाएं, लॉकर तोड़कर नगदी और लैपटॉप ले उडे़• स्वामी अग्निवेश ने दी आरएसएस प्रमुख को मॉब लिंचिंग पर खुली बहस की चुनौती• SC-ST एक्ट के विरोध में प्रदर्शन करने वाले 12 छात्रों के खिलाफ बीजेपी सांसद ने दर्ज कराई रिपोर्ट• लव, सेक्स एंड धोखा! दूसरे धर्म के युवक ने खुद को मराठी बताकर की शादी, न्याय के लड़की मुंबई से पहुंची मुरादाबाद• महिला के नहाते समय फोटो खींचने पर बवाल, दो पक्षों के बीच जमकर चले लाठी-डंडे, कई घायल• रानीखेत में भारत और अमेरिकी सैनिकों ने किया आतंकवादियों के खात्मे का संयुक्त अभ्यास• मायावती ने की घोषणा, छत्तीसगढ़ में अजीत जोगी की पार्टी से गठबंधन कर चुनाव लड़ेगी बसपा• मैच के बाद पाक कप्तान ने कहा, हम भुवनेश्वर की गेंदों को समझ नहीं पाए• 13 वर्षीय लड़की की जघन्य हत्या के बाद बनारस के एक इलाके में पुलिस के खिलाफ जबर्दस्त रोष• बिग बॉसः जसलिन ने सिंगल बेड लिया तो बगल वाला बेड लेने पहुंच गए अनूप जलोटा• प्रेम विवाह के तीन साल बाद ससुराल पहुंचा, शाम से कोई खोजखबर नहीं... दो दिन बाद मिली लाश•  फौजी के घर पर दबंगों ने किया कब्जा, शिकायत करने पहुंचा तो थानेदार ने थाने से भगाया• नई सरकार आने के बाद भी नहीं बदला पाक सेना का रवैया, बीएसएफ जवान के शव से की बर्बरता, आंख निकाली• मुलायम के पोते तेजप्रताप ने माना, शिवपाल के अलग होने से लोकसभा चुनाव की संभावना पर पड़ेगा प्रभाव• आयुष्मान की 'बधाई हो' का 'बधाईयां तैनू' रिलीज, हंस-हंस कर लोटपोट हो जाएंगे आप• शिक्षा विभाग को नहीं पता अटलजी का जन्म कब हुआ था, स्कूली किताब में गलत डेट डाली• कन्नौज : किशोरी की रेप के बाद हत्या, मनचले के डर से छोड़ दी थी पढ़ाई• रायबरेली के लाल ने किया कमाल, प्री रीजनल मैथमेटिक्स ओलंपियाड में हुआ चयन


बलियाः अब तक आपने मंदिरों में फूलों से पूजा होते देखा है। मगर हम आज आपको बताते हैं कि एक ऐसी अनोखी पूजा होती है, जहां भक्तों के हाथों मे फूल माला नहीं होती है बल्कि लाठी होती है। इन्ही लाठियों से पूजा होती है। 

बलिया जनपद  के रसड़ा थाना क्षेत्र के महाराजपुर गांव में रक्षाबंधन के दिन श्रीनाथ बाबा के मंदिर पर लाखों की संख्या में भक्त अपने अपने हाथों में लाठियां लेकर आते हैं और श्रीनाथ बाबा की लाठियों से पूजा और परिक्रमा करते हैं।  

दरअसल परंपरा के अनुसार,  यहां के किसानों पर अंग्रेजी हुकूमत ने जजिया कर लगा दिया था और इस नए जजिया कर से परेशान किसानों ने श्रीनाथ बाबा से जजिया कर से मुक्त कराने का निवेदन किया था।

तब श्रीनाथ बाबा ने परेशान किसानों को इन्हीं लाठियों के बल पर अंग्रेजों से लड़ कर जजिया कर से मुक्त कराया था। तभी से यहां के सेंगर राजपूतों के लिए ये अनोखी लट्ठ पूजा परंपरा बन गई है। 

हर साल रक्षाबंधन के दिन सैंकड़ों गांवों के लाखों लोग फूलों की जगह लाठियों से पूजा करते आ रहे हैं। इस पूजा में हिन्दू ही नहीं बल्कि मुस्लिम समुदाय के लोग भी हिस्सा लेते हैं।

हजारो की संख्या में लोगों की भीड़ और सभी के हाथों में लाठियां होती हैं। ये दृश्य लड़ाई जैसा दिखती हो  लेकिन वास्तव में ये एक पूजा हो रही है। जहां भक्तो के हाथों में फूलों की जगह लाठियां होती है। 

यह मंदिर श्रीनाथ बाबा का मंदिर है और लाठियों के संग भक्त इसी मंदिर की पूजा के बाद परिक्रमा कर रहे हैं। लठ मार भक्तों के अनुसार बलिया के रसड़ा क्षेत्र के महाराजपुर गांव के इस मंदिर पर ऐसी पूजा यहां की चली आ रही वर्षों पुरानी परंपरा है। 

 

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: