Headline • अमेठी : दो दिवसीय दौरे पर पहुंचे राहुल गांधी, की शिव की पूजा, देखें वीडियो • पीएम मोदी ने किया सिक्किम के पहले हवाई अड्डे का उद्घाटन• अमेठी : दौरे से पहले लगे राहुल गांधी के 'परम शिव भक्त' वाले पोस्टर• मुरादाबाद में महिला की गोली मारकर हत्या, 4 पर मुकदमा दर्ज• गाजियाबाद : दबंगों ने किया दलित परिवार पर हमला, आरोप- झाड़ू-पोछा और गाड़ी साफ करने का दबाव बनाते हैं सोसाइटी के कुछ लोग• बुलंदशहर : खड़े ट्रक में घुसी रोडवेज बस, दो की दर्दनाक मौत, 2 दर्जन यात्री घायल• गोरखपुर : शोहदों और गुंडों का आतंक, स्कूल पर लगा ताला• अाज से दो दिवसीय अमेठी दौरे पर रहेंगे राहुल गांधी, जानिए मिनट-टू-मिनट कार्यक्रम • अस्पतालों में बच्चों की मौत पर योगी के मंत्री का शर्मनाक बयान, कहा- मां-बाप है जिम्मेदार• पत्रकार सम्मेलन में बतौर मुख्य अतिथि पहुंचे 'समाचार प्लस' के CEO उमेश कुमार• पीएम मोदी ने किया दुनिया की सबसे बड़ी स्वास्थ्य बीमा योजना आयुष्मान भारत का शुभारंभ• सपा की साइकिल यात्रा के समापन पर एक साथ दिखे अखिलेश और मुलायम सिंह यादव • गोरखपुर : सीएम योगी ने किया 'आयुष्मान भारत योजना' का शुभारंभ • महंत नृत्य गोपालदास बोले- 'राम मंदिर का निर्माण नहीं कराया तो भाजपा और मोदी के लिए घातक होगा'• गोरखपुर : बाइक को टक्कर मारने के बाद जीप पलटी, 3 की दर्दनाक मौत, 5 घायल• बीजेपी के कार्यक्रम में बार-बालाओं ने किया डांस,सांसद बाबू लाल के स्वागत में लगे ठुमके• आज से शुरू होगी आयुष्मान भारत योजना,पीएम मोदी झारखंड से करेंगे शुभारंभ• आगरा में दर्दनाक सड़क हादसा, चार लोगों की मौत• बलिया: बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह की दादागिरी, डीएम के सामने डीआईओएस से की हाथापाई• आगरा को हॉकी के विश्व पटल पर मिलेगी नई पहचान:  चेतन चौहान• योगी पहुंचे गोरखपुर, कई योजनाओं को किया लोकार्पण व शिलान्यास, बांटे प्रमाण पत्र• चुड़ैल समझ कर महिला की हत्या कर दी, अपराध छुपाने के लिए लाश को जंगलों में फेंका• फर्रुखाबाद: सड़क दुर्घटना नहीं हत्या कर लाश फेंकी गई थी, पत्नी ने प्रेमी संग दी पति और भतीजे की हत्या की सुपारी• कायमगंज में अंबेडकर प्रतिमा का हाथ तोड़कर माहौल बिगाड़ने की कोशिश, बसपा नेता ने स्थिति संभाली• नवरात्र पर प्रशासन चलाएगा शौचालय की पूजा का कार्यक्रम, कई संगठनों ने किया विरोध का ऐलान

मोदी को छूट क्यों दी गई- अमेरिकी कोर्ट

न्यूयॉर्क- अमेरिका की एक कोर्ट ने वहां के विदेश मंत्रालय से पूछा है कि भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को किस आधार पर छूट दी गई। नरेंद्र मोदी पर 2002 के दंगों में शामिल होने का आरोप लगाते हुए कुछ मानवाधिकार संगठनों ने उनके खिलाफ मुकदमा दायर कर रखा है। इसी संबंध में इन संगठनों ने नरेंद्र मोदी को अमेरिका में मिली छूट पर सवाल उठाए थे। कोर्ट ने मंत्रालय से 10 दिसंबर तक जवाब देने को कहा है।


एजेसी के प्रेजिडेंट जोसेफ विटिंगटन ने भरोसा जताया कि उनके पास मोदी के खिलाफ मजबूत कानूनी आधार है और कोर्ट इस केस को आगे बढ़ाने की इजाजत देगी। विटिंगटन ने कहा, श्गुजरात के भयानक नरसंहार के पीडि़त उम्मीद करते हैं कि अमेरिका अपने कानूनों और न्याय के अंतरराष्ट्रीय आदर्शों का पालन करेगा।


एजेसी ने कहा है कि नरेंद्र मोदी पर गुजरात के मुख्यमंत्री के तौर पर किए गए उनके कार्यों के लिए मुकदमा किया जा रहा है, न कि भारत के प्रधानमंत्री के तौर पर किसी काम के लिए। एजेसी के मेमोरैंडम में कहा गया, इस बात में कोई विवाद नहीं है कि किसी भी व्यक्ति को छूट उन कामों के नतीजों से मिलती है, जो उसने किसी विदेशी सरकार के प्रमुख के तौर पर किए हों। मोदी फॉरन सॉवरिन इम्यूनिटी ऐक्ट के तहत छूट के अधिकारी नहीं हैं क्योंकि अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट ऐसा फैसला दे चुकी है कि विदेशी सरकार में कोई सरकारी अधिकारी शामिल नहीं है। मोदी पर मुकदमा, व्यक्ति पर भारतीय गणतंत्र पर नहीं।

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: