Headline • अमेठी में पायकों से भरी नाव पलटी,8 निकाले गए,3 लापता, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी • मोहर्रम को लेकर पुलिस-प्रशासन अलर्ट,पूर्व मंत्री राजा भैया के पिता को किया नजरबंद,छावनी में तब्दील हुआ कुंडा• जब अचानक बच्चों को स्कूल में पढ़ाने पहुंच गई डीएम, गंदगी देखकर टीचर्स को लगाई फटकार• पं. दीनदयाल उपाध्याय की हत्या के मामले में हो सकती है CBI जांच• ज्वैलरी शोरूम से 50 लाख के गहने लेकर फरार हुई महिलाएं, सीसीटीवी में कैद हुई वारदात• गाजियाबाद की वसुंधरा कॉलोनी में नहीं रुक रही हैं चोरी की घटनाएं, लॉकर तोड़कर नगदी और लैपटॉप ले उडे़• स्वामी अग्निवेश ने दी आरएसएस प्रमुख को मॉब लिंचिंग पर खुली बहस की चुनौती• SC-ST एक्ट के विरोध में प्रदर्शन करने वाले 12 छात्रों के खिलाफ बीजेपी सांसद ने दर्ज कराई रिपोर्ट• लव, सेक्स एंड धोखा! दूसरे धर्म के युवक ने खुद को मराठी बताकर की शादी, न्याय के लड़की मुंबई से पहुंची मुरादाबाद• महिला के नहाते समय फोटो खींचने पर बवाल, दो पक्षों के बीच जमकर चले लाठी-डंडे, कई घायल• रानीखेत में भारत और अमेरिकी सैनिकों ने किया आतंकवादियों के खात्मे का संयुक्त अभ्यास• मायावती ने की घोषणा, छत्तीसगढ़ में अजीत जोगी की पार्टी से गठबंधन कर चुनाव लड़ेगी बसपा• मैच के बाद पाक कप्तान ने कहा, हम भुवनेश्वर की गेंदों को समझ नहीं पाए• 13 वर्षीय लड़की की जघन्य हत्या के बाद बनारस के एक इलाके में पुलिस के खिलाफ जबर्दस्त रोष• बिग बॉसः जसलिन ने सिंगल बेड लिया तो बगल वाला बेड लेने पहुंच गए अनूप जलोटा• प्रेम विवाह के तीन साल बाद ससुराल पहुंचा, शाम से कोई खोजखबर नहीं... दो दिन बाद मिली लाश•  फौजी के घर पर दबंगों ने किया कब्जा, शिकायत करने पहुंचा तो थानेदार ने थाने से भगाया• नई सरकार आने के बाद भी नहीं बदला पाक सेना का रवैया, बीएसएफ जवान के शव से की बर्बरता, आंख निकाली• मुलायम के पोते तेजप्रताप ने माना, शिवपाल के अलग होने से लोकसभा चुनाव की संभावना पर पड़ेगा प्रभाव• आयुष्मान की 'बधाई हो' का 'बधाईयां तैनू' रिलीज, हंस-हंस कर लोटपोट हो जाएंगे आप• शिक्षा विभाग को नहीं पता अटलजी का जन्म कब हुआ था, स्कूली किताब में गलत डेट डाली• कन्नौज : किशोरी की रेप के बाद हत्या, मनचले के डर से छोड़ दी थी पढ़ाई• रायबरेली के लाल ने किया कमाल, प्री रीजनल मैथमेटिक्स ओलंपियाड में हुआ चयन• अपने हक की लड़ाई से पीछे नहीं हटेंगी मुस्लिम महिलाएं, सायरा ने पीएम मोदी के प्रति जताया आभार• 'सड़क-2' का ट्रेलर रिलीज,फिर एक साथ दिखेंगे संजय दत्त और पूजा भट्ट


बलिया. बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह अपने बयानों को लेकर चर्चा में बने रहते हैं। हाल ही में उन्होंने राम मंदिर को लेकर बयान दिया है। जिसे लेकर वह एक बार फिर सुर्खियों में आ गए हैं। बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह ने कहा कि मोदी और योगी राज में राम मंदिर नहीं बना तो कभी नहीं बनेगा। 

-सुरेंद्र सिंह ने कहा कि मोदी और योगी के राज में अगर राम मंदिर नहीं बनेगा तो भविष्य में कभी भी बनने की परिस्थिति आने वाली नहीं है। इसमें और विलंब होगा। राम हमारे आराध्य हैं और भाजपा के राज में मंदिर ना बने तो इससे बड़ी बात हम भाजपा में काम करने वाले नेताओं के लिए इससे बड़ी दुख की बात नहीं हो सकती। 

-बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह ने मायावती के साथ गठबंधन के सवाल पर कहां मायावती से गठबंधन करके आपने देखा है गठबंधन राजनीति का धर्म है अगर दलित से बहुत प्रेम तो क्यों नहीं सभी दल के लोग एक विधेयक लाकर प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री की कुर्सी पर 10 साल किसी दलित को बैठा कर दलित का सम्मान करें तो दलित अपना विकास कर लेता। बीजेपी विधायक यही नही रुके उन्होंने मायावती को चुनौती देते हुए कहा कि मायावती एक बार बलिया लोकसभा के सामान्य सीट से चुनाव लड़ले तो बलिया के लोग उसके राजनीतिक तेवर को ढीला न करदे तो बलिया बलिया नही।

-विधायक ने SC/ST एक्ट पर नए विधेयक पर कहा कि दलित उत्पीड़न और महिला उत्पीड़न पर नियंत्रण होना चाहिए नहीं तो ये पूरे समाज के ढांचे को बदल देगा। फर्जी दलित एक्ट दलित बंधुओं का व्यवसाय हो गया है क्योंकि इसमें पैसा सरकार भी देती है और फिर बाद में मुकदमा लड़ते समय पैसा लेते है। दोनों तरफ से पैसा लेकर दलित लोग समाज का उत्पीड़न करते है।

-बीजेपी विधायक ने कहा कि एक बार कोई एमपी, एमएलए सुरक्षित सीट से चुनाव लड़ले तो उसे दुबारा सुरक्षित सीट से चुनाव लड़ने का अधिकार नही होना चाहिए।

 

इलाहाबादः  यहां के शिवकुटी थाना क्षेत्र में रिटायर्ड दरोगा की लाठी डंडों से पीट-पीटकर बेरहमी से हत्या किए जाने के मामले में पुलिस ने एक नामजद आरोपी यूसुफ कमाल को गिरफ्तार कर लिया है। जबकि मुख्य आरोपी जुनैद कमाल अभी भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है।

पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज में दिख रहे दो अन्य आरोपियों की पहचान कर उनकी गिरफ्तारी के प्रयास तेज कर दिए हैं। पुलिस ने अब तक दरोगा हत्याकाण्ड में पांच नामजद आरोपियों को हिरासत में लिया और उनसे पूछताछ कर रही है। दारोगा अब्दुल समद खां के परिजनों ने हिस्ट्रीशीटर जुनैद कमाल समेत दस लोगों के खिलाफ शिवकुटी थाने में नामजद मुकदमा दर्ज कराया है। नामजद आरोपियों में तीन महिलाओं के नाम भी शामिल हैं।

एडीजी इलाहाबाद जोन एस.एन.साबत के मुताबिक पुलिस मामले में सीसीटीवी फुटेज के आधार पर हत्यारोपियों की पहचान कर कार्रवाई कर रही है। उन्होंने कहा है कि मामले में सख्त कार्रवाई भी की जायेगी। वहीं दरोगा की सरेआम लाठी-डंडों से पीट-पीटकर की गई हत्या के मामले का इलाहाबाद हाईकोर्ट ने स्वतः संज्ञान लिया है।

चीफ जस्टिस डी बी भोसले और जस्टिस सी डी सिंह की खंडपीठ ने मीडिया में आयी रिपोर्टों के आधार पर मामले का स्वतः संज्ञान लेते हुए जनहित याचिका कायम कर लिया है।

हाईकोर्ट ने अपर महाधिवक्ता मनीष गोयल से पूछा है कि सीसीटीवी फुटेज के बावजूद आरोपियों की गिरफ्तारी क्यों नहीं की गई है। कोर्ट ने पांच सितम्बर को राज्य सरकार से मामले में अब तक की गई कार्रवाई की रिपोर्ट तलब की है। कोर्ट ने देवरिया शेल्टर होम मामले की सुनवाई के बाद इस मामले की सुनवाई का भी आदेश दिया है। 

गौरतलब है कि रिटायर्ड दारोगा अब्दुल समद खां की सोमवार को शिवकुटी थाना क्षेत्र में पास में रहने वाले दबंग हिस्ट्री शीटर जुनैद कमाल ने लाठी डंडों से जमकर पिटाई कर दी थी। जिससे अब्दुल समद खां लहूलुहाल हो गए थे और उन्हें इलाज के लिए बेली अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

जहां देर शाम रिटायर्ड दारोगा ने तम तोड़ दिया था। दरअसल रिटायर्ड दारोगा और हिस्ट्रीशीटर जुनैद कमाल के बीच प्रापर्टी को लेकर पुराना विवाद चल रहा था और पहले भी कई बार उनके बीच कहा सुनी हो चुकी थी।

रायबरेलीः गुजरात के पटेल नेता हार्दिक पटेल द्वारा किसानों की कर्जमाफी एवं आरक्षण के लिए चल रही अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल को लेकर रायबरेली का  कुर्मी समाज भी उनके समर्थन में उतर आया है।

अखिल भारतीय कुर्मी क्षत्रिय महासभा के बैनर तले कुर्मी समाज के सैकड़ों की संख्या में लोगों ने जिलाधिकारी के माध्यम से राष्ट्रपति को संबोधित ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में हार्दिक पटेल की मांगों का समर्थन किया गया है। 

प्रदर्शनकारियों ने कहा कि जिस तरह गुजरात में हार्दिक पटेल द्वारा किए जा रहे आमरण अनशन के खिलाफ गुजरात सरकार दमनकारी नीति अपना रही है, इससे देश के किसानों युवाओं तथा बेरोजगारों में काफी आक्रोश है।

अगर गुजरात सरकार हार्दिक पटेल की मांगों को जल्द से जल्द नहीं मानती है तो उत्तर प्रदेश का कुर्मी समाज भी हार्दिक पटेल के समर्थन उतरेगा। सरकार की दमनकारी नीतियों के विरोध में आंदोलन करने को मजबूर किया जा रहा है।

 

नई दिल्‍ली : देवरिया के सांसद व पूर्व केंद्रीय मंत्री कलराज मिश्र ने एससी/एसटी एक्ट में बदलाव करने के फैसले पर पुनर्विचार करने की अपील की है। एससी-एसटी एक्ट के खिलाफ बोलते हुए कलराज मिश्रा ने कहा कि सरकार को एससी-एसटी एक्ट पर पुनर्विचार करना चाहिए। इस एक्ट का दुरूपयोग हो रहा है।

उन्‍होंने कहा कि ’सभी दलों के साथ मिलकर इस बिल में ऐसा संशोधन करना चाहिए ताकि कोई भी वर्ग परेशान ना हो। ब्राह्मणों और सवर्णों के साथ-साथ पिछड़ों में भी इस एक्ट को लेकर बहुत नाराज़गी है। इस एक्ट से सभी वर्ग के लोग नाराज़ हो रहे हैं। क्षेत्रों से बड़ी शिकायतें मिली हैं।

फैज़ाबाद में एक ब्राह्मण के पूरे परिवार को फर्ज़ी मुकदमे में गिरफ्तार कर लिया गया। अधिकारी हिम्मत नहीं कर पा रहे हैं। ये जानते हुए भी निर्दोष लोगों को फंसाया जा रहा है’। उन्‍होंने कहा कि इसकी प्रतिक्रिया में लोग सामने आएंगे। सभी दलों को इसका संज्ञान लेना चाहिए, क्योंकि सभी दलों ने एक साथ इस बिल को पास कराया था।

उधर, केंद्रीय सूचना-प्रसारण मंत्रालय ने सभी प्राइवेट टीवी चैनलों को एक एडवाइजरी जारी कर ’दलित’ शब्‍द के इस्‍तेमाल से परहेज करने को कहा है।

दरअसल ’दलित’ शब्‍द के इस्‍तेमाल पर बांबे हाईकोर्ट के रोक लगाने के फैसले के बाद सूचना-प्रसारण मंत्रालय ने यह सलाह दी है कि इस शब्द का इस्तेमाल नहीं किया जाए। इस एडवाइजरी में सामाजिक न्‍याय और सशक्तिकरण मंत्रालय के 15 मार्च को जारी किए गए उस सर्कुलर का हवाला दिया गया है, जिसमें केंद्र और राज्‍य सरकारों को शेड्यूल्‍ड कास्‍ट (अनुसूचित जाति) शब्‍द का इस्‍तेमाल करने की सलाह दी गई थी।

देवबन्दः सुप्रीम कोर्ट की अधिवक्ता फरहा फैज़ ने दारूल उलूम व उलेमाओं पर जमकर निशाना साधा। यहां पहुंचीं फैज ने कहा कि जो उलेमा मेरे खिलाफ आज कानूनी कार्रवाई करने की मांग कर रहे हैं, वे कम से कम इस बात का सबूत तो दे रहे हैं कि वे भारत में रहते हैं। इनकी शरियत में कोई ऐसा कानून नहीं है कि यह कोई ऐसा ऐक्शन ले सकें। मौलाना अपनी बनाई हुई शरियत को मुसलमानों पर थोप रहे हैं। 

उन्होंने कहा कि दारूल उलूम में जो एक्टीविटिज होती है, वो सब संदिग्ध है। एक माह के भीतर दारूल उलूम को 91 का नोटिस दिये गए लेकिन आजतक एक का भी जवाब नहीं दिया।

ये लोग संदिग्ध ऐक्टिविटीज को चला रहे हैं उन्हें बाहर निकालना चाहिए। इनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई होनी चाहिए। इनको चिन्हित कर जो गलत गतिविधियों में पाया जाये उनके खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए। उनके खिलाफ देशद्रोह के मुकदमे दर्ज होने चाहिये। उलेमाओ का स्थान गद्दियो पर नहीं जेल की सलाखों के पीछे होना चाहिए। 

उलेमा की ओर से रविवार को दिये बयान पर की वो ठाकुर वंशज में आ गई हैं, फैज ने कहा कि मेरे वंशज ठाकुर थे इसमें कोई झूठ नहीं है। चौहान हमारा गोत्र था। मेरे पूर्वज कन्वर्ट हुए थे। मैं फराह फैज़ हूं और फराह फैंज ही रहेंगी। मैं मुसलमान राजपूत हूं। मुसलमान राजपूत हो जाने से मुझे कोई यह नहीं कह सकता कि यह इस्लाम की जानकर नहीं है। 

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: