Headline • एशिया कप में अफगानिस्तान ने श्रीलंका को हराकर सभी को चौकाया• राज्यपाल ने की योगी सरकार की प्रशंसा, कहा-डेढ़ साल में बहुत बेहतर हुई है कानून-व्यवस्था• कांग्रेसियों ने लोगों को लॉलीपॉप बांटकर पीएम की 557 करोड़ की योजनाओं का उड़ाया मजाक• इलाहाबाद ने नहीं निकलेगा मुहर्रम का जुलूस, ताजिएदारों ने गड्ढों के कारण लिया फैसला• लड़कियों से जबरन सेक्स करवाता था होटल का मैनेजर, रुद्रपुर में सेक्स रैकेट का खुलासा• बीजेपी विधायक लोनी पुलिस पर लगाया परिवार को परेशान करने का आरोप, पहले भी उठाया था मुद्दा• महज 4 साल की उम्र में करता है लाजवाब घुड़सवारी, दूर-दूर से आते हैं बच्चे के हुनर को देखने• पेट्रोल पम्प मैनेजर ने दिखाया साहस, ग्रामीणों के साथ मिलकर पकड़ा लूटकर भाग रहे एक बदमाश को• प्रदर्शन कर रहे सवर्ण समाज के लोगों से बीजेपी सांसद ने कहा, आप अकेले किसी को जीता नहीं सकते हो• तेज बुखार के चलते खाना बनाने से इनकार किया तो शौहर ने दे दिया तीन तलाक, सामूहिक में हुआ था निकाह• 'ठग्स ऑफ हिंदोस्तान' का पहला पोस्टर आया सामने, जबरदस्त लुक में नजर आएं अमिताभ बच्चन• छेड़खानी से क्षुब्द होकर लड़की ने की आत्महत्या, परिजनों की शिकायत पर रिपोर्ट दर्ज, आरोपी फरार• महिला का साहस देख सभी दंग, मारपीट के दौरान दूसरी महिला को गिराकर हाथ से तमंचा छीन लिया• सीएम योगी ने कहा-अब आंखों का जटिल ऑपरेशन भी बीएचयू में होंगे• मुरादाबादः एक और बच्चा बना आदमखोर तेंदुए का निवाला, वन विभाग की सुस्ती से ग्रामीणों में रोष• जब डायल 100 की गाड़ी खड़ी कर जमकर नाचे पुलिस वाले, वीडियो वायरल• गोरखपुर जिला अस्पताल में न सेवा, न ही सुविधा, सोमवार को ही सीएम ने किया था निरीक्षण• निकाह के लिए अलग-अलग धर्म के प्रेमी युगल को पकड़ा, लड़की का धर्म परिवर्तन कराने का आरोप• उसे पुलिस ढूंढ रही थी लेकिन वह आया और हत्या कर चला गया, मेरठ की घटना से पुलिस पर सवाल• पीएम मोदी ने काशी को दी 557 करोड़ रुपए की योजनाओं की सौगात• BHU में बोले पीएम मोदी- काशी बनेगा पूर्वी भारत का दरवाजा,दिखने लगा बदलाव• BHU में सीएम योगी ने किया जनसभा को संबोधित, जानें क्या कहा...• वाराणसी : BHU पहुंचे पीएम मोदी, 557 करोड़ की योजनाओं की देंगे सौगात• सम्मेलन में खाने की मची लूट, राजबब्बर और गुलाम नबी आजाद के सामने भिड़े कांग्रेस कार्यकर्ता• कासगंज : पुरानी रंजिश में बदमाशों ने चाचा-भतीजे को मारी गोली,एक की मौत


इलाहाबादः यहां खुल्दाबाद स्थित राजकीय बाल गृह शिशु में बीते 47 दिनों में सात बच्चों की मौतों ने प्रशासन पर कई गम्भीर सवाल खड़े कर दिये हैं। इनमें से ज्यादातर बच्चे लावारिस हालत में मिले थे और मजिस्ट्रेट या फिर सीडब्लूसी यानि बाल कल्याण समिति के निर्देश पर राजकीय बाल गृह में रखा गया था।

जिन सात बच्चों की मौत बीते 47 दिनों में हुई है, उनमें 6 बालिकाएं और एक बालक शामिल हैं। हालांकि मासूम बच्चों की लगातार हो रही मौतों का मामला सुर्खियों में आने के बाद प्रशासन बचाव की मुद्रा में आ गया है। प्रशासन का कहना है कि बाल गृह में हो रही बच्चों की मौतें ज्यादातर गम्भीर रोगों की वजह से हुई हैं।

प्रशासन की दलील है कि बाल गृह में आने वाले ज्यादातर बच्चे कमजोर और संक्रमित होते हैं। जिलाधिकारी ने मामले का संज्ञान लेते हुए जिला विकास अधिकारी और जिला प्रोबेशन अधिकारी को जांच सौंप दी है। जिसके बाद आज जांच रिपोर्ट दोनों ही अधिकारियों ने डीएम को सौंप दी है।

जिला प्रोबेशन अधिकारी नीलेश मिश्र के मुताबिक जांच में उन्हें ऐसी कोई गम्भीर खामियां नहीं मिली हैं। उनके मुताबिक मरने वाले बच्चों में ज्यादातर बच्चों की उम्र एक या दो दिन से लेकर छह माह के लगभग रही है। 

गौरतलब है कि इलाहाबाद के खुल्दाबाद में महिला कल्याण विभाग द्वारा राजकीय बाल गृह शिशु और राजकीय दत्तक ग्रहण ईकाई संचालित है। जिला प्रोबेशन अधिकारी के मुताबिक राजकीय बाल गृह शिशु की क्षमता जहां 50 बच्चों की है। वहीं मौजूदा समय में राजकीय बाल गृह शिशु में 11 बच्चे हैं।

जबकि राजकीय दत्तक ग्रहण ईकाई की क्षमता दस बच्चों को रखने की है। लेकिन उसमें क्षमता से अधिक 32 बच्चे रखे गए हैं। हालांकि जुलाई के महीने में राजकीय दत्तक ग्रहण ईकाई में बच्चों की संख्या बढ़कर 56 हो गयी थी।

जिसके बाद जिला प्रोबेशन अधिकारी ने निदेशक से अनुरोध कर बीस बच्चों को दूसरे राजकीय दत्तक ग्रहण ईकाईयों में ट्रांसफर करने की कार्रवाई की है। 

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: