Headline • महिला सांसदों पर किये गए टिपण्णी से घिरे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प• सुप्रीम कोर्ट ने की आसाराम की जमानत याचिका खारिज • धोनी को संन्यास देने की तयारी में है चयनकर्ता, बहुत जल्द कर सकते है फैसला • तकनीकी कारणों की वजह से 56 मिनट पहले रोकी गयी चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग, इसरो ने कहा - जल्द नई तरीक करेंगे तय • भविष्य के टकराव ज्यादा घातक और कल्पना से परे होंगे : सेना प्रमुख जनरल विपिन रावत • इसरो के चेयरमैन ने बताई चंद्रयान-2 मिशन के लांच होने की तरीक, चाँद पर पहुंचने में लगेगा 2 महीने का समय • झाऱखंड के स्वास्थ मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी का रिशवत लेते वीडीयो वायरल, पुलिस ने की FIR दर्ज • राफेल भारत के लिए रणनीतिक तौर पर बेहद अहम साबित होगी : एयर मार्शल भदौरिया• उत्तराखंड : विधायक प्रणव सिंह चैंपियन BJP से बहार • चारा घोटाला मामले में लालू को मिली जमानत• आइटी पेशेवरों के लिए अमेरिका से अच्छी खबर• कर्नाटक संकट : बागी विधायक बोले इस्तीफे नहीं लेंगे वापस• 'अब बस' जाने क्या है मामला• सबाना के सपोर्ट में स्वरा• कर्नाटक का सियासी संग्राम जारी • भारत और न्यूजीलैंड का 54 ओवर का खेल आज• भारत बनाम न्यूजीलैंड• कर्नाटक संकट का असर राज्यसभा में• अहमदाबाद की अदालत  में राहुल गांधी• व्हाइट हाउस में भरा बारिश का पानी • क्या अनुपमा परमेसरन को डेट कर रहे जसप्रीत बुमराह• पाकिस्तान को आंख दिखाता नाग• यूएई और भारत के बीच द्विपक्षीय सहयोग बढ़ाने पर होगी बात• कर्नाटक में सियासी संकट• सभी चोरों का उपनाम मोदी क्यों है: राहुल गांधी


कैबिनेट ने ई-रिक्शा और ई-कार्ट्स को मंजूरी दे दी है, क्योंकि मंगलवार को खत्म हुए शीतकालीन संसद सत्र में मोटर वीइकल्स अमेंडमेंट बिल पास नहीं हो सका था। बता दें कि केंद्र सरकार ने ई-रिक्शा को मोटर वीइकल्स के तौर पर लेने के लिए ऑर्डिनेंस रूट का सहारा लिया है, जिससे अब उन्हें कानूनी रूप से सड़कों पर चलने की इजाजत होगी।

संशोधित कानून के मुताबिक ई-रिक्शा में केवल चार यात्रियों को बैठने की इजाजत होगी। साथ ही वह 40 किलो से ज्यादा सामान नहीं ले जा सकेंगे। नए नियमों के मुताबिक ई-रिक्शा के मोटर का पावर 2,000 वाट से ज्यादा और इसकी स्पीड 25 किलोमीटर प्रति घंटे से अधिक नहीं होगी। इसके अलावा, ई-रिक्शा और ई-कार्ट्स को रजिस्ट्रेशन मार्क डिस्प्ले करने से जुड़ी सभी जरूरतों, लेटर्स के साइज, ट्रांसफर ऑफ ओनरशिप, सर्टिफिकेट ऐंड फिटनेस की वैधता का पालन करना होगा।

संशोधित नियमों के मुताबिक अब राज्य सरकारें इन वीइकल्स को रजिस्टर करेंगी। बता दें कि इन वीइकल्स में से ज्यादातर दिल्ली, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल और महाराष्ट्र में ही चल रहे हैं। ई-रिक्शा और ई-कार्ट्स को अब ऑटोमोबाइल लैंप, व्हील रिम्स, इंस्टॉलेशन, लाइटिंग और लाइट सिग्नलिंग डिवाइसेज के परफॉर्मेंस के मामले में ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री के स्टैंडर्ड्स का पालन करना पड़ेगा।

संबंधित समाचार

:
:
: