Headline • पाकिस्तान में मुंबई हमले का मास्टर माइंड हाफिज सईद गिरफतार • सावन मास के साथ शुरू हुई कांवड़ यात्रा• एपल भारत में जल्द शुरू करेगी i-phone की मैन्युफैक्चरिंग, सस्ते हो सकते हैं आईफोन• डोंगरी में इमारत गिरने से अबतक 16 लोगो की मौत, 40 से ज्यादा लोगो के मलबे में दबे होने की आशंका : दूसरे दिन भी रेस्क्यू जारी• मुंबई के डोंगरी में 4 मंजिला इमारत गिरी; 2 की मौत, 50 से ज्यादा लोगो के मलबे में फसे होने की आशंका• IAS टोपर को किया ट्रोल, मिला करारा जवाब • देर रात देखिये चंद्रग्रहण का नजारा, लाल नज़र आएगा चाँद • बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान ने भारत के लिए खोले बंद हवाई क्षेत्र ।• महिला सांसदों पर किये गए टिपण्णी से घिरे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प• सुप्रीम कोर्ट ने की आसाराम की जमानत याचिका खारिज • धोनी को संन्यास देने की तयारी में है चयनकर्ता, बहुत जल्द कर सकते है फैसला • तकनीकी कारणों की वजह से 56 मिनट पहले रोकी गयी चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग, इसरो ने कहा - जल्द नई तरीक करेंगे तय • भविष्य के टकराव ज्यादा घातक और कल्पना से परे होंगे : सेना प्रमुख जनरल विपिन रावत • इसरो के चेयरमैन ने बताई चंद्रयान-2 मिशन के लांच होने की तरीक, चाँद पर पहुंचने में लगेगा 2 महीने का समय • झाऱखंड के स्वास्थ मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी का रिशवत लेते वीडीयो वायरल, पुलिस ने की FIR दर्ज • राफेल भारत के लिए रणनीतिक तौर पर बेहद अहम साबित होगी : एयर मार्शल भदौरिया• उत्तराखंड : विधायक प्रणव सिंह चैंपियन BJP से बहार • चारा घोटाला मामले में लालू को मिली जमानत• आइटी पेशेवरों के लिए अमेरिका से अच्छी खबर• कर्नाटक संकट : बागी विधायक बोले इस्तीफे नहीं लेंगे वापस• 'अब बस' जाने क्या है मामला• सबाना के सपोर्ट में स्वरा• कर्नाटक का सियासी संग्राम जारी • भारत और न्यूजीलैंड का 54 ओवर का खेल आज• भारत बनाम न्यूजीलैंड


नैनीतालः पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का नैनीताल से विशेष लगाव रहा है। वैसे तो अटलजी कई बार नैनीताल समेत आसपास के क्षेत्रों मे आते रहते थे मगर प्रधानमंत्री बनने के बाद 2002 में एक बार वो तब नैनीताल पहुंचे थे।

जब 2002 में कच्छ में भूकम्प आया था, जिसमें हजारों लोग मारे गए थे। इस भूकंप से अटलजी को काफी दुख हुआ और वो अपनी मन को शान्त करने के लिए नैनीताल पहुंचे थे। यहां आकर उन्होंने भूकम्प में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि दी और होली ना मनाने का फैसला किया था। 

इसके बाद वे नैनीताल समेत आसपास के कई क्षेत्रों में गए जहां उन्होंने यहां के लोगों से मिलकर उनके कार्यों के बारे में जानकारी ली। 

इसके बाद अटलजी नैनीताल की बदहाल पड़ी झीलों को देखकर करीब 200 करोड़ रु का बजट दिया था, जिससे जिस्से झील के संरक्षण का काम किया।

इस फंड ने नैनीझील को आक्सीजन देने का काम किया। जिससे आज झील का अस्तित्व कायम है। जिसमें से अबतक करीब 68.8 करोड़ रु झील और नालों के संरक्षण के लगाया जा चुका है। 

वहीं नैनीताल व झील के संरक्षण के लिए करीब 98 करोड़ की डीपीआर केन्द्र सरकार के पास है जिसमें समय समय पर कार्य होते रहते हैं।

 

संबंधित समाचार

:
:
: