Headline • महिला सांसदों पर किये गए टिपण्णी से घिरे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प• सुप्रीम कोर्ट ने की आसाराम की जमानत याचिका खारिज • धोनी को संन्यास देने की तयारी में है चयनकर्ता, बहुत जल्द कर सकते है फैसला • तकनीकी कारणों की वजह से 56 मिनट पहले रोकी गयी चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग, इसरो ने कहा - जल्द नई तरीक करेंगे तय • भविष्य के टकराव ज्यादा घातक और कल्पना से परे होंगे : सेना प्रमुख जनरल विपिन रावत • इसरो के चेयरमैन ने बताई चंद्रयान-2 मिशन के लांच होने की तरीक, चाँद पर पहुंचने में लगेगा 2 महीने का समय • झाऱखंड के स्वास्थ मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी का रिशवत लेते वीडीयो वायरल, पुलिस ने की FIR दर्ज • राफेल भारत के लिए रणनीतिक तौर पर बेहद अहम साबित होगी : एयर मार्शल भदौरिया• उत्तराखंड : विधायक प्रणव सिंह चैंपियन BJP से बहार • चारा घोटाला मामले में लालू को मिली जमानत• आइटी पेशेवरों के लिए अमेरिका से अच्छी खबर• कर्नाटक संकट : बागी विधायक बोले इस्तीफे नहीं लेंगे वापस• 'अब बस' जाने क्या है मामला• सबाना के सपोर्ट में स्वरा• कर्नाटक का सियासी संग्राम जारी • भारत और न्यूजीलैंड का 54 ओवर का खेल आज• भारत बनाम न्यूजीलैंड• कर्नाटक संकट का असर राज्यसभा में• अहमदाबाद की अदालत  में राहुल गांधी• व्हाइट हाउस में भरा बारिश का पानी • क्या अनुपमा परमेसरन को डेट कर रहे जसप्रीत बुमराह• पाकिस्तान को आंख दिखाता नाग• यूएई और भारत के बीच द्विपक्षीय सहयोग बढ़ाने पर होगी बात• कर्नाटक में सियासी संकट• सभी चोरों का उपनाम मोदी क्यों है: राहुल गांधी


इटावाः सपा के पूर्व अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव ने जब से दिल्ली में आयोजित साइकिल यात्रा के समापन कार्यक्रम में शिरकत की तभी से शिवपाल सिंह और उनके समर्थक मुलायम सिंह से नाराज चल रहे हैं।

सपा के गढ़ में समाजवादी सेक्यूलर मोर्चा की ओर से बैनर और पोस्टर लगाए गए हैं लेकिन रोचक बात यह है कि इन पोस्टर और बैनरों में मुलायम सिंह यादव की तस्वीर गायब है।

जबकि चंद दिनों पहले शिवपाल सिंह ने मैनपुरी से मुलायम सिंह यादव के सेक्यूलर मोर्चा के टिकट पर चुनाव लड़ने की बात कह रहे थे। 

इटावा में रातोंरात समजवादी सेक्यूलर मोर्चा के कार्यकर्ताओ ने होर्डिंग और बैनरों से पूरे शहर को पाट दिया है।

सेक्यूलर मोर्चा कार्यकर्ता रोली यादव ने बताया कि मुलायम सिंह यादव पुत्र मोह में सारी दुनिया भूल चुके  है। मुलायम सिंह यादव की स्थिति बिना पेंदी के लोटा की तरह हो चुकी है।

एक और मुलायम सिंह यादव शिवपाल से नई पार्टी बनाने के लिए कहते हैं और दूसरी ओर मुलायम सिंह यादव पुत्र मोह में अखिलेश के साथ खड़े हुए दिखाई पड़ते है।

मुलायम सिंह यादव दो नाव की सवारी करना चाहते हैं। मुलायम सिंह यादव को ऐसा नहीं करना चहिये। मुलायम सिंह यादव ने पुत्र मोह में शिवपाल का साथ छोड़ दिया है। अपने बेटे के सामने समर्पण कर दिया है।

संबंधित समाचार

:
:
: