Headline • पाकिस्तान में मुंबई हमले का मास्टर माइंड हाफिज सईद गिरफतार • सावन मास के साथ शुरू हुई कांवड़ यात्रा• एपल भारत में जल्द शुरू करेगी i-phone की मैन्युफैक्चरिंग, सस्ते हो सकते हैं आईफोन• डोंगरी में इमारत गिरने से अबतक 16 लोगो की मौत, 40 से ज्यादा लोगो के मलबे में दबे होने की आशंका : दूसरे दिन भी रेस्क्यू जारी• मुंबई के डोंगरी में 4 मंजिला इमारत गिरी; 2 की मौत, 50 से ज्यादा लोगो के मलबे में फसे होने की आशंका• IAS टोपर को किया ट्रोल, मिला करारा जवाब • देर रात देखिये चंद्रग्रहण का नजारा, लाल नज़र आएगा चाँद • बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान ने भारत के लिए खोले बंद हवाई क्षेत्र ।• महिला सांसदों पर किये गए टिपण्णी से घिरे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प• सुप्रीम कोर्ट ने की आसाराम की जमानत याचिका खारिज • धोनी को संन्यास देने की तयारी में है चयनकर्ता, बहुत जल्द कर सकते है फैसला • तकनीकी कारणों की वजह से 56 मिनट पहले रोकी गयी चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग, इसरो ने कहा - जल्द नई तरीक करेंगे तय • भविष्य के टकराव ज्यादा घातक और कल्पना से परे होंगे : सेना प्रमुख जनरल विपिन रावत • इसरो के चेयरमैन ने बताई चंद्रयान-2 मिशन के लांच होने की तरीक, चाँद पर पहुंचने में लगेगा 2 महीने का समय • झाऱखंड के स्वास्थ मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी का रिशवत लेते वीडीयो वायरल, पुलिस ने की FIR दर्ज • राफेल भारत के लिए रणनीतिक तौर पर बेहद अहम साबित होगी : एयर मार्शल भदौरिया• उत्तराखंड : विधायक प्रणव सिंह चैंपियन BJP से बहार • चारा घोटाला मामले में लालू को मिली जमानत• आइटी पेशेवरों के लिए अमेरिका से अच्छी खबर• कर्नाटक संकट : बागी विधायक बोले इस्तीफे नहीं लेंगे वापस• 'अब बस' जाने क्या है मामला• सबाना के सपोर्ट में स्वरा• कर्नाटक का सियासी संग्राम जारी • भारत और न्यूजीलैंड का 54 ओवर का खेल आज• भारत बनाम न्यूजीलैंड

आडवाणी और रामदेव को पद्म विभूषण !

देश का दूसरा सर्वोच्च सम्मान पद्म विभूषण किन- किन को दिया जाएगा इसकी लिस्ट बनाई जा रही है। पहले मोदी सरकार ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को भारत रत्न से सम्मानित किया और अब बीजेपी के लौहपुरुष लालकृष्ण आडवाणी को पद्म विभूषण से सम्मानित कर सकती है।

 सरकार के सूत्रों के अनुसार, पद्म अवॉर्ड की लिस्ट में लालकृष्ण आडवानी के अलावा योग गुरु स्वामी रामदेव और वैदिक विद्धान प्रोफेसर डेविड फ्राउले का नाम भी  शामिल है। इस बीच खेल मंत्रालय ने बैडमिंटन खिलाड़ी साइना नेहवाल का नाम भी पद्म भूषण के लिए आगे बढ़ाया है। बता दें कि पद्म अवाॅर्ड के लिए साइना का नाम खारिज कर दिया था, लेकिन साइना की नाराजगी के बाद उनके नाम पर दोबारा विचार किया जा रहा है।

वहीं पद्म अवॉर्ड के लिए नामांकन की आखिरी तारीख पिछले साल 15 सितंबर को थी। गृह मंत्रालय के अधिकारियों ने कहा कि सरकार केवल खेल मंत्रालय की ओर से साइना नेहवाल को सम्मान देने की सिफारिश पर निर्भर नहीं थी।

गौरतलब है कि साइना नेहवाल को 2010 में पद्मश्री से सम्मानित किया गया था।

नयी दिल्‍ली: नाबालिग के साथ बलात्‍कार और यौन शोषण के मामले के दोषी आसाराम की जमानत याचिका पर सुनवाई स्थगित कर दी गई है। अभी आसाराम को जेल में ही रहना पड़ेगा. 

सुप्रीम कोर्ट ने एम्‍स के डॉक्‍टरों द्वारा भेजी गयी आसाराम की रिपोर्ट देखने के लि‍ए उनके वकील को दो हफ्ते का समय दिया है.

72 साल के आसाराम ने जोधपुर के एक अस्पताल की रिपोर्ट के आधार पर सुप्रीम कोर्ट से जमानत मांगी थी। इस रिपोर्ट में आसाराम को ट्राइजेमिनल न्यूरॉलजिया नाम की बीमारी बताई गई थी और उनकी सर्जरी की सिफारिश की गई थी।

जोधपुर अस्पताल की रिपोर्ट के बाद, सुप्रीम कोर्ट ने पिछले महीने ही अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान(एम्‍स) को आसाराम का स्‍वास्‍थ्‍य परीक्षण करने का निर्देश दिया था. एम्‍स के सात डॉक्‍टरों द्वारा जांच की गयी इस रिपोर्ट को शनि‍वार के दिन जारी किया था. सुप्रीम कोर्ट को जमा की गयी रिपोर्ट के मुताबिक 'आसाराम को किसी तरह की सर्जरी की जरूरत नहीं है, बल्कि उनकी बीमारी सिर्फ दवा खाकर ही ठीक हो सकती है.'

गौरतलब है, कि अदालत ने एम्‍स के डॉक्‍टरों को एक मेडिकल बोर्ड का गठन करने का निर्देश दिया था ताकि आसाराम की पुन: चिकित्‍सीय जांच करायी जा सके. अदालत ने जोधपुर रेप केस के आरोपी आसराम को जरूरत पड़ने पर चिकीत्‍सीय जांच के लिए अंतरिम जमानत देने की बात कही थी. 

 आसाराम को सितंबर 2013 में गिरफ्तार किया गया था। जोधपुर की अदालत में नाबालिग के साथ अपने आश्रम में शोषण, आपराधिक षडयंत्र और अन्‍य मामले में मुकदमा दर्ज है.

GMapFP : COM_CONTACTMAP_COPYRIGHT

वैज्ञानिकों को मिला मोदी ‘मंत्र’

आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुंबई में 102वीं साइंस कांग्रेस का उद्घाटन किया,  जो सात जनवरी तक चलेगी। बता दें कि, इस बार साइंस कांग्रेस का थीम ‘मानव विकास के लिए विज्ञान और तकनीकी’ रखा गया है।

मुंबई 45 साल बाद इस प्रतिष्ठित इंडियन साइंस कांग्रेस की मेजबानी कर रहा है। मुंबई यूनिवर्सिटी को इस साइंस कांग्रेस में करीब 12 हजार प्रतिनिधियों के अलावा कुछ नोबेल पुरस्कार विजेता भी हिस्सा लेंगे।
मुंबई विश्वविद्यालय में हो रही इस साइंस कांग्रेस का मुख्य आकर्षण ‘प्राइड ऑफ इंडिया’ प्रदर्शनी है, जिसमें भारत में विकसित अहम तकनीकी, उत्पाद और सेवाओं को दिखाया जा रहा है।

विज्ञान कांग्रेस में पीएम मोदी  ने भाषण देते हुए कहा कि,  हमारी पहली कोशिश में ही मंगल पर पहुंचना हमारी बड़ी कामयाबी है। साथ ही मोदी ने कहा कि,  मानव विकास विज्ञान से जुड़ा है।

विज्ञान कांग्रेस में पीएम मोदी ने रिसर्च को बढ़ावा देने की बात कही, साथ ही शोध के काम के लिए फंड मिलने में किसी भी तरह की मुश्किल नहीं आनी चाहिए।

पीएम मोदी- विज्ञान से गरीबी दूर करने में मिलेगी मदद।

 

 

फरवरी में होंगे दिल्ली में विधानसभा चुनाव!

दिल्ली विधानसभा चुनाव की तारीखों का आज एलान हो सकता है। खबर है कि, चुनाव आयोग फरवरी के मध्य में दिल्ली में चुनाव का एलान कर सकता है।

गौरतलब है कि मार्च में सीबीएसई के एग्जाम होने हैं, इसी कारण फरवरी के दूसरे या तीसरे सप्ताह में चुनाव संपन्न कराने की तैयारी है।

बता दें कि विधानसभा चुनाव अब सिर्फ दिल्ली में होने रह गए हैं, इसलिए दिल्ली में चुनाव के दौरान सेंट्रल पारा मिलिट्री फोर्स की उपलब्धता को लेकर भी कोई समस्या नहीं है। दिल्ली चुनाव में अर्धसैनिक बल की करीब 100 कंपनियां तैनात की जा सकती हैं।

दिल्ली विधानसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस, बीजेपी और आम आदमी पार्टी पुरी तैयार हैं। बता दें कि दिल्ली चुनाव में मुख्य मुकाबला बीजेपी और आम आदमी पार्टी के बीच माना जा रहा है। 2013 में हुए विधानसभा चुनाव में जिस तरह आप को जनता का समर्थन मिला था, वहीं अब भी आप को जनता पर भरोसा है कि, उसको एक मौका ओर दिया जाएगा। 2013 में आप ने दिल्ली में 28 सीटें जीती थीं, जबकि बीजेपी 31 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी। हालांकि, मई 2014 में हुए लोकसभा चुनावों में नतीजे बिल्कुल उलट थे, बीजेपी ने दिल्ली में क्लीन स्वीप कर सभी सात लोकसभा सीटें जीत ली थीं।

 

भारतीय तटरक्षकों ने अरब सागर में आधी रात में बीच समुद्र में की गई एक कार्रवाई में भारत में 26/11 के तर्ज पर होने वाले कथित हमले को नाकाम कर दिया है।

मुम्बई हमले के साढ़े छह साल बाद एक बार फिर अरब सागर में नववर्ष की पूर्व संध्या पर बुधवार देर रात करीब 11 बजे पोरबंदर से 365 किलोमीटर दूर भारतीय समुद्री सीमा में मछली पकड़ने वाली पाकिस्तानी नौका को खुफिया जानकारी के आधार पर गश्त कर रहे तटरक्षक के डोनियर एयरक्राफ्ट ने घेर लिया।

संदिग्ध नौका का पीछा करने का सिलसिला करीब एक घंटे तक चला और भारतीय तटरक्षक जहाज मछली पकड़ने वाली नौका को कुछ चेतावनी वाली गोलियां चलाकर रोकने में सफल रहा। रक्षा मंत्रालय की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि नौका पर चार व्यक्तियों को देखा गया जिन्होंने तटरक्षक की रूकने और जांच में सहयोग करने की सभी चेतावनियों को नजरंदाज किया।

मंत्रालय ने कहा, ‘इसके कुछ ही देर बाद नौका के चालक दल के सदस्य नीचे के डेक कंपार्टमेंट में छुप गए और नौका में आग लगा दी। इसके परिणामस्वरूप एक विस्फोट हुआ जिसके बाद नौका में भयंकर आग लग गई।अंधेरा, खराब मौसम और तेज हवाओं के चलते नौका और उस पर सवार लोगों को न तो बचाया जा सका और न ही उनकी बरामदगी हो सकी। नौका एक जनवरी को तड़के उसी स्थिति में जलकर डूब गई।

फिलहाल, रक्षा मंत्रालय ने सिर्फ यही कहा है कि कराची के पास स्थित केटी बंदरगाह से आने वाली नौका अरब सागर में कुछ नियम विरुद्ध कार्य की योजना बना रही थी।

भारतीय तटरक्षक के महानिरीक्षक (अभियान) के.आर. नौटियाल ने कहा कि सटीक गुप्तचर सूचना के आधार पर आधी रात में संदिग्ध नौका को रोकने लिए यह कार्रवाई तटरक्षक जहाजों और विमान द्वारा की गई। रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने भारतीय तटरक्षक के साथ ही इस अभियान में शामिल जवानों की प्रशंसा की जो बिना अनुमति वाली नौकाकी समय पर सटीक तरीके से घेराबंदी करने के अभियान में शामिल थे जिससे एक संभावित खतरा टल गया।

भारतीय तटरक्षक के अलावा महानिदेशक राजेंद्र सिंह ने कहा कि उन्हें गुप्तचर एजेंसियों से नौका के बारे में एक जानकारी मिली और फिर उन्होने उसकी घेराबंदी कर ली।  लेकिन उन्होंने और नौटियाल दोनों ने ही नौका के संभावित मिशन और इस बारे में अंदाजा लगाने से इनकार कर दिया कि इसमें कोई आतंकवादी कोण है।

मंत्रालय के बयान में कहा गया है कि तटरक्षक जहाज और विमान इस बात का पता लगाने के लिए क्षेत्र में अभियान जारी किए हुए हैं कि इसमें कहीं कोई जिंदा तो नहीं बच गया था।

इस घटना के बाद सुरक्षा एजेंसियों ने गुजरात में होने वाले वाइब्रेंट गुजरात ग्लोबल इंवेस्टर्स सम्मिट-2015 से पहले किसी आतंकवादी घटना को रोकने के लिए भारत-पाकिस्तान सीमा पर निगरानी बढ़ा दी है।

:
:
: