Headline • धोनी ने आलोचकों को दिया बल्ले से जमकर जवाब • रूसी विमान युद्धाभ्यास के दौरान जापान सागर पर आपस में टकराए • कंगना करणी सेना से नाराज बोली मैं भी राजपूत हूं बर्बाद कर दुंगी तुम्‍हें• मिशन 2019: चुनाव आयोग मार्च में कर सकता है। लोकसभा चुनाव का एलान • ममता की महारैली में विपक्ष का जमावड़ा, पहुंचे बीजेपी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा• मेघालय, कोयला खदान से 35 दिनों के बाद 200 फीट की गहराई से निकला मजदूर का शव • भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को स्वाइन फ्लू, एम्स में चल रहा इलाज • रुपये में मजबूती शेयर बाजार 36 हजार के पार• World Bank के प्रमुख पद की दावेदार में इंद्रा नूई का नाम आगे • कर्नाटक में राजनीतिक उठा-पटक, कांग्रेस ने 18 को बुलाई विधायकों की बैठक• विश्व हिंदू परिषद के पूर्व अध्यक्ष राम जन्मभूमि मार्गदर्शक मंडल के सदस्य विष्णु हरि डालमिया का निधन• भदोही में एक निजी स्कूल वैन में लगी आग, 19 बच्चे झुलसे• मथुरा के यमुना एक्सप्रेस वे पर, रफ्तार का कहर 3 की मौत• जहरीली शराब कांड का इनामी बदमाश कानपुर पुलिस की गिरफ्त में• गाजियाबाद में स्वाइन फ्लू की दस्तक, स्वास्थ्य विभाग अलर्ट• प्रयागराज में हर्ष फायरिंग दौरान, एक को लगी गोली• पेट्रोल-डीजल के दामों ने फिर दिया झटका, क्या रहे आपके शहर के दाम• RRB ग्रुप डी आंसर की जारी 14 से 19 जनवरी तक दर्ज कराएं अपनी आपत्ति• सवर्णों को 10% आरक्षण बिल को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती• अयोध्या विवाद संवैधानिक बेंच से जस्टिस यूयू ललित हटे, 29 जनवरी को फिर से होगी सुनवाई• जम्मू-कश्मीर के आईएएस शाह फ़ैसल ने अपने ट्विटर अकाउंट के जरिए इस्तीफ़ा देने का किया ऐलान I• हाई पावर कमेटी आलोक वर्मा पर आगे का फैसला लेगी। कमेटी में कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़के व जस्टिस एके सीकरी उपस्थित रहेंगे।• सीएम योगी से मिलने के बाद बोलीं विवेक तिवारी की पत्नी- सरकार पर भरोसा और बढ़ गया• राजकपूर की पत्नी कृष्णा राज कपूर का 87 साल की उम्र में निधन• गाजियाबाद: आपसी झगड़े में BSF जवान ने दूसरे को मारी गोली, एक की मौत


बदायूं: गुलामी की जंजीरों में जकड़े देश को आज़ाद कराने जब रुकुम सिंह मैदान में कूदे थे तब अंग्रेजो के छक्के छूट गये थे। जनपद के शहर से सटे नगला सरकी गांव के एक जमींदार परिवार ने जन्मे कुंवर रुकुम सिंह ने बदायूं में आज़ादी का बुगुल फूंका तो लोग उनके दीवाने हो गये। उनके सपने को पंख तब लगे जब गांधीजी और मदन मोहन मालवीय ने जिले का दौरा किया। कुंवर रुकुम ने अपनी बेटी विद्यावती और बेटे गोवर्धन सिंह को अंग्रेजों के खिलाफ उतार दिया और तब तक शांत नहीं बैठे जब तक आज़ादी नसीब नहीं हुई। लोग आज भी उन्हें कुंवर साहब के नाम से याद करते है। 

बदायूं शहर से सटे नगला सरकी गांव के लोगों की आज़ादी के आंदोलन में हिस्सेदारी के किस्से आज भी लोगों की जुबां पर है। यहां के रहने वाले कुंवर रुकुम सिंह एक जमींदार परिवार से थे उनकी एलएलबी की पढ़ाई के दौरान मध्य प्रदेश के देवास रियासत के राजा से परिचय हुआ उन्होंने रुकुम सिंह को रियासत का महासचिव बना दिया।

अंग्रेजो का जुल्म जब बड़ा तब रुकुम सिंह आज़ादी के आंदोलन में कूद गए और बदायूं लौट आये तब उन्होंने लोगों को इकठ्ठा किया और अंग्रेजो के खिलाफ जंग छेड़ दी। इस आंदोलन को धार 1942 में मिली जब रुकुम सिंह के बुलावे पर महात्मा गांधी और मदन मोहन मालवीय ने बदायूं का दौरा किया। 

कुंवर रुकुम सिंह अपना सन्देश जब भेजते थे तो इसका बीड़ा उनकी बेटी उठाती थीं और अपने हाथ पर लिख कर अपनी झोली में चने लेकर घर से निकल पड़ती थीं और जिसे सन्देश देना होता था उसे अपने हाथ से चना देती और उस हाथ पर लिखा रुकुम सिंह का सन्देश देती थी।

एक बार जब कुंवर रुकुम सिंह ने रेल की पटरी को बम से उड़ा कर अंग्रेजों के आवागमन बाधित करने की योजना बनाई तब रुकुम सिंह के बेटे गोवर्धन सिंह की इस योजना में बहन विद्यावती ने साथ दिया।

गोवर्धन जब रेलवे ट्रैक पर पहुंचे तब खाना देने के बहाने टिफिन में विद्यावती बम लेकर गईं। गोवर्धन सिंह ने रेलवे ट्रैक को ध्वस्त कर अंग्रेजों का आवागमन रोक दिया था। उसके बाद वह अलीगढ़ गए और वहां भी रेलवे स्टेशन पर भीषण बमबारी कर अंग्रेजों के छक्के छुड़ा दिए थे। 

स्वतंत्रता संग्राम के उस समय का अकेला परिवार ऐसा था जब अंग्रेजों ने घर के पिता पुत्र और बेटी को जेल में डाला था। कुंवर रुकुम सिंह ने एक वैदिक इंटर कॉलेज की भी स्थापना की थी जहां वह मीटिंग कर अंग्रेजी समाज के चूल्हे हिला कर रख देते थे। इस विद्यायल में लगभग 220 स्वतंत्रा संग्राम सेनानी एकत्र होते थे और आज़ादी की गाथा लिखते थे। 1968 कुंवर रुकुम सिंह का निधन हो गया। बाद में उनके द्धारा स्थापित कॉलेज का नाम कुंवर रुकुम सिंह वैदिक इण्टर कॉलेज कर दिया गया।

संबंधित समाचार

:
:
: