Headline • महिला सांसदों पर किये गए टिपण्णी से घिरे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प• सुप्रीम कोर्ट ने की आसाराम की जमानत याचिका खारिज • धोनी को संन्यास देने की तयारी में है चयनकर्ता, बहुत जल्द कर सकते है फैसला • तकनीकी कारणों की वजह से 56 मिनट पहले रोकी गयी चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग, इसरो ने कहा - जल्द नई तरीक करेंगे तय • भविष्य के टकराव ज्यादा घातक और कल्पना से परे होंगे : सेना प्रमुख जनरल विपिन रावत • इसरो के चेयरमैन ने बताई चंद्रयान-2 मिशन के लांच होने की तरीक, चाँद पर पहुंचने में लगेगा 2 महीने का समय • झाऱखंड के स्वास्थ मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी का रिशवत लेते वीडीयो वायरल, पुलिस ने की FIR दर्ज • राफेल भारत के लिए रणनीतिक तौर पर बेहद अहम साबित होगी : एयर मार्शल भदौरिया• उत्तराखंड : विधायक प्रणव सिंह चैंपियन BJP से बहार • चारा घोटाला मामले में लालू को मिली जमानत• आइटी पेशेवरों के लिए अमेरिका से अच्छी खबर• कर्नाटक संकट : बागी विधायक बोले इस्तीफे नहीं लेंगे वापस• 'अब बस' जाने क्या है मामला• सबाना के सपोर्ट में स्वरा• कर्नाटक का सियासी संग्राम जारी • भारत और न्यूजीलैंड का 54 ओवर का खेल आज• भारत बनाम न्यूजीलैंड• कर्नाटक संकट का असर राज्यसभा में• अहमदाबाद की अदालत  में राहुल गांधी• व्हाइट हाउस में भरा बारिश का पानी • क्या अनुपमा परमेसरन को डेट कर रहे जसप्रीत बुमराह• पाकिस्तान को आंख दिखाता नाग• यूएई और भारत के बीच द्विपक्षीय सहयोग बढ़ाने पर होगी बात• कर्नाटक में सियासी संकट• सभी चोरों का उपनाम मोदी क्यों है: राहुल गांधी


झांसीः यह है उत्तर प्रदेश की बेहतर स्वास्थ्य सेवायें। जहां स्ट्रेचर और वार्ड वॉय न मिलने के कारण तीमारदार अपने मरीजों के गोद में उठाकर कर ले जाते हैं।

या फिर स्वयं स्ट्रेचर धकेलकर वार्ड और जांच के लिए ले जाते है। ऐसी ही तस्वीरें समाचार प्लस के कैमरे में कैद हो गईं है। जिसमें एक पिता अपने बीमार बच्चे को गोद में उठाकर ले जा रहा है और उसकी मां बच्चे पर चढ़ने वाली बोतल पकड़कर पीछे-पीछे भाग रही है। 

प्रदेश की सत्ता संभालते ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सूबे की बिगड़ी स्वस्थ्य सेवाओं को बेहतर बनाने का भरोसा दिलाया था। उन्होंने स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर बनाने के लिए ताबड़तोड़ दौरे किये थे।

उनके दौरों को देखकर लग रहा था कि प्रदेश में अब मरीजों को स्वास्थ्य सेवायें अच्छी मिलने लगेंगी। लेकिन प्रदेश की जनता के सारे अरमान अब चकनाचूर हो गए। 

झांसी मेडिकल कालेज में स्ट्रेचर न मिलने के कारण एक पिता अपने बेटे को स्वयं उठाकर जांच के लिए जा रहा है।

इसके साथ ही कुछ तीमरदार वार्ड वॉय न मिलने के कारण स्वयं ही मरीज को स्ट्रेचर पर लिटाकर धकेलते हुए नजर आ रहे हैं। जब उनसे जानकारी ली तो उन्होंने बताया कि उन्हें स्वयं पता नहीं कि कहां जाना है।

इमरजेंसी के डॉक्टरों ने यह कह कि जांच कराकर ले आओ। फिलहाल यह तस्वीरें एक या दो दिन नहीं अक्सर देखने को मिलती हैं।

इतना ही नजहीं यहां अक्सर जूनियर डॉक्टरों द्वारा मरीजो के तमीरदारों के साथ मारपीट की घटनायें आती रहती हैं। जब इन बिगडी सुविधाओं के बारे में अधिकारियों से बात करने का प्रयास किया जाता है तो वह कैमरे के सामने आने से इंकार कर देते हैं।  

संबंधित समाचार

:
:
: