Headline • इलाहाबाद में बीजेपी जिलाध्यक्ष ने अपने नाते रिश्तेदारों को बांट दिए सारे पद, युवाओं में भारी गुस्सा• भ्रष्टाचार की भेंट चढा बलरामपुर का विकास, लोगों ने शिकायत की तो बीजेपी विधायक बोले, गुंडे हैं ये लोग• सोशल मीडिया में आग लगा रही ही एक और भोजपुरी डांसर, डांस के लटके-झटके सपना चौधरी जैसे• आजमगढ़ में फिर मुठभेड़, बदमाश के साथ पुलिस अधिकारी को भी लगी गोली • प्रिंसिपल या जल्लाद! बच्चे को तबतक मारते रहे जब तक डंडा टूट न गया, क्लास में हंसने पर दी सजा• दामाद की हत्या के लिए 1 करोड़ की सुपारी दी, गैंग की लिंक आईएसआई से भी पाई गई• मृत महिला को जिंदा दिखाकर कर लिया मकान का बैनामा, असली मालिक पर घर छोड़ने की धमकी• महिलाओं ने सरेराह प्रधान में चप्पलों और लाठियों से की पिटाई, पति पत्नी के झगड़े को सुलझाना पड़ा भारी• भारत-पाक मुकाबले का रोमांच चरम पर, कानपुर में फैंस ने बप्पा से की टीम इंडिया की जीत की प्रार्थना• पाकिस्तान ने टॉस जीता और पहले बल्लेबाजी करने का निर्णय, क्या कमाल कर पाएगी रोहित एंड कंपनी?• जब कुर्ता पजामा पहनकर नानी के घर गणपति पूजा में पहुंचे तैमूर,फोटो और वीडियो वायरल• क्यों हो रही है यूपी के इस दरोगा की प्रशंसा, जान की बाजी लगाकर किया कमाल• 'ठग्स ऑफ हिंदोस्तान' से सामने आया फातिमा सना शेख का दमदार लुक,आमिर खान ने दी चेतावनी • रामकथा पर झूमे शिवपाल, कहा-समय बताएगा कौन किसके साथ है• साथ में बीड़ी पी रहे दोस्त की जेब में पैसा देखा तो लालच आ गया, ईंट मारकर हत्या कर पैसे ले लिए• शिकायत करने पर नहीं सुनी लेकिन जब आत्मदाह करने पहुंचा गरीब आदमी तो तुरंत जांच बैठा दी• चंद्रशेखर रावण और मदनी में गोपनीय बातचीत, शेरसिंह राणा ने भी पेश कर दी चुनौती• राजा भैया के पिता और प्रशासन में ठनी ! मोहर्रम के दिन भंडारे के कार्यक्रम में प्रशासन ने लगाई रोक• तीन तलाक पर मोदी सरकार का बड़ा फैसला,अध्यादेश को दी मंजूरी• शामली : मठुभेड़ में दो बदमाश गिरफ्तार, एक को लगी गोली, 10 लाख कैश बरामद • दरोगा के बेटे ने खुद को गोली मारकर की आत्महत्या, मां की बीमारी के चलते डिप्रेशन में था• बीजेपी विधायक देवेंद्र राजपूत की दबंगई, बिजली विभाग के जेई को पीटा,वीडियो वायरल• बहराइच में बुखार का कहर, 45 दिनों में 70 बच्चों की मौत• 'समाचार प्लस' की खबर का असर,विकिपीडिया ने सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत का निक नेम 'झांपू' हटाया• ब्लॉक प्रमुख से फोन पर मांगी गई 5 करोड़ की रंगदारी, न देने पर जान से मारने की धमकी


लखनऊ. प्रदेश में बीतीरात राज्यसभा चुनाव में प्रत्याशी की हार को बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने बीजेपी की छल का नतीजा बताया। मायावती ने कहा कि भाजपा ने अपने प्रत्याशी को किसी भी कीमत पर जीत दिलाने की ठान ली थी। उन्होंने लोकतंत्र की मर्यादा को भी तार-तार कर दिया।

बसपा प्रत्याशी भीमराव अंबेडकर की हार के बाद बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती ने आज अपने आवास, मॉल एवेन्यू में प्रेसवार्ता की। प्रेसवार्ता में ज्यादातर समय वह बीजेपी को कोसती रही। 

मायावती ने कहा कि भाजपा ने प्रदेश में विधायकों की जमकर खरीद फरोख्त की। उनको तमाम प्रलोभन देकर अपने खेमे में शामिल कर लिया। सपा-कांग्रेस समेत तमाम विपक्षी दल तो बसपा को समर्थन कर रहे थे। भाजपा ने अपने नौवें उम्मीदवार को मैदान में उतारकर चुनाव कर दिया। बीजेपी ने एक धन्ना सेठ को टिकट दिया। इसके बाद सभी तरीके अपनाकर उसे विजयी घोषित करवा दिया। भाजपा का यह बेहद शर्मनाक कृत्य है। बसपा के एक विधायक ने दगाबाजी की है, जिसे आज हमने पार्टी से निकाल दिया है। 

बसपा प्रमुख ने कहा कि भाजपा के तमाम हथकंडों के बावजूद बसपा के उम्मीदवार भीमराव अंबेडकर को ज्यादा वोट मिले हैं। 

मायावती ने कहा कि बसपा अब अपनी नई रणनीति पर काम करेगी। गोरखुपर और फूलपुर में चुनाव में मिली हार के बाद राज्यसभा चुनाव में भाजपा ने साजिश रची। भाजपा गलत काम करने से बाज नहीं आ रही है।

लोकसभा उपचुनाव में बसपा ने सपा का समर्थन किया, इसलिए बीजेपी को गोरखपुर और फूलपुर में दिन में तारे नजर आए।

मायावती ने कहा कि बीजेपी के एक दलित विधायक ने अपनी आत्मा की आवाज पर बसपा उम्मीदवार को वोट दिया। मायावती ने राज्यसभा चुनाव में अपनी पार्टी के उम्मीदवार को वोट देने के लिए कांग्रेस और सपा के विधायकों का अभार जताया।

मायावती ने कहा कि यदि अखिलेश यादव कुंडा के गुंडे के मकड़जाल में ना फंसते तो शायद हम यह सीट बचा पाते। मायावती ने कहा कि कल अखिलेश थोड़ी चूक कर गए। यदि मैं इनकी जगह होती तो पहले सपा के उम्मीदवार को जितवाने की कोशिश करती। मुझे विश्वास है कि अखिलेश यादव धीरे-धीरे तजुर्बेकार हो जाएंगे। जिस खास मकसद से बीजेपी और संघ के लोगों ने बीएसपी के प्रत्याशी को हरवाया है उससे यह गठबंधन टूट जाएगा। लेकिन ऐसा नहीं होगा। कल के नतीजों से गठबंधन पर कोई असर नहीं पड़ेगा। बीजेपी का षड़यंत्र महंगा पड़ने वाला है। लोकसभा आम चुनाव में सपा-बसपा के लोग पूरी ताकत झोंक देंगे।

मायवती ने कहा कि बीएसपी और सपा के एक-एक विधायक को वोट डालने से रोकने के लिए बीजेपी सरकार ने शक्ति व संसाधन लगा दिए थे। उन्होंने कहा कि विधायकों को सदन की कार्यवाही व वोट डालने के लिए जेल बाहर लाया जाता है। लेकिन इस बार ऐसा नहीं हुआ।

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: