Headline • एशिया कप में अफगानिस्तान ने श्रीलंका को हराकर सभी को चौकाया• राज्यपाल ने की योगी सरकार की प्रशंसा, कहा-डेढ़ साल में बहुत बेहतर हुई है कानून-व्यवस्था• कांग्रेसियों ने लोगों को लॉलीपॉप बांटकर पीएम की 557 करोड़ की योजनाओं का उड़ाया मजाक• इलाहाबाद ने नहीं निकलेगा मुहर्रम का जुलूस, ताजिएदारों ने गड्ढों के कारण लिया फैसला• लड़कियों से जबरन सेक्स करवाता था होटल का मैनेजर, रुद्रपुर में सेक्स रैकेट का खुलासा• बीजेपी विधायक लोनी पुलिस पर लगाया परिवार को परेशान करने का आरोप, पहले भी उठाया था मुद्दा• महज 4 साल की उम्र में करता है लाजवाब घुड़सवारी, दूर-दूर से आते हैं बच्चे के हुनर को देखने• पेट्रोल पम्प मैनेजर ने दिखाया साहस, ग्रामीणों के साथ मिलकर पकड़ा लूटकर भाग रहे एक बदमाश को• प्रदर्शन कर रहे सवर्ण समाज के लोगों से बीजेपी सांसद ने कहा, आप अकेले किसी को जीता नहीं सकते हो• तेज बुखार के चलते खाना बनाने से इनकार किया तो शौहर ने दे दिया तीन तलाक, सामूहिक में हुआ था निकाह• 'ठग्स ऑफ हिंदोस्तान' का पहला पोस्टर आया सामने, जबरदस्त लुक में नजर आएं अमिताभ बच्चन• छेड़खानी से क्षुब्द होकर लड़की ने की आत्महत्या, परिजनों की शिकायत पर रिपोर्ट दर्ज, आरोपी फरार• महिला का साहस देख सभी दंग, मारपीट के दौरान दूसरी महिला को गिराकर हाथ से तमंचा छीन लिया• सीएम योगी ने कहा-अब आंखों का जटिल ऑपरेशन भी बीएचयू में होंगे• मुरादाबादः एक और बच्चा बना आदमखोर तेंदुए का निवाला, वन विभाग की सुस्ती से ग्रामीणों में रोष• जब डायल 100 की गाड़ी खड़ी कर जमकर नाचे पुलिस वाले, वीडियो वायरल• गोरखपुर जिला अस्पताल में न सेवा, न ही सुविधा, सोमवार को ही सीएम ने किया था निरीक्षण• निकाह के लिए अलग-अलग धर्म के प्रेमी युगल को पकड़ा, लड़की का धर्म परिवर्तन कराने का आरोप• उसे पुलिस ढूंढ रही थी लेकिन वह आया और हत्या कर चला गया, मेरठ की घटना से पुलिस पर सवाल• पीएम मोदी ने काशी को दी 557 करोड़ रुपए की योजनाओं की सौगात• BHU में बोले पीएम मोदी- काशी बनेगा पूर्वी भारत का दरवाजा,दिखने लगा बदलाव• BHU में सीएम योगी ने किया जनसभा को संबोधित, जानें क्या कहा...• वाराणसी : BHU पहुंचे पीएम मोदी, 557 करोड़ की योजनाओं की देंगे सौगात• सम्मेलन में खाने की मची लूट, राजबब्बर और गुलाम नबी आजाद के सामने भिड़े कांग्रेस कार्यकर्ता• कासगंज : पुरानी रंजिश में बदमाशों ने चाचा-भतीजे को मारी गोली,एक की मौत


देवबन्द : तीन तलाक मामले की मुख्य याचिकाकर्ता एवं  सुप्रीम कोर्ट के अधिवक्ता फराह फ़ैज के देवबंद मे दिए गये बयान पर देवबंदी उलेमाओं ने ना सिर्फ नाराजगी जताई है बल्कि आरोपों पर माफी मांगने की भी मांग की है। उलेमाओं ने सरकार से फराह फ़ैज के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग भी की है।

उलेमाओं ने कहा कि फराह फ़ैज़ एक वकील है अपनी वकालत करती रहे। उन्हें धार्मिक मामलो मे दखलअंदाजी करने का अधिकार नहीं है। 

आपको बता दें कि रविवार को सुप्रीम कोर्ट की वकील फराह फ़ैज़ देवबंद आई थीं, जहां उसने क्षत्रीय वंश कबूल किया और इस्लामिक धर्मगुरुओं समेत फतवों की नगरी दारुल उलूम पर ना सिर्फ गंभीर आरोप लगाये बल्कि तीन तलाक, हलाला और जारी किए गये फतवों को एक दुकानदारी बताया।

फराह के बयान पर देवबंदी उलेमाओं ने कड़ी नाराजगी जताई है। उलेमाओं ने कहा कि फराह फ़ैज़ ने इस्लाम धर्म से क्षत्रीय वंश कबूल किया है उसके लिए उसको मुबारकबाद। लेकिन धर्म गुरुओं और उलेमाओं के खिलाफ उल्टी सीधी बयानबाजी करना गलत है।

उलेमा ने कहा कि अदालत सबके लिए है, देश के हर मुसलमान न्यायपालिका का सम्मान करते हैं। देश के संविधान के लिए मुसलमानों के बुजुर्गों ने बलिदान दिए हैं इसलिए कोर्ट के फैसले और संविधान को नहीं मानने का तो मतलब ही नहीं बनता। संविधान ने हर मजहब को अपने तरीके के रहने को आजादी दी है यह हमें मजहब की आजादी है। 

अगर फराह फ़ैज़ के इस तरह के बयान से देश मे किसी तरह का टकराव होता है तो उसके लिए वे जिम्मेदार होंगी। उलेमाओं ने जहां फराह फ़ैज़ को एक अधिवक्ता की तरह काम करने की सलाह दी है। 

 

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: