Headline • नाना पाटेकर को क्लिन चिट मिलने पर तनुश्री दत्ता ने कहा• बीजेपी, टीएमसी के बाद अब बंगाल में कांग्रेस का नाम भी आया राजनीतिक हिंसा में• आगामी भारत और पाकिस्तान के मैच में कैसा रहेगा, मैनचेस्टर में मौसम का मिजाज• मांगो को मानने के लिए ममता सरकार को 48 घंटे का डॉक्टरों ने दिया अल्टिमेटम• इतनी फिल्मे करने के बाद भी क्यों सलमान खान को लगता है समीक्षको से डर !• भारत और इंग्लैड के बीच होगा फाइनल मैच: गूगल सीईओ सुन्दर पिचाई• बीजेपी के सहयोगी नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू बजट सत्र में करेगी तीन तलाक का विरोध • 'टिकटॉक' विडियों बनाने के चक्‍कर में सलमान को लगी गोली, 2 युवक पहुंचे जेल • लोक सभा के बाद अमित शाह ने हरियाणा विजय की खास रणनीति बनाई• घट सकती है दिल्ली मेट्रों का किराया, 30 लाख से अधिक यात्रियों को फायदा• चक्रवाती तूफान 'वायु' ने अपना रास्ता बदला लेकिन एजेंसियां अलर्ट पर अभी खतरा बाकी है • महेंद्र सिंह धोनी के सेना के 'बलिदान बैज' वाले दस्तानों पर बहस तेज• अफगानिस्तान सेना के दस्ते ने आतंकी संगठन तालिबान की जेल से छुड़ाए 83 नागरिक• जगन मोहन रेड्डी ने पलटा चंद्रबाबू सरकार का फैसला, अब आंध्र प्रदेश में CBI कर सकेगी जांच• नमाज के दौरान बेकाबू कार ने भीड़ को मारी टक्‍कर हुआ हगामा • गृह मंत्रालय का प्रभार संभालते ही बीजेपी चीफ अमित शाह ऐक्शन में, जम्मू-कश्मीर में परिसीमन आयोग पर विचार• मायावती की सपा-बसपा प्रेस कॉन्‍फ्रेंस के बाद अब अखिलेश ने तोड़ी चुप्पी, 'सभी सीटों पर अकेले लड़ेंगे उपचुनाव'• लोकसभा चुनाव प्रदर्शन से नाखुश बसपा बसपा सुप्रीमो मायावती का बड़ा फैसला, अब लड़ेगी सभी उपचुनाव • अमेरिका को चीन की युद्ध की धमकी से पड़ोसी देश चिंतित • भारतीय वायुसेना का एएन-32 विमान लापता, वायुसेना का सर्च ऑपरेशन जारी • अमेरिका ने भारत को GSP दर्जे से किया बाहर • देश में भीषण गर्मी का कहर, दिल्‍ली मे रेड अलर्ट जारी • इलाहाबाद विश्‍वविद्यालय के बाद अब लखनऊ विश्‍वविद्यालय में पढ़ाया जाएगा अनुच्‍छेद 370• जम्‍मू-कश्‍मीर में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ में दो आतंकी ढेर• मोदी सरकार में अमित शाह गृहमंत्री, राजनाथ होंगे रक्षा मंत्री, निर्मला सीतारमन बनीं वित्‍त मंत्री

बिहार में तूफान से 49 की मौत, नीतीश ने की 4-4 लाख देने की घोषणा

पटना- बिहार के कई जिलों में मंगलवार रात आए तूफान से 49 लोगों की मौत हो गई और सैकड़ों लोग घायल हो गए। तूफान से कई मकान नष्ट हो गए और फसल को भी नुकसान हुआ है। इसमें आम और लीची भी शामिल है। राज्य सरकार ने मृतकों के परिजनों को चार-चार लाख की क्षतिपूर्ति राशि देने का ऐलान किया है। वहीं, गंभीर रूप से घायलों को तत्काल में 4500-4500 रुपये की मदद दी जाएगी।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बुधवार को तूफान प्रभावित पूर्णिया व आसपास के इलाकों का हवाई सर्वेक्षण किया। उन्होंने पूर्णिया प्रमंडल स्थित अररिया कटिहार, किशनगंज व पूर्णिया के डीएम के साथ बैठक भी की। शाम को उन्होंने पूर्णिया, दरभंगा, किशनगंज, कटिहार, मधुबनी, सहरसा, सुपौल, मधेपुर, अररिया व भागलपुर जिले के जिलाधिकारियों के साथ वीडियो कान्फ्रेंसिंग कर फसलों के हुए नुकसान का आकलन करने का निर्देश दिया। उन्होंने केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह से बात कर उन्हें पूरी जानकारी दी है। केंद्र ने हर संभव मदद की बात कही है। मुख्यमंत्री गुरुवार को भागलपुर प्रमंडल के जिलाधिकारियों के साथ बैठक करेंगे।

बिहार आपदा प्रबंधन विभाग के मुख्य सचिव व्यासजी ने बुधवार को बताया कि पूर्णिया जिले में सर्वाधिक 30 लोगों की मौत की खबर है। इसके अलावा मधेपुरा में सात, मधुबनी में पांच, दरभंगा में तीन, सीतामढ़ी में दो और सुपौल व कटिहार में एक-एक की जान गई। तूफान में कई मवेशी भी मारे गए हैं। साथ ही कई पेड़ उखड़ गए। आम, लीची, सहित गेहूं और मक्का की फसल भी खराब हो गई। कई जिलों में बिजली की लाइनें क्षतिग्रस्त हो गईं और हजारों मकान और झोपड़ें नष्ट हो गए।। इन जिलों में सड़क परिवहन भी प्रभावित हुआ।

राज्य सरकार ने आपदा राहत कोष से मृतकों के परिजनों को चार-चार लाख रुपये की क्षतिपूर्ति राशि देने का ऐलान किया, जबकि गंभीर रूप से घायलों को तत्काल में 4500-4500 रुपये की मदद देने की बात कही गई है। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से यह राशि 24 घंटे में प्रभावित लोगों तक पहुंचाने के निर्देश दिए हैं।

तूफान की गति को लेकर अलग-अलग दावे किए गए। चूनापुर हवाई अड्डे के विंग कमांडर निशांत शर्मा के मुताबिक तूफान की गति लगभग 200 किलोमीटर प्रति घंटा थी। तूफान इतना तेज था कि पूर्णिया स्थित एयर फोर्स स्टेशन का कंट्रोल टॉवर भी क्षतिग्रस्त हो गया। हालांकि, पटना में भारतीय मौसम विभाग के निदेशक आरके गिरी के अनुसार, नेपाल की ओर से आए इस तूफान के दौरान हवाओं की गति करीब 65 किलोमीटर प्रति घंटा थी।

बिहार के पूर्णिया, मधेपुरा, सहरसा, मधुबनी, समस्तीपुर और दरभंगा में आए भीषण तूफान की वजह से हजारों पेड़ उखड़ गए, बिजली की लाइनें क्षतिग्रस्त हो गईं, हजारों मकान और क्षोपड़े नष्ट हो गए तथा मक्का, गेहूं और दालों की खड़ी फसलों को नुकसान पहुंचा। व्यासजी ने बताया कि जिलों में सड़क परिवहन भी प्रभावित हुआ क्योंकि तूफान की वजह से कई पेड़ उखड़ कर सड़कों पर गिर गए।

संबंधित समाचार

:
:
: