Headline • पूर्व वित्त मंत्री अरूण जेटली की हालत बेहद नाजुक, AIIMS में भर्ती !• केन्‍द्रीय मंत्री जितेन्‍द्र सिंह का पाक अधिकृत कश्‍मीर पर बयाना, अब POK के देश में शामिल होने की करें दुआ !• रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के बयान से फिर बौखलाया पाक, महमूद कुरैशी का आया यह बयान !• कश्‍मीर में हो रहा मानवअधिकारों का उल्‍लंघन : ममता बनर्जी • 'मेक इन इंडिया': इसरो का निजी कंपनियों को पांच पीएसएलवी बनाने का न्योता !• अमेरिका के उप विदेश सचिव भारत दौरे पर, रणनीतिक मुद्दों पर चर्चा !• आर्टिकल 370: J&K में प्रतिबंध कें बाद टूजी इंटरनेट सेवाएं चरणबद्ध तरीके से धीरे धीरे हो रही बहाल !• UNSC में J&K पर चीन और पाक की हर चाल को भारत ने किया खारिज !• भाजपा को कश्मीरियों से नहीं, वहा की जमीन से है प्यार : ओवैसी• अमेरिका कर रहा एशिया-प्रशांत क्षेत्र में मिसाइल तैनाती की तैयारी, चीन की चेतावनी !• विंग कमांडर अभिनंदन को मिलेगा वीर चक्र !• चीन ने कश्‍मीर मुद्दे के समाधान के लिए UN मध्‍यस्‍थता की बात कही !• अमेरिका में बोले भारतीय राजदूत, आर्टिकल-370 खत्‍म करना भारत का आंतरिक मामला !• डिस्कवरी चैनल के प्रसिद्ध प्रोग्राम 'मैन वसेर्ज वाइल्ड' में बेयर ग्रिल्स के साथ दिखें पीएम नरेंद्र मोदी !• जम्‍मू कश्‍मीर में भारत के खिलाफ प्रोपेगेंडा चलाने वालों पर सरकार की कार्यवाही, गिलानी समेत आठ के ट्विटर एकाउंट बंद !• J&K में ईद के दौरान सरकार के विशेष इंतजाम !• मुस्लिम बहुल होने की वजह से जम्मू-कश्मीर से हटा अनुच्छेद 370 : पी चिदंबरम • अमेरिाका का पाकिस्‍तान को बड़ा झटका, अपनी कश्‍मीरी नीति में नही किया कोई बदवाल !• इमरान की बड़ी मुसकिल, पाक अधिकृत कश्‍मीर में सड़कों पर उतरे प्रदर्शनकारी • अयोध्‍या मामले में सुप्रीम कोर्ट ने मांगे 1949 से अब तक के सबूत, फिर से होगी जांच !• कांंग्रेस अब अनुच्‍छेद 370 खत्‍म करने की प्रकिया का करेगी विरोध !• महबूबा मुफ्ती का पीडीपी के राज्‍यसभा सांसदों को संदेश इस्‍तीफा दें या फिर निष्‍कासन का करें सामना !• अमेरिका में दिखा नस्‍लवादी इतिहास, काले व्‍यक्‍ति को घोड़े से बांधकर ले गई पुलिस !• अनुच्‍छेद 370 फैसले के बाद भारत में हो सकते है पुलवामा जैसे हमले : पाक पीएम इमरान खान • नहीं रहीं सुषमा स्वराज, 67 साल की उम्र में निधन !


नई दिल्ली- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को विद्यार्थियों और उनके मातापिता तथा शिक्षकों से परीक्षा संबंधी अपने अनुभव मन की बात कार्यक्रम के जरिए साझा करने का न्योता दिया। मोदी ने कहा, इस महीने रेडियो कार्यक्रम के बारे में सोच रहा हूं और मैंने यह सोचा कि क्यों न इस बार बोर्ड और प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे विद्यार्थियों के साथ मन की बात साझा करूं।

प्रधानमंंत्री मोदी ने कहा कि विद्यार्थियों, शिक्षकों और अभिवावकों को अपने एग्जाम अनुभव बांटने चाहिए जिससे युवा प्रेरित हो और परीक्षा की तैयारियों में उन्हें प्रोत्साहन मिलें।

प्रधानमंत्री ने कहा कि हमेशा की तरह मैं आपके कुछ विचार, सुझाव और किस्सा कार्यक्रम के दौरान साझा करूंगा। कृपया अपने अनुभव साझा करें। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की परीक्षा दो मार्च से शुरू हो रही है। मोदी ने इससे पहले 27 जनवरी को अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा के साथ रेडियो कार्यक्रम "मन की बात" को संबोधित किया था। अभी तक प्रधानमंत्री मोदी 'मन की बात' के चार कार्यक्रम कर चुके है और फरवरी में प्रसारित होने वाला कार्यक्रम पांचवा होगा।

दिल्ली में दो मतदान केंद्रों पर फिर से मतदान हो रहा है। इसमें दिल्ली कैंट विधानसभा क्षेत्र का मतदान केंद्र नंबर 31 और रोहतास नगर विधानसभा क्षेत्र का मतदान केंद्र नंबर 132 शामिल है। इन दोनों मतदान केंद्रों पर आज सुबह 8 बजे से वोट डाले जा रहे हैं जो शाम 6 चलेगा। दोनों क्षेत्रों में मतदान के कारण आज सार्वजनिक अवकाश भी दिया गया है।

ईवीएम में गड़बड़ी व मॉक पोलिंग का रिकार्ड नहीं रखने की बात सामने आने पर दिल्ली के मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) चंद्रभूषण कुमार ने दोनों मतदान केंद्रों पर पुनर्मतदान कराने के आदेश जारी किए थे। दिल्ली कैंट का मतदान केंद्र नंबर 31 गोपी बाजार में स्थित है। इसमें गोपीनाथ बाजार व अन्य इलाके आते हैं। इस मतदान केंद्र पर 9 सौ मतदाता हैं। इसमें से शनिवार को मतदान के दौरान करीब 5 सौ वोट पड़े थे। सीईओ कार्यालय के अधिकारियों का कहना है कि पुनर्मतदान के लिए कोई शिकायत नहीं आई थी। मगर मतदान शुरू होने से पहले एक घंटे का मॉक पोलिंग का रिकार्ड नहीं गया था और यह तकनीकी गड़बड़ी में आता है। इसलिए इस बूथ पर फिर से मतदान कराने का फैसला लिया गया। वहीं, रोहतास नगर का मतदान केंद्र नंबर 132 सुभाष पार्क विस्तार में नगर निगम स्कूल में है। इस मतदान केंद्र पर ईवीएम मशीन खराब हो गई थी। इस मतदान केंद्र पर 1280 वोट हैं।

मशीन खराब होने के कारण मतदान में व्यवधान आ गया था। इससे 52 फीसद मतदान हो सका था। इन दोनों मतदान केंद्रों पर पुनर्मतदान के बारे में लाउडस्पीकर से क्षेत्र में जानकारी दे दी गई थी। इसके साथ ही जिन मतदाताओं के नंबर जिला चुनाव अधिकारी के पास पंजीकृत हैं उन्हें कॉल कर तथा एसएमएस के जरिए भी इस बारे में सूचित किया गया। ज्ञात हो कि विधानसभा चुनाव 2013 में केवल जंगपुरा विधानसभा में ही एक मतदान केंद्र पर पुनर्मतदान हुआ था। जबकि 2008 के विधानसभा चुनाव में 9 मतदान केंद्रों पर दोबारा मतदान कराया गया था।

नीति आयोग की मीटिंग में विकास का राष्ट्रीय एजेंडा होगा तय

नीति आयोग की पहली बैठक में आज केंद्र और राज्य सरकार मिलकर देश के विकास का राष्ट्रीय एजेंडा तय करेंगे। नीति आयोग की पहली बैठक की अध्यक्षता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करेंगे। गवर्निंग काउंसिल की बैठक में सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ पीएम मोदी देश के विकास की प्राथमिकताओं पर चर्चा करेंगे। साथ ही, वह केंद्र और राज्यों के बीच तालमेल की प्रभावी प्रक्रिया और तंत्र स्थापित करने पर भी विचार-विमर्श करेंगे। योजना आयोग की जगह बने नीति आयोग की गवर्निंग काउंसिल की यह पहली बैठक है।

नीति आयोग की बैठक में देश हित को लेकर चर्चा की जाएगी। इसमें ऐसे कई निर्णय लिये जायेंगे जो देश हित से जुड़े हुये है। बताया गया है कि, विकास का राष्ट्रीय एजेंडा 2017 से लागू किया जा सकता है। नीति आयोग के तेरह सूत्रीय उद्देश्यों में से एक प्रधानमंत्री और सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों को राष्ट्रीय एजेंडे का प्रारूप उपलब्ध कराना भी है।

इसके अलावा बैठक में पीएम मोदी द्वारा शुरू किए गए कार्यक्रमों जैसे- स्वच्छ भारत, मेक इन इंडिया, बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ, स्मार्ट सिटी, 2022 तक सबके लिए आवास, डिजिटल इंडिया, स्किल इंडिया और प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के बारे में मुख्यमंत्रियों से सुझाव भी लिए जाएंगे।

नवगठित नीति आयोग की गवर्निंग काउंसिल की ये पहली बैठक बेहद खास होगी। इस बैठक में अब तक पंचवर्षीय योजनाओं के रूप में विकास का एजेंडा तय करती रही राष्ट्रीय विकास परिषद (एनडीसी) की बैठकों से बिल्कुल भिन्न होगी। एनडीसी की प्रक्रिया जहां केंद्रीयकृत होती थी, वहीं नीति आयोग की गवर्निंग काउंसिल की बैठक पर सहकारी संघवाद का प्रभाव होगा।

एनडीसी की बैठक में जहां प्रधानमंत्री मंच पर बैठते थे जबकि सभी मुख्यमंत्री उनके आगे बैठते थे। दूसरी ओर नीति आयोग की गवर्निंग काउंसिल की बैठक गोल मेज पर होगी जिसमें सभी मुख्यमंत्री पीएम के साथ बैठेंगे। बताया जाता है कि प्रधानमंत्री मुख्यमंत्रियों से अलग से भी मिलेंगे और इस दौरान कोई अधिकारी मौजूद नहीं होगा।

 

बिहार में सियासी घमासान चरम पर पहुंच गया है। आज सुबह बिहार के प्रभारी राज्यपाल केशरी नाथ त्रिपाठी पटना पहुंच रहे हैं। दोपहर बाद नीतीश कुमार करीब डेढ बजे राजभवन जाकर सरकार बनाने का दावा पेश कर सकते हैं। माना जा रहा है कि नीतीश कुमार के साथ जेडीयू के 97 विधायक भी राजभवन तक मार्च करेंगे। उनका दावा है उन्हें 130 विधायकों का समर्थन हासिल है। इस बीच मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी ने कुर्सी छोड़ने से इनकार करते हुए कहा है कि वो अपनी ताकत विधानसभा में दिखाएंगे।

नीति आयोग की बैठक में शामिल होने दिल्ली आए जीतनराम मांझी भी आज ही पटना लौट रहे हैं। इस दौरे में मांझी ने अलग से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की थी। प्रधानमंत्री से मुलाकात के बाद मांझी के हौसले बुलंद हैं। इस बीच बिहार के राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी ने नीतीश समर्थक 20 मंत्रियों का इस्तीफा मंजूर कर लिया है। इसके अलावा राज्यपाल मांझी की सिफारिश पर भी विचार कर सकते हैं।

राज्यपाल को लिखी चिट्ठी में मांझी ने नीतीश कुमार के जेडीयू विधायक दल के नेता चुने जाने पर सवाल उठाए हैं। मांझी के मुताबिक जेडीयू अध्यक्ष शरद यादव का विधायक दल की बैठक बुलाना अवैध है। गौरतलब है कि शरद यादव की बुलाई बैठक में ही नीतीश को विधायक दल का नेता चुना गया है ।

मांझी की डूबती नैया कैसी होगी पार, आज शाम पीएम से मिलेंगे मांझी

बिहार में सीएम की कुर्सी को लेकर खींचतान जारी है। सीएम मांझी अपने कुर्सी छोड़ने को तैयार नहीं है, तो वहीं नीतीश कुमार खुद सीएम बनने की पूरे कोशिश कर रहे हैं। नीतीश कुमार आज अपनी सरकार बनाने का दावा पेश करेंगे। इस मामले में राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी सोमवार को कोई फैसला ले सकते हैं जब वो कोलकाता से पटना पहुंचेंगे। इस बीच आरजेडी और कांग्रेस ने नीतीश कुमार को समर्थन की चिट्ठी सौंप दी है।

सीएम जीतन राम मांझी आज शाम 5 बजे पीएम मोदी से मुलाकात करेंगे। इस मुलाकात में मांझी बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दिलाने पर बात करेंगे और साथ बिहार में जारी सियासी उठापटक पर भी चर्चा करेंगे। 

बता दें कि, मांझी नीति आयोग की बैठक में शामिल होने के लिए आज दिल्ली आए हुए हैं। सीएम मांझी ने प्रधानमंत्री से मिलने के लिए खास समय की मांग की थी, जिसके बाद पीएम की तरफ से मांझी को आज शाम 5 बजे मिलने का वक्त दिया गया।

गौरतलब है कि जीतनराम मांझी ने शनिवार को राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी से विधानसभा भंग करने की सिफारिश की थी। इसके बाद नीतीश खेमे के 20 मंत्रियों ने कैबिनेट से इस्तीफा दे दिया था।

 

:
:
: