Headline • पाकिस्तान में मुंबई हमले का मास्टर माइंड हाफिज सईद गिरफतार • सावन मास के साथ शुरू हुई कांवड़ यात्रा• एपल भारत में जल्द शुरू करेगी i-phone की मैन्युफैक्चरिंग, सस्ते हो सकते हैं आईफोन• डोंगरी में इमारत गिरने से अबतक 16 लोगो की मौत, 40 से ज्यादा लोगो के मलबे में दबे होने की आशंका : दूसरे दिन भी रेस्क्यू जारी• मुंबई के डोंगरी में 4 मंजिला इमारत गिरी; 2 की मौत, 50 से ज्यादा लोगो के मलबे में फसे होने की आशंका• IAS टोपर को किया ट्रोल, मिला करारा जवाब • देर रात देखिये चंद्रग्रहण का नजारा, लाल नज़र आएगा चाँद • बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान ने भारत के लिए खोले बंद हवाई क्षेत्र ।• महिला सांसदों पर किये गए टिपण्णी से घिरे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प• सुप्रीम कोर्ट ने की आसाराम की जमानत याचिका खारिज • धोनी को संन्यास देने की तयारी में है चयनकर्ता, बहुत जल्द कर सकते है फैसला • तकनीकी कारणों की वजह से 56 मिनट पहले रोकी गयी चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग, इसरो ने कहा - जल्द नई तरीक करेंगे तय • भविष्य के टकराव ज्यादा घातक और कल्पना से परे होंगे : सेना प्रमुख जनरल विपिन रावत • इसरो के चेयरमैन ने बताई चंद्रयान-2 मिशन के लांच होने की तरीक, चाँद पर पहुंचने में लगेगा 2 महीने का समय • झाऱखंड के स्वास्थ मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी का रिशवत लेते वीडीयो वायरल, पुलिस ने की FIR दर्ज • राफेल भारत के लिए रणनीतिक तौर पर बेहद अहम साबित होगी : एयर मार्शल भदौरिया• उत्तराखंड : विधायक प्रणव सिंह चैंपियन BJP से बहार • चारा घोटाला मामले में लालू को मिली जमानत• आइटी पेशेवरों के लिए अमेरिका से अच्छी खबर• कर्नाटक संकट : बागी विधायक बोले इस्तीफे नहीं लेंगे वापस• 'अब बस' जाने क्या है मामला• सबाना के सपोर्ट में स्वरा• कर्नाटक का सियासी संग्राम जारी • भारत और न्यूजीलैंड का 54 ओवर का खेल आज• भारत बनाम न्यूजीलैंड


वाराणसीः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी को स्मार्ट सिटी बनाने की कवायद बड़े जोर शोर से चल रही है लेकिन प्रधानमंत्री के इस स्मार्ट सिटी के सपने को तोड़ने का काम कर रहे हैं बनारस में बेकाबू हो चुके जानवर। यहीं वजह है कि कभी सांड के हमले से किसी की मौत हो जा रही है तो कभी बंदरों के हमले की वजह से बच्चों की जान पर खतरा मंडराने लग रहा है। 

ताजा मामला रविवार की शाम उस वक्त सामने आया जब पॉश कॉलोनी सुंदरपुर नेवादा में अपने नाना के घर गया 11 साल का कक्षा 7 में पढ़ने वाले शुभांकर मुखर्जी को रास्ते में दो दर्जन से ज्यादा बंदरों से घेर लिया। 

हालात इतने बेकाबू हो गए कि लगभग 10 मिनट तक शुभांकर को बंदर नोचते रहे और वह उनसे संघर्ष करता रहा। हालांकि बाद में स्थानीय लोगों की नजर पड़ी तो बंदर वहां से भाग खड़े हुए लेकिन बंदरों के हमले से 11 साल का मासूम बुरी तरह से जख्मी है और उसका इलाज चल रहा है।

घायल शुभांकर के पिता सुमित कुमार मुखर्जी ने बताया कि रविवार को वह शहर के प्रतिष्ठित रिहायशी कालोनी गणेशधाम नेवादा, सुन्दरपुर वाराणसी अपने ससुराल में अपने अस्वस्थ ससुर को देखने गए थे।

करीब 4 बजे अचानक घर के बाहर शोरगुल सुन हम लोग बाहर निकले तो पता लगा कि मेरा बड़ा बेटा घर के बच्चों के साथ कालोनी में स्थित दुकान से अपनी दो बहनों संग चिप्स लेने गया था और वहां से लौटते समय बहुत सारे बंदर उसके हाथ में पैकेट देखकर उस पर एक साथ टूट पड़े। सुमित ने बताया कि शुभांकर अकेले उनसे जुझता रहा। जिससे वह बुरी तरह से घायल हो गया। 

बनारस में जानवरों के हमले की ये कोई पहली घटना नहीं है। एक माह पहले ही महमूरगंज इलाके में सांड के हमले से एक ग्रेजुएशन की छात्रा जख्मी हुए और एक सप्ताह बाद उसकी मौत हो गई। इसके पहले भी चेतगंज के कलिमहाल इलाके में बंदर के दौड़ाने की वजह से एक बच्चा छत से गिर कर जख्मी हो चुका है। जिसके बाद अब सवाल यह उठता है कि शहर बनारस तेजी से बढ़ रहा है जानवरों के आतंक से लोग कैसे महफूज होंगे। 

संबंधित समाचार

:
:
: