Headline • मेघालय, कोयला खदान से 35 दिनों के बाद 200 फीट की गहराई से निकला मजदूर का शव • भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को स्वाइन फ्लू, एम्स में चल रहा इलाज • रुपये में मजबूती शेयर बाजार 36 हजार के पार• World Bank के प्रमुख पद की दावेदार में इंद्रा नूई का नाम आगे • कर्नाटक में राजनीतिक उठा-पटक, कांग्रेस ने 18 को बुलाई विधायकों की बैठक• विश्व हिंदू परिषद के पूर्व अध्यक्ष राम जन्मभूमि मार्गदर्शक मंडल के सदस्य विष्णु हरि डालमिया का निधन• भदोही में एक निजी स्कूल वैन में लगी आग, 19 बच्चे झुलसे• मथुरा के यमुना एक्सप्रेस वे पर, रफ्तार का कहर 3 की मौत• जहरीली शराब कांड का इनामी बदमाश कानपुर पुलिस की गिरफ्त में• गाजियाबाद में स्वाइन फ्लू की दस्तक, स्वास्थ्य विभाग अलर्ट• प्रयागराज में हर्ष फायरिंग दौरान, एक को लगी गोली• पेट्रोल-डीजल के दामों ने फिर दिया झटका, क्या रहे आपके शहर के दाम• RRB ग्रुप डी आंसर की जारी 14 से 19 जनवरी तक दर्ज कराएं अपनी आपत्ति• सवर्णों को 10% आरक्षण बिल को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती• अयोध्या विवाद संवैधानिक बेंच से जस्टिस यूयू ललित हटे, 29 जनवरी को फिर से होगी सुनवाई• जम्मू-कश्मीर के आईएएस शाह फ़ैसल ने अपने ट्विटर अकाउंट के जरिए इस्तीफ़ा देने का किया ऐलान I• हाई पावर कमेटी आलोक वर्मा पर आगे का फैसला लेगी। कमेटी में कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़के व जस्टिस एके सीकरी उपस्थित रहेंगे।• सीएम योगी से मिलने के बाद बोलीं विवेक तिवारी की पत्नी- सरकार पर भरोसा और बढ़ गया• राजकपूर की पत्नी कृष्णा राज कपूर का 87 साल की उम्र में निधन• गाजियाबाद: आपसी झगड़े में BSF जवान ने दूसरे को मारी गोली, एक की मौत• लखनऊ शूटआउट : विवेक तिवारी की पत्नी ने सीएम योगी से की मुलाकात• लखनऊ : कारोबारी के घर लाखों की डकैती, वारदात के बाद दंपती को बाथरूम में बंद कर फरार हुए नकाबपोश बदमाश • मुजफ्फरनगर : युवती का अपहरण कर रेप, जंगल में फेंककर हुए फरार• विवेक तिवारी हत्याकांड पर बीजेपी विधायक ने उठाए सवाल, सीएम योगी को लिखा पत्र• विवेक तिवारी हत्याकांड:CM योगी ने पीड़ित परिवार से फोन पर की बात,हर संभव मदद करने का दिया भरोसा

1 जनवरी तक बदले लें 500 और 1000 रुपये के नोट

नए साल के आने में कुछ दिन ही बचे हैं, इसलिए जल्द जल्द से 2005 से पहले छपे नोटों को अगले साल 1 जनवरी से पहले ही बदलवाना होगा। आरबीआई का कहना है कि जिन लोगों के पास अभी पुराने नोट हैं, वे उन्हें जल्द ही बदल लें।

फिलहाल अभी तक रिजर्व बैंक ने द्वारा 52,855 करोड़ रुपये मूल्य के 144.66 करोड़ कटे-फटे नोटों को ही बदला गया है। आपको बताते कि आरबीआई ने जाली नोटों को रोकने के उद्देश्य से यह डिसीजन लिया था। आरबीआई का मानना है कि 2005 के बाद छापे गये नोटों में सुरक्षा के पर्याप्त उपाय किये गये हैं, जिससे इनके परिचालन में कोई दिक्कत नहीं होगी। ऐसे नोटों के लेनदेन में कस्टमर्स इनका बखूबी इस्तेमाल कर सकते हैं।

गौरतलब है कि, आरबीआई ने इस साल 22 जनवरी को ऐसे नोटों को एक अप्रैल से वापस लेने की घोषणा करते हुये कहा था कि लोग बैंक में जाकर इन्हें बदलना शुरु कर दें। बताया जा रहा है कि साल 2005 से पहले छापे गये नोटों के पीछे उसकी प्रिन्टिंग डेंट नहीं लिखी होती थी। हालांकि बैंक ने इस सिस्टम को तुरंत मॉडिफाई करते हुये इसके बाद छापे गये नोटो में प्रिन्टिंग डेट की व्यवस्था की है।

संबंधित समाचार

:
:
: