Headline • मसूद अजहर मौत के दरवाजे पर • सुनैना रोशन के ब्वॉयफ्रेंड रुहेल ने रोशन परिवार पर लगाया आरोप • माइकल क्लार्क ने बुमराह और कोहली के बारे में कहा• हफ्ते भर की देरी के बाद मानसून अब  देगा दस्तक  •  राम रहीम ने की पैरोल मांग• रणबीर कपूर और आलिया के रिश्ते पर लग सकती है मुहर • रूस अमेरिका से रिश्ते मधुर करने में जुटा • यूपी के 15 शहरों के लिए राष्ट्रीय हरित अधिकरण (NGT) की चेतावनी • मायावती का अखिलेश पर बड़ा आरोप, अखिलेश के कारण हुई हार• चेन्नई की प्यास बुझाने के लिए चलाई गई स्पेशल ट्रेन• भारत की निगाह बड़ी जीत पर, अफगानिस्तान के खिलाफ विश्व कप में पहली बार भारत• बिहार में मानसून पहुंचने से लोगो ने ली राहत की सांस • एक बार फिर सदन में तीन तलाक के मुद्दे पर तीखी बहस • विश्व कप में अंतिम चार के लिए अपनी दावेदारी मजबूत करने उतरेगा भारत • संकट में कुमारस्वामी की सरकार, एचडी देवगौड़ा ने मध्यावधि चुनाव की आशंका जताई• अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंन्द मोदी का दुनिया को सन्देश। • गौतम गंम्भीर ने साझा किए इमोशनल मैसेज • अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर पीएम मोदी  रांची  में करेगें योग • भारत को आतंक का नया ठिकाना बनाने की फिराख में है ISIS के आतंकी• अमेरिका के इस कदम से, कामकाजी भारतीयों को होगी परेशानी• चुनाव के बाद तेजस्वी कहाँ गायब हो गये है।• 14 साल बाद आया अय़ोध्या आतंकियों पर अदालत का फैसला • फिल्म ‘आर्टिकल 15’ विवादों में घिरती नजर आ रही है • अमरीका और ईरान का खाड़ी में तनाव गहराया • 'एक देश एक चुनाव' से विपक्ष क्यों नाराज


अमेठी: एक तरफ जहां प्रदेश की योगी सरकार करपशन पर लगाम लगाने के लाख दावे कर रही है, वहीं, अधिकारी सुधरने का नाम नहीं ले रहे हैं। अधिकारियों की खाऊ कमाऊ नीति के कारण लोग जान जोखिम में डालकर सफर करने को मजबूर है। प्रदेश के दो जिलों वाराणसी और बस्ती में हुए ओवरब्रिज हादसे में प्रदेश के मुखिया सख्त हुए हो लेकिन इसका असर बाकी जनपदों के अधिकारियों पर होता दिखाई नहीं दे रहा है।

मामला राहुल गांधी के संसदीय क्षेत्र अमेठी का है जहां दो साल पहले बनकर तैयार हुए ओवरब्रिज में बड़े बड़े गड्ढे हो गए हैं। इस कारण पानी भर गया है जिससे कभी भी बड़ी घटना हो सकती है।

दिलचस्प बात ये है कि जिम्मेदार कार्रवाई करने के बजाय मुंह छिपाते नजर आ रहे हैं। सेतु निगम के अधिकारी ने रेलवे की लापरवाही बताकर पूरे मामले से पल्ला झाड़ लिया और कहा कि जो जगह खराब है वो रेलवे द्वारा बनवाया गया है।

अमेठी के जिला मुख्यालय गौरीगंज में सेठा रोड पर समपार संख्या 112 पूर्ववर्ती सपा सरकार में बनकर तैयार हुआ था। चुनाव के पहले कैबिनेट मंत्री गायत्री प्रजापति और राजा भईया की मौजूदगी में इसका उद्घाटन लोक निर्माण मंत्री शिवपाल यादव ने आनन फानन में कर दिया। लेकिन सेतु निगम द्वारा बनाये गये इस ओवरब्रिज ने दो साल में ही विभाग की पोल खोल दी।

हाल ये है कि इस ओवरब्रिज पर बारिश के चलते जगह जगह बड़े बड़े गड्ढे हो गए जिसमे एक फिट से ज्यादा पानी भर गया। जिस जगह ये ओवरब्रिज बना हुआ है। वो शहर के बीचोबीच है और दोनों तरफ जिले के बड़े बड़े अधिकारियों के दफ्तर है।

रोज अधिकारियों का इस वृज पर आना जाना होता है लेकिन किसी ने भी इसे ठीक कराने के लिए सम्बंधित अधिकारियों से बात करने की जहमत तक नहीं उठाई। जब संबंधित अधिकारी से बात की गई तो पहले तो कतराते नजर आये हालांकि बाद में उन्होंने मामले से पल्ला झाड़ लिया और पूरे मामले में रेलवे की लापरवाही बता दी। 

अधिशाषी अभियंता का कहना था कि जिस जगह पानी भरा है वो हमने नहीं बनवाया उसे रेलवे ने बनवाया है। रेलवे द्वारा बनवाये गए जगह पर डैनेज सिस्टम नहीं है जिस कारण पानी भरा है। 

 

संबंधित समाचार

:
:
: