Headline • राजस्‍थान का गुर्जर आंदोलन शनिवार को खत्म• पुलवामा आतंकी हमले पर सर्वदलीय बैठक शुरू• PM मोदी का ऐलान: आतंकियों की बहुत बड़ी गलती चुकानी होगी कीमत• गांधीजी के पुतले को गोली मारने वाली हिंदू महासभा सचिव पूजा पांडे को मिली जमानत• कश्मीर के पुलवामा में आत्मघाती विस्फोट 41 सीआरपीएफ जवानों की मौत• राजीव सक्सेना को अगस्ता वेस्टलैंड मामले में 22 फरवरी तक मिली अंतरिम जमानत • सुप्रीम कोर्ट ने केजरीवाल और एलजी विवादों पर अपना फैसला सुनाया• केसरी: अक्षय कुमार अभिनीत ऐतिहासिक ड्रामा का पहला झलक वीडियो रिलीज़ • पीएम मोदी ने हरियाणा में की विकास परियोजनाओं की शुरुआत • राफेल डील को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की मोदी सरकार पर जुबानी जंग • मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस में SC ने राव के माफ़ी नामे को किया अस्वीकार लगाया 1 लाख का जुर्माना• आरक्षण की मांग को लेकर गुर्जर आंदोलन उग्र • शराब पर राजनीति: त्रिवेंद्र सिंह रावत से मुख्यमंत्री पद का इस्तीफा देने की मांग• आ रही हूँ यूपी लूटने- वाराणसी में प्रियंका वाड्रा के खिलाफ लगाए गए पोस्टर• PM मोदी ने 300 करोड़ के भोजन वितरण पर मथुरा वासियो को किया सम्बोधित • आंध्र प्रदेश में PM का विरोधी पोस्टरों से स्वागत, उपवास पर बैठे चंद्रबाबू नायडू • J&K: हिमस्‍खलन के बाद फसे पुलिसकर्मियों की तलाश जारी • SC ने तेजस्वी यादव को पटना में सरकारी बंगला खाली करने का दिया आदेश • इलाहाबाद हाईकोर्ट ने उत्तर प्रदेश के राज्य कर्मचारियों की हड़ताल को अवैध ठहराया • राहुल गांधी ने राफेल डील को लेकर PM मोदी पर सादा निशाना • ममता के धरने में शामिल होने वाले अधिकारियों पर गिर सकती है गाज• मुजफ्फरपुर आश्रय गृह में यौन उत्पीड़न: सुप्रीम कोर्ट ने बिहार से दिल्ली ट्रांसपर किया मामला• शेर से भिड़ा युवक, आत्मरक्षा के लिए शेर को ही मार डाला• PM मोदी 15 फरवरी को पहली स्वदेशी इंजन रहित वंदे भारत एक्सप्रेस को दिखाएंगे हरी झंडी • मनी लॉन्ड्रिंग केस: रॉबर्ट वाड्रा आज फिर पहुंचे ED दफ्तर


इलाहाबादः यहां खुल्दाबाद स्थित राजकीय बाल गृह शिशु में बीते 47 दिनों में सात बच्चों की मौतों ने प्रशासन पर कई गम्भीर सवाल खड़े कर दिये हैं। इनमें से ज्यादातर बच्चे लावारिस हालत में मिले थे और मजिस्ट्रेट या फिर सीडब्लूसी यानि बाल कल्याण समिति के निर्देश पर राजकीय बाल गृह में रखा गया था।

जिन सात बच्चों की मौत बीते 47 दिनों में हुई है, उनमें 6 बालिकाएं और एक बालक शामिल हैं। हालांकि मासूम बच्चों की लगातार हो रही मौतों का मामला सुर्खियों में आने के बाद प्रशासन बचाव की मुद्रा में आ गया है। प्रशासन का कहना है कि बाल गृह में हो रही बच्चों की मौतें ज्यादातर गम्भीर रोगों की वजह से हुई हैं।

प्रशासन की दलील है कि बाल गृह में आने वाले ज्यादातर बच्चे कमजोर और संक्रमित होते हैं। जिलाधिकारी ने मामले का संज्ञान लेते हुए जिला विकास अधिकारी और जिला प्रोबेशन अधिकारी को जांच सौंप दी है। जिसके बाद आज जांच रिपोर्ट दोनों ही अधिकारियों ने डीएम को सौंप दी है।

जिला प्रोबेशन अधिकारी नीलेश मिश्र के मुताबिक जांच में उन्हें ऐसी कोई गम्भीर खामियां नहीं मिली हैं। उनके मुताबिक मरने वाले बच्चों में ज्यादातर बच्चों की उम्र एक या दो दिन से लेकर छह माह के लगभग रही है। 

गौरतलब है कि इलाहाबाद के खुल्दाबाद में महिला कल्याण विभाग द्वारा राजकीय बाल गृह शिशु और राजकीय दत्तक ग्रहण ईकाई संचालित है। जिला प्रोबेशन अधिकारी के मुताबिक राजकीय बाल गृह शिशु की क्षमता जहां 50 बच्चों की है। वहीं मौजूदा समय में राजकीय बाल गृह शिशु में 11 बच्चे हैं।

जबकि राजकीय दत्तक ग्रहण ईकाई की क्षमता दस बच्चों को रखने की है। लेकिन उसमें क्षमता से अधिक 32 बच्चे रखे गए हैं। हालांकि जुलाई के महीने में राजकीय दत्तक ग्रहण ईकाई में बच्चों की संख्या बढ़कर 56 हो गयी थी।

जिसके बाद जिला प्रोबेशन अधिकारी ने निदेशक से अनुरोध कर बीस बच्चों को दूसरे राजकीय दत्तक ग्रहण ईकाईयों में ट्रांसफर करने की कार्रवाई की है। 

संबंधित समाचार

:
:
: