Headline • इलाहाबाद में बीजेपी जिलाध्यक्ष ने अपने नाते रिश्तेदारों को बांट दिए सारे पद, युवाओं में भारी गुस्सा• भ्रष्टाचार की भेंट चढा बलरामपुर का विकास, लोगों ने शिकायत की तो बीजेपी विधायक बोले, गुंडे हैं ये लोग• सोशल मीडिया में आग लगा रही ही एक और भोजपुरी डांसर, डांस के लटके-झटके सपना चौधरी जैसे• आजमगढ़ में फिर मुठभेड़, बदमाश के साथ पुलिस अधिकारी को भी लगी गोली • प्रिंसिपल या जल्लाद! बच्चे को तबतक मारते रहे जब तक डंडा टूट न गया, क्लास में हंसने पर दी सजा• दामाद की हत्या के लिए 1 करोड़ की सुपारी दी, गैंग की लिंक आईएसआई से भी पाई गई• मृत महिला को जिंदा दिखाकर कर लिया मकान का बैनामा, असली मालिक पर घर छोड़ने की धमकी• महिलाओं ने सरेराह प्रधान में चप्पलों और लाठियों से की पिटाई, पति पत्नी के झगड़े को सुलझाना पड़ा भारी• भारत-पाक मुकाबले का रोमांच चरम पर, कानपुर में फैंस ने बप्पा से की टीम इंडिया की जीत की प्रार्थना• पाकिस्तान ने टॉस जीता और पहले बल्लेबाजी करने का निर्णय, क्या कमाल कर पाएगी रोहित एंड कंपनी?• जब कुर्ता पजामा पहनकर नानी के घर गणपति पूजा में पहुंचे तैमूर,फोटो और वीडियो वायरल• क्यों हो रही है यूपी के इस दरोगा की प्रशंसा, जान की बाजी लगाकर किया कमाल• 'ठग्स ऑफ हिंदोस्तान' से सामने आया फातिमा सना शेख का दमदार लुक,आमिर खान ने दी चेतावनी • रामकथा पर झूमे शिवपाल, कहा-समय बताएगा कौन किसके साथ है• साथ में बीड़ी पी रहे दोस्त की जेब में पैसा देखा तो लालच आ गया, ईंट मारकर हत्या कर पैसे ले लिए• शिकायत करने पर नहीं सुनी लेकिन जब आत्मदाह करने पहुंचा गरीब आदमी तो तुरंत जांच बैठा दी• चंद्रशेखर रावण और मदनी में गोपनीय बातचीत, शेरसिंह राणा ने भी पेश कर दी चुनौती• राजा भैया के पिता और प्रशासन में ठनी ! मोहर्रम के दिन भंडारे के कार्यक्रम में प्रशासन ने लगाई रोक• तीन तलाक पर मोदी सरकार का बड़ा फैसला,अध्यादेश को दी मंजूरी• शामली : मठुभेड़ में दो बदमाश गिरफ्तार, एक को लगी गोली, 10 लाख कैश बरामद • दरोगा के बेटे ने खुद को गोली मारकर की आत्महत्या, मां की बीमारी के चलते डिप्रेशन में था• बीजेपी विधायक देवेंद्र राजपूत की दबंगई, बिजली विभाग के जेई को पीटा,वीडियो वायरल• बहराइच में बुखार का कहर, 45 दिनों में 70 बच्चों की मौत• 'समाचार प्लस' की खबर का असर,विकिपीडिया ने सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत का निक नेम 'झांपू' हटाया• ब्लॉक प्रमुख से फोन पर मांगी गई 5 करोड़ की रंगदारी, न देने पर जान से मारने की धमकी


बदायूं: गुलामी की जंजीरों में जकड़े देश को आज़ाद कराने जब रुकुम सिंह मैदान में कूदे थे तब अंग्रेजो के छक्के छूट गये थे। जनपद के शहर से सटे नगला सरकी गांव के एक जमींदार परिवार ने जन्मे कुंवर रुकुम सिंह ने बदायूं में आज़ादी का बुगुल फूंका तो लोग उनके दीवाने हो गये। उनके सपने को पंख तब लगे जब गांधीजी और मदन मोहन मालवीय ने जिले का दौरा किया। कुंवर रुकुम ने अपनी बेटी विद्यावती और बेटे गोवर्धन सिंह को अंग्रेजों के खिलाफ उतार दिया और तब तक शांत नहीं बैठे जब तक आज़ादी नसीब नहीं हुई। लोग आज भी उन्हें कुंवर साहब के नाम से याद करते है। 

बदायूं शहर से सटे नगला सरकी गांव के लोगों की आज़ादी के आंदोलन में हिस्सेदारी के किस्से आज भी लोगों की जुबां पर है। यहां के रहने वाले कुंवर रुकुम सिंह एक जमींदार परिवार से थे उनकी एलएलबी की पढ़ाई के दौरान मध्य प्रदेश के देवास रियासत के राजा से परिचय हुआ उन्होंने रुकुम सिंह को रियासत का महासचिव बना दिया।

अंग्रेजो का जुल्म जब बड़ा तब रुकुम सिंह आज़ादी के आंदोलन में कूद गए और बदायूं लौट आये तब उन्होंने लोगों को इकठ्ठा किया और अंग्रेजो के खिलाफ जंग छेड़ दी। इस आंदोलन को धार 1942 में मिली जब रुकुम सिंह के बुलावे पर महात्मा गांधी और मदन मोहन मालवीय ने बदायूं का दौरा किया। 

कुंवर रुकुम सिंह अपना सन्देश जब भेजते थे तो इसका बीड़ा उनकी बेटी उठाती थीं और अपने हाथ पर लिख कर अपनी झोली में चने लेकर घर से निकल पड़ती थीं और जिसे सन्देश देना होता था उसे अपने हाथ से चना देती और उस हाथ पर लिखा रुकुम सिंह का सन्देश देती थी।

एक बार जब कुंवर रुकुम सिंह ने रेल की पटरी को बम से उड़ा कर अंग्रेजों के आवागमन बाधित करने की योजना बनाई तब रुकुम सिंह के बेटे गोवर्धन सिंह की इस योजना में बहन विद्यावती ने साथ दिया।

गोवर्धन जब रेलवे ट्रैक पर पहुंचे तब खाना देने के बहाने टिफिन में विद्यावती बम लेकर गईं। गोवर्धन सिंह ने रेलवे ट्रैक को ध्वस्त कर अंग्रेजों का आवागमन रोक दिया था। उसके बाद वह अलीगढ़ गए और वहां भी रेलवे स्टेशन पर भीषण बमबारी कर अंग्रेजों के छक्के छुड़ा दिए थे। 

स्वतंत्रता संग्राम के उस समय का अकेला परिवार ऐसा था जब अंग्रेजों ने घर के पिता पुत्र और बेटी को जेल में डाला था। कुंवर रुकुम सिंह ने एक वैदिक इंटर कॉलेज की भी स्थापना की थी जहां वह मीटिंग कर अंग्रेजी समाज के चूल्हे हिला कर रख देते थे। इस विद्यायल में लगभग 220 स्वतंत्रा संग्राम सेनानी एकत्र होते थे और आज़ादी की गाथा लिखते थे। 1968 कुंवर रुकुम सिंह का निधन हो गया। बाद में उनके द्धारा स्थापित कॉलेज का नाम कुंवर रुकुम सिंह वैदिक इण्टर कॉलेज कर दिया गया।

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: