Headline • रूस के वैज्ञानिकों का दावा 42 हजार साल पहले दफन घोड़े में मिला खून, अब बनाएंगे क्‍लोन • दिनोंदिन आलिया भट्ट और रणबीर कपूर का मजबूत होता रिश्‍ता रह सकते है लिव-इन पर • पश्चिम बंगाल में वोटिंग के दौरान बीजेपी-टीएमसी कार्यकर्ताओं के बीच हुई हिंसा • लीबिया की राजधानी त्रिपोली में गृहयुद्ध की जंग में 205 की मौत, 913 के करीब घायल • लोकसभा चुनाव 2019 के दूसरे चरण की 95 सीटों पर वोटिंग जारी• PM मोदी की फिल्‍म 'पीएम नरेंद्र मोदी' का ट्रेलर यूट्यूब से हटा • साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर बीजेपी में हुई शामिल • फ्रांस की राजधानी पेरिस में स्थित 12वीं सदी का नोटे्र डाम कैथेड्रल चर्च आग लगने से तबाह • प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने महाराष्ट्र के माढा क्षेत्र में एक जनसभा को किया संबोधित • जयाप्रदा पर अभद्र टिप्पणी को लेकर महिलाओं ने फूंके आजम खा के पोस्टर• चुनाव आयोग के फैसले को आजम के बेेटे अब्दुल्लाह आजम खान ने मुुुुसलमान विरोधी ठराया • कांग्रेस के इरादे और नीतियां ईमानदार नही धोखाधड़ी में की है पीएचडी: पीएम मोदी• बीजेपी ने गोरखपुर से भोजपुरी स्टार रवि किशन को दिया टिकट• योगी आदित्यनाथ और मायावती पर चुनाव आयोग की कार्यवाही • भारत ने विश्व कप टीम 2019 की घोषणा की, दिनेश कार्तिक इन, ऋषभ पंत और अंबाती रायडू लेफ्ट आउट• UAE के बाद अब रूस देगा पीएम मोदी को सर्वोच्च नागरिक सम्मान • केजरीवाल का PM मोदी को लेकर विवादित ट्वीट• भारतीय सेना और जवानों की चिट्ठी का मामला गर्माया • राहुल गांधी की सुरक्षा में बड़ी चूक कांग्रेस ने लिखा गृहमंत्री राजनाथ सिंह को पत्र• बीजेपी विधायक के बिगड़े बोल राहुल गांधी नर्सरी का छात्र मोदी जी राजनीति के P.H.D • रैली के दाैैैरान अखिलेश यादव करेंगेे जनसभा कों संबोधित • भाजपा विधायक कुंवर प्रणव सिंह चैम्पियन फिर एक बार विवादों में • सांसद प्रियंका सिंह रावत का टिकट कटने से आक्रोशित उनके हज़ारो समर्थक• चुनाव आयोग और राजनीतिक दलों की तैयारी पूरी इंतजार 11 अप्रैैैल का• राहुल गांधी तो चुनाव ही नही जीत रहे, तो वो प्रधानमंत्री कहाँ से बनेंगे: मेनका गाँधी


Whatsapp पर जल्द ही बैन लग सकता है। यूनाइटेड किंगडम के प्रधानमंत्री डेविड कैमरून का कहना है कि, वह अगर वो दोबारा प्रधानमंत्री बनते हैं, तो Whatsapp और iMessage जैसे चैटिंग एप्लिकेशन को बैन कर देंगे।

कैमरून का मानना है कि, इन एप्लिकेशन का इस्तेमार लोग गलत कामों के लिए भी करते हैं। ऐसे में इन एप्लिकेशन के जरिए होने वाली बातचीत पर नजर रखना सिक्योरिटी सर्विसेज के लोगों के लिए काफी मुश्किल साबित हो रहा है। ऐसे में इन एप्लिकेशनों पर बैन लगाया जाना ही सही है।

कैमरून ने कहा, मैंने यह फैसला पेरिस में हुए हमले को ध्यान में रखकर किया है।

वहीं दूसरी तरफ कैमरून के इस फैसले का कई प्राइवेसी ग्रुप्स ने विरोध किया है। उनका कहना है कि सिक्योरिटी के नाम पर लोगों के प्राइवेसी के साथ खिलवाड़ नहीं होना चाहिए। प्राइवेसी ग्रुप्स का ये भी कहना है कि कई देशों में ऐसे एप्लिकेशन का इस्तेमाल सुरक्षा की दृष्टि से भी किया जाता है।

संबंधित समाचार

:
:
: