Headline • महिला सांसदों पर किये गए टिपण्णी से घिरे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प• सुप्रीम कोर्ट ने की आसाराम की जमानत याचिका खारिज • धोनी को संन्यास देने की तयारी में है चयनकर्ता, बहुत जल्द कर सकते है फैसला • तकनीकी कारणों की वजह से 56 मिनट पहले रोकी गयी चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग, इसरो ने कहा - जल्द नई तरीक करेंगे तय • भविष्य के टकराव ज्यादा घातक और कल्पना से परे होंगे : सेना प्रमुख जनरल विपिन रावत • इसरो के चेयरमैन ने बताई चंद्रयान-2 मिशन के लांच होने की तरीक, चाँद पर पहुंचने में लगेगा 2 महीने का समय • झाऱखंड के स्वास्थ मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी का रिशवत लेते वीडीयो वायरल, पुलिस ने की FIR दर्ज • राफेल भारत के लिए रणनीतिक तौर पर बेहद अहम साबित होगी : एयर मार्शल भदौरिया• उत्तराखंड : विधायक प्रणव सिंह चैंपियन BJP से बहार • चारा घोटाला मामले में लालू को मिली जमानत• आइटी पेशेवरों के लिए अमेरिका से अच्छी खबर• कर्नाटक संकट : बागी विधायक बोले इस्तीफे नहीं लेंगे वापस• 'अब बस' जाने क्या है मामला• सबाना के सपोर्ट में स्वरा• कर्नाटक का सियासी संग्राम जारी • भारत और न्यूजीलैंड का 54 ओवर का खेल आज• भारत बनाम न्यूजीलैंड• कर्नाटक संकट का असर राज्यसभा में• अहमदाबाद की अदालत  में राहुल गांधी• व्हाइट हाउस में भरा बारिश का पानी • क्या अनुपमा परमेसरन को डेट कर रहे जसप्रीत बुमराह• पाकिस्तान को आंख दिखाता नाग• यूएई और भारत के बीच द्विपक्षीय सहयोग बढ़ाने पर होगी बात• कर्नाटक में सियासी संकट• सभी चोरों का उपनाम मोदी क्यों है: राहुल गांधी


चित्रकूटः कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने मध्यप्रदेश के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ और सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ कामतानाथ मंदिर के दर्शन किए। पितृपक्ष के दौरान चित्रकूट में पूजा करने का खास महत्व है।

कहा जाता है कि भगवान राम ने अपने पिता दशरथ के लिए चित्रकूट में ही श्राद्ध किया था। इस बार पितृपक्ष 25 सितंबर से शुरू हो गया है।  मान्यता है कि पितृपक्ष में कामदगिरि दर्शन व परिक्रमा से पूर्वजों की शक्तियां व्यक्ति में निहित हो जाती हैं।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी 2016 में भी कामतानाथ के दर्शन कर चुके हैं। राहुल के चित्रकूट पहुंचने पर उन्हें रामभक्त के तौर पर पेश किया। राहुल के स्वागत में लगाए गए पोस्टर इस बात की गवाही भी दे रहे हैं।

इससे पहले भोपाल दौरे पर उन्हें शिवभक्त के तौर पर बताया गया था। राहुल गांधी ने राजौला गांव में नुकड़ सभा को किया संबोधित किया। देर से पहुंचने पर जनता से मांगी क्षमा भी मांगी।

यहां भी राहुल गांधी पीएम मोदी पर जमकर बरसे। उन्होंने कहा कि देश के चौकीदार ने देश के लोगों को धोखा दिया है। झूठ बोला और भरोसा तोड़ा है। मोदी जी देश का चौकीदार बनने का वादा करके आए थे। पर दो करोड़ बेरोजगार युवाओं को 4 साल में कुछ नहीं दिया। गुजरात में सरदार पटेल की मूर्ति चाइना से बनवा रहे हैं और चाइना के लोगों को रोजगार दे रहे हैं।

राहुल ने कहा कि यूपीए की सरकार के समय एक जहाज की कीमत 526 करोड़ थी। मेरे द्वारा संसद में पूछा गया कि 526 करोड़ का जहाज कितने में खरीदा गया तो दाम नही बता रहे। कहा कि फ्रांस से सीक्रेट पैक्ट है। फ्रांस के राष्ट्रपति ने कहा दाम पर कोई सीक्रेट पैक्ट नही है। मोदी जी मुझसे और देश से नजरे नहीं मिला पाए। इधर उधर देखते रहे। 526 करोड़ की जगह 1600 करोड़ का जहाज खरीदा। 

उन्होंने कहा कि 5 साल में मेड इन चित्रकूट, मध्यप्रदेश सामानों का नाम होगा। 

शामली। हमेशा सुर्खियों में रहने वाली यूपी पुलिस का एक और अजीबोगरीब कारनामा सामने आया है। पुलिस ने एक 5 साल के मासूम को अपराधी बना दिया है। पुलिस ने बिना जांच-पड़ताल किए ही मासूम के खिलाफ मारपीट की धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है।

मासूम पर मुकदमा दर्ज होने के बाद से पीड़ित परिवार दहशत में है। यहीं नहीं पुलिस मासूम की गिरफ्तारी के लिए भी लगातार पीड़ितों के घर दबिश भी दे रही है। जिसको लेकर पीड़ित परिवार ने प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से न्याय की गुहार लगाई है।

दरअसल पूरा मामला जनपद शामली के कांधला थाना क्षेत्र के गांव खंदावली का है, जहां गत 12 सितंबर को दो पक्षों के बीच मामूली विवाद को लेकर विवाद हो गया था। जिसके बाद एक पक्ष ने दूसरे पक्ष के खिलाफ मारपीट का आरोप लगाते हुए कांधला थाने में मुकदमा दर्ज कराया था। 

वहीं विनोद पक्ष का आरोप है कि महिपाल पक्ष ने उनके परिवार के चार लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया था। जिनमें 5 वर्ष के मासूम अक्षय को भी आरोपी बना कर मुकदमा दर्ज करा दिया गया। विनोद का आरोप है कि पुलिस ने इस मामले में लापरवाही बरतते हुए मेरे परिवार के ऊपर बिना जांच-पड़ताल के ही 5 वर्ष के पुत्र समेत मेरे दो अन्य नाबालिग बेटी मुकदमा दर्ज करा दिया है।

यहीं नहीं पुलिस उनकी गिरफ्तारी के लिए रात के समय मे लगातार घर पर दबिश दे रही हैं। उन्होंने कांधला थाना प्रभारी अनिल कुमार सिंह पर गम्भीर आरोप लगाए हैं। पीड़ित परिवार ने प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से गुहार लगाई है कि इस मामले की निष्पक्ष जांच कराई जाए और लापरवाह थाना प्रभारी के खिलाफ कार्रवाई की गुहार लगाई है।

विनोद का कहना है कि यदि उनके परिवार को न्याय नहीं मिला और इस पूरे मामले की सही जांच नहीं हुई तो उनका पूरा परिवार गांव से पलायन करेंगे।

एडिशनल एसपी अजय प्रताप सिंह ने इस मामले में जांच कराकर मासूम बच्चे का नाम निकलवाए जाने की बात कही है। 

हरदोईः  यहां के बेनीगंज कोतवाली क्षेत्र से पेट पालने व चंद रुपयों की खातिर अपना देश छोड़कर दूसरे देश सऊदी अरब में मजदूरी करने गए युवक के शव को दिलाने के लिए एक महिला डीएम की चौखट पर पहुंची।

महिला का आरोप है कि उसके पति की वहां दो वक्त की रोटी तक न मिलने के चलते मौत हो गई है। अब उसके पति के शव को भी उसे नहीं सौंपा जा रहा है। परिजनों ने बताया कि उनको बताया गया है कि युवक की वहां पर मौत हो भी हो गई है।

अब उसका परिवार विदेशमंत्री और प्रधानमंत्री से उसके शव को स्वदेश भेजने की मांग कर रहा है। लेकिन उसके गरीब परिवार की पहुंच सिर्फ डीएम तक ही है। वहीं इस पूरे प्रकरण में सूबे की राजधानी लखनऊ का भी एक युवक शामिल है। जिसे विदेश भेजने वाला एजेंट बताया जा रहा है।

डीएम की चौखट पर पहुंची महिला हरदोई जिले के बेनीगंज थाना क्षेत्र के उमरारी गांव निवासी वसीम अली उम्र करीब 45 वर्ष की पत्नी खलीफा बानो हैं। डीएम को दी गयी अपनी दरख्वास्त में उसने कहा है कि घर में बेहद गरीबी के चलते बीते एक वर्ष पूर्व उसका पति नौकरी के लिए सऊदी अरब गया था।

बताया गया कि लखनऊ के भठौली चैराहा निवासी एजाज नाम के युवक ने उसे विदेश भेजने का ठेका लिया था। उसने वहां पर अच्छी जगह पर नौकरी दिलवाने की बात कही थी। आरोप है कि इस पर एजेंट ने डेढ़ लाख रुपए भी लिए। 

युवक को रियाद सउदी अरब भेजा गया जहां पर वह किसी सालिम सउद अलकहतवानी नाम के युवक के पास ऊंट चराने की नौकरी करने लगा। पत्नी का आरोप है कि उसके पति ने कई बार फोन करके बताया कि उसे मालिक खाना तक नहीं दे रहा है।

इसी के चलते बीते शुक्रवार को उसकी वहां पर मौत हो गई। जिसकी जानकारी वसीम के साथियों ने पत्नी खलीफा को फोन से दी। इस पर घर में मातम छाया हुआ है।

खलीफा को अब जहां अपने तथा परिवार में तीन बच्चों के भरण पोशण की चिंता सता रही है तो वहीं वह अपने शौहर की लाश तक नहीं देख पा रही है। बेहद गरीब तबके से होने की वजह से सभी विदेश मंत्रालय तक नहीं पहुंच सकते इसके लिए मंलगवार को एक प्रार्थना डीएम को दिया गया। जिसमें अपने पति की लाश को स्वदेश वापस कराए जाने की मांग की गई। 

 

नैनीतालः देहरादून में भाऊवाला स्कूल में 10 की छात्रा के साथ सामूहिक दुष्कर्म और दून अस्पताल में जच्चा बच्चा की मौत के मामले को नैनीताल हाईकोट ने स्वतः संज्ञान लेते हुए प्रदेश के मुख्य सचिव को मामले की जल्द से जल्द जांच पूरी करने के आदेश दिए हैं। 

साथ ही हाईकोर्ट ने बच्चों में बढ़ रही पोर्न साइट की लत को गंभीरता से लेते हुए सरकार को इसे रोकने के लिए उपाय करने को कहा है।

कार्यकारी मुख्य न्यायाधीश राजीव शर्मा और न्यायाधीश मनोज कुमार तिवारी की खंडपीठ ने केंद्र सरकार को देश भर में 859 पोर्न वैबसाईटों को बंद करने के आदेश दिए हैं।

साथ ही कोर्ट ने इन्टरनेट सर्विस प्रोवाईडरों आईएसपी को भी आदेश दिए हैं कि वो केन्द्र सरकार की सूची के आधार पर पोर्न वैब-साईट को बंद करें ताकि बच्चों के मन में गलत प्रभाव ना पढें। लगातर बढ़ रही रेप समेत अन्य घटनाओं को रोका जा सके और बच्चों के मन साफ रह सके।

आपको बता दें कि देहरादून के भाऊवाला में स्कूल में छात्रा के साथ सामूहिक दुष्कर्म एवं गर्भपात कराए जाने तथा दून अस्पताल में उपचार नहीं मिलने की वजह से एक जच्चा-बच्चा की मौत हो गई थी, जिसे नैनीताल हाईकोर्ट ने स्वतः संज्ञान में लिया था।

कोर्ट द्वारा मामले को संज्ञान में लेने के बाद सरकारी पक्ष द्वारा मामलों में की गई कार्रवाई का ब्यौरा जुटाया था। 

वहीं सरकार ने भी जीआरडी स्कूल में छात्रा के साथ हुए गैगरेप को गंभीरता से लेते हुए स्कूल की मान्यता को रदद कर दिया।

अल्मोड़ाः यहां के रैमेजे इंटर कालेज के सभागार में स्व. शमशेर सिंह बिष्ट की याद में एक श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया। सभा में उत्तराखण्ड के विभिन्न जनपदों से आए जनवादी एवं आन्दोलकारियों ने इकठ्ठा होकर स्वर्गीय शमशेर सिंह बिष्ट को याद कर उन्हें श्रद्धांजलि दी।

इस अवसर पर स्व. शमशेर सिंह बिष्ट की जीवनी पर वक्ताओं ने प्रकाश डाला और शमशेर सिंह बिष्ट के सपनों को पूरा करने की बात कही। 

उत्तराखण्ड में जनता की आवाज को बुलंद करने और उनकी लड़ाई लड़ने के लिए शमशेर सिंह बिष्ट की तरह व्यक्तित्व के निर्माण करने पर भी चर्चा की गई। 

आन्दोलकारी पी.सी तिवारी ने कहा कि शमशेर बिष्ट का जीवन संघर्षों से भरा रहा। उन्होंने उत्तराखण्ड के राज्य आन्दोलन और सामाजिक संघर्षों को एक नई दिशा दी थी। लेकिन उन्होंने कभी भी सत्ता के साथ कोई समझौता नहीं किया। आज हम सब लोग उनको श्रद्धांजलि दे रहे हैं और उनके सपनों के अनुरूप उत्तराखण्ड को ले जाने के लिए प्रयासरत हैं। 

श्रद्धांजलि देने पहुंचे वरिष्ठ पत्रकार और आन्दोलकारी राजीव लोचन शाह ने कहा कि शमशेर सिंह बिष्ट उत्तराखण्ड के महानायक हैं।

स्वतंत्र उत्तराखण्ड से शमशेर सिंह बिष्ट के बराबर कोई नेता नहीं हुए। यहां से जो भी बड़े नेता बने वह किसी न किसी राजनैतिक दल में शामिल होकर बने, लेकिन शमशेर सिंह बिष्ट ने जनता के दिल में अपना ये स्थान बनाया। उन्होंने बताया कि शमशेर बिष्ट का कौशल और उनकी भाषा जनता के दिल से सीधे कनेक्ट होती थी।  

 

:
:
: