Headline • अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट पर PM मोदी से की अपील दिल्ली को दे पूर्ण राज्य का दर्जा • भारत और सऊदी अरब ने पुलवामा हमले की कड़ी निंदा की• जयपुर सेंट्रल जेल में मारा गया पाकिस्तानी कैदी• नवजोत सिंह सिद्धू के शो से बाहर होने पर कपिल शर्मा का बयान• तमिलनाडु में भाजपा संग एआईएडीएमके गठबंधन हुआ तय • इमरान खान की भारत को धमकी बिना साबुत किया हमला तो खुला जवाब देंगे• अलीगढ़ हिंदू छात्र वाहिनी कार्यकर्ताओं का धारा 370 को हटाने को लेकर प्रदर्शन• कुलभूषण जाधव मामले की सोमवार से सुनवाई शुरू• उत्तराखंड पुलिस की कश्मीरी छात्रों से सोशल मीडिया पर भड़काऊ बयान न देने की अपील • पुलवामा एनकाउंटर: मेजर समेत 4 जवान शहीद, 2 आतंकी ढेर• राजस्‍थान का गुर्जर आंदोलन शनिवार को खत्म• पुलवामा आतंकी हमले पर सर्वदलीय बैठक शुरू• PM मोदी का ऐलान: आतंकियों की बहुत बड़ी गलती चुकानी होगी कीमत• गांधीजी के पुतले को गोली मारने वाली हिंदू महासभा सचिव पूजा पांडे को मिली जमानत• कश्मीर के पुलवामा में आत्मघाती विस्फोट 41 सीआरपीएफ जवानों की मौत• राजीव सक्सेना को अगस्ता वेस्टलैंड मामले में 22 फरवरी तक मिली अंतरिम जमानत • सुप्रीम कोर्ट ने केजरीवाल और एलजी विवादों पर अपना फैसला सुनाया• केसरी: अक्षय कुमार अभिनीत ऐतिहासिक ड्रामा का पहला झलक वीडियो रिलीज़ • पीएम मोदी ने हरियाणा में की विकास परियोजनाओं की शुरुआत • राफेल डील को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की मोदी सरकार पर जुबानी जंग • मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस में SC ने राव के माफ़ी नामे को किया अस्वीकार लगाया 1 लाख का जुर्माना• आरक्षण की मांग को लेकर गुर्जर आंदोलन उग्र • शराब पर राजनीति: त्रिवेंद्र सिंह रावत से मुख्यमंत्री पद का इस्तीफा देने की मांग• आ रही हूँ यूपी लूटने- वाराणसी में प्रियंका वाड्रा के खिलाफ लगाए गए पोस्टर• PM मोदी ने 300 करोड़ के भोजन वितरण पर मथुरा वासियो को किया सम्बोधित


इटावाः यहां के बीजेपी के एससी सांसद अशोक दोहरे ने कहा है कि एससी-एसटी एक्ट में कुछ भी बदला नहीं है। इसमें कुछ भी नया नहीं जोड़ा गया है, फिर सवर्ण क्यों विरोध कर रहे हैं? दोहरे के मुताबिक यह कोई आंदोलन नहीं है, कुछ लोगों की यह व्यक्तिगत राय है। जो चाहते हैं कि देश में सामाजिक भाईचारा बना रहे, किसी का उत्पीड़न न हो, वे सवर्ण एससी/एसटी एक्ट का विरोध नहीं कर रहे। इसका सिर्फ ऐसे लोग ही विरोध कर रहे हैं जिनकी मंशा अनुसू‍चित जा‍ति के उत्पीड़न की है। इस एक्ट को लेकर ओबीसी का भी कोई विरोध नहीं है।

दोहरे ने कहा “कुछ पार्टियां भी सवर्णों को हवा दे रही हैं, लेकिन इससे सरकार के खिलाफ कोई माहौल नहीं बना है और न बनेगा। हमारी पार्टी ने समाज के कमजोर तबके के लोगों की रहनुमाई करने का काम किया है। इससे बीजेपी मजबूत हुई है। इससे पहले भी तो यह एक्ट प्रभावी था, तब क्यों किसी ने आवाज नहीं उठाई?

दोहरे ने कहा कि मोदी सरकार ने 2015 में अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति अत्याचार निवारण कानून को और मजबूत किया था। इसमें 25 तरह के और कार्यों को भी अपराध के दायरे में लाया गया था। पहले सिर्फ 22 मामलों में यह एक्ट लगता था। तब भी इसका कोई विरोध नहीं हुआ था। अनुसूचित जाति के लोगों ने मोदी सरकार के इस फैसले की सराहना की।

20 मार्च सुप्रीम कोर्ट ने एससी/एसटी एक्ट में एक बदलाव कर दिया था। कोर्ट ने इस एक्ट के तहत आरोपी की तुरंत गिरफ्तारी पर रोक लगा दी थी। केस दर्ज करने से पहले डीएसपी लेवल के अधिकारी की जांच और गिरफ्तारी से पहले एसपी की मंजूरी जरूरी कर दी थी। यह बदलाव तो कोर्ट ने किए लेकिन इसकी आंच आई सरकार पर। अनुसूचित जाति के संगठनों ने कहा कि इसे सरकार ने कमजोर कर दिया।

बदलाव के खिलाफ 2 अप्रैल को अनुसूचित जाति के लोगों का देशव्यापी आंदोलन हुआ था। बाद में सरकार एससी/एसटी एक्ट संशोधन बिल ले आई और वह दोनों सदनों में पास हो गया। 

 

संबंधित समाचार

:
:
: