Headline • अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट पर PM मोदी से की अपील दिल्ली को दे पूर्ण राज्य का दर्जा • भारत और सऊदी अरब ने पुलवामा हमले की कड़ी निंदा की• जयपुर सेंट्रल जेल में मारा गया पाकिस्तानी कैदी• नवजोत सिंह सिद्धू के शो से बाहर होने पर कपिल शर्मा का बयान• तमिलनाडु में भाजपा संग एआईएडीएमके गठबंधन हुआ तय • इमरान खान की भारत को धमकी बिना साबुत किया हमला तो खुला जवाब देंगे• अलीगढ़ हिंदू छात्र वाहिनी कार्यकर्ताओं का धारा 370 को हटाने को लेकर प्रदर्शन• कुलभूषण जाधव मामले की सोमवार से सुनवाई शुरू• उत्तराखंड पुलिस की कश्मीरी छात्रों से सोशल मीडिया पर भड़काऊ बयान न देने की अपील • पुलवामा एनकाउंटर: मेजर समेत 4 जवान शहीद, 2 आतंकी ढेर• राजस्‍थान का गुर्जर आंदोलन शनिवार को खत्म• पुलवामा आतंकी हमले पर सर्वदलीय बैठक शुरू• PM मोदी का ऐलान: आतंकियों की बहुत बड़ी गलती चुकानी होगी कीमत• गांधीजी के पुतले को गोली मारने वाली हिंदू महासभा सचिव पूजा पांडे को मिली जमानत• कश्मीर के पुलवामा में आत्मघाती विस्फोट 41 सीआरपीएफ जवानों की मौत• राजीव सक्सेना को अगस्ता वेस्टलैंड मामले में 22 फरवरी तक मिली अंतरिम जमानत • सुप्रीम कोर्ट ने केजरीवाल और एलजी विवादों पर अपना फैसला सुनाया• केसरी: अक्षय कुमार अभिनीत ऐतिहासिक ड्रामा का पहला झलक वीडियो रिलीज़ • पीएम मोदी ने हरियाणा में की विकास परियोजनाओं की शुरुआत • राफेल डील को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की मोदी सरकार पर जुबानी जंग • मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस में SC ने राव के माफ़ी नामे को किया अस्वीकार लगाया 1 लाख का जुर्माना• आरक्षण की मांग को लेकर गुर्जर आंदोलन उग्र • शराब पर राजनीति: त्रिवेंद्र सिंह रावत से मुख्यमंत्री पद का इस्तीफा देने की मांग• आ रही हूँ यूपी लूटने- वाराणसी में प्रियंका वाड्रा के खिलाफ लगाए गए पोस्टर• PM मोदी ने 300 करोड़ के भोजन वितरण पर मथुरा वासियो को किया सम्बोधित

30 हजार KM का सफर पूरा कर चुका है ये ट्रेवलर, जॉब छोड़ने पर लोगों ने उड़ाया था मजाक

नई दिल्ली. सपने को पूरा करने के लिए लोग किसी भी हद तक जाने को तैयार रहते हैं। कई बार रास्ते में रूकावटें भी आती है। लेकिन, उसे दूर कर मंजिल तक पहुंचनेवाला ही असली योद्धा कहलाता है। ट्रैवलिंग को अपनी जिंदगी माननेवाले अंशुल अखौरी का यही कहना है। वे अब तक देश के 22 राज्यों की यात्रा कर चुके हैं। करीब 30 हजार किमी का सफर तय कर चुके हैं।

 

ऐसे पूरा कर रहे ड्रीम

- अंशुल के लिए सपने को सच में बदलना इतना आसान नहीं रहा।

- उन्हें कई मोर्चों पर कभी खुद से तो कभी फैमिली और समाज का विरोध झेलना पड़ा।

- सबसे बड़ा फैसला था जॉब छोड़कर ट्रैवलिंग को अपनाने का।

- शुरुआत में फैमिली के सदस्य भी इसके लिए तैयार नहीं थे। वे भी विरोध में थे।

- लेकिन, अंशुल ने लक्ष्य को पाने के लिए बड़ा फैसला ले लिया।

- वे जॉब छोड़कर नोमैड की तरह देश की यात्रा पर निकल गए।

- इसके बाद अपनी स्टोरी को अलग-अलग पब्लिकेशन में भेजने लगे।

- कई रिजेक्शन के बाद उनकी स्टोरी छपने लगी। इससे अंशुल को राहत मिली। 

 

कई प्रोजेक्टस पर करते हैं काम

- घूमने के लिए उन्होंने कई ब्रांड्स के साथ काम करना शुरू कर दिया।

- वे एनजीओ के साथ भी जुड़ गए और वॉलंटियर के तौर पर काम करने लगे।

- इससे अंशुल की बजट की समस्या दूर होने लगी। उन्हें अपना सपना पूरा होता दिखने लगा।

- उन्होंने बताया कि की बार क्लाइंट्स से पैसे नहीं मिलने पर परेशानी बढ़ जाती है।

- लेकिन, घूमने का सपना पूरा हो रहा है। इस वजह से कुछ दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

- अंशुल के मुताबिक प्रोजेक्ट्स के तौर पर उन्हें ब्रांड्स के साथ काम करना ज्यादा पसंद है।

- वे लोकल कारीगरों को बढ़ावा देते हैं और उनका शोषण नहीं करते| 

 

किन्नौर में हुई थी ऐसी गलती

- ट्रैवलर अंशुल एक बार हिमाचल प्रदेश के किन्नौर गए थे।

- वे यहां के रिस्ट्रिक्टेड एरिया में घुस गए थे। इसके बाद ITBP के जवानो ने पकड़ लिया था|

- उस दिन अंशुल को लगा था की ये उनका आखिरी सोलो ट्रेवल है।

- हालांकि, काफी ज्यादा फटकार लगाने के बाद उन्हें छोड़ दिया गया।

 

इनका क्या है कहना

- अंशुल जहां भी जाते हैं लोगों को देश घूमने की सलाह देते हैं।

- उनका मानना है कि किताबों से ज्यादा अनुभव और ज्ञान लोगों से मिलता है।

- बता दें कि अंशुल बिहार के रहनेवाले हैं। इनके पिता बैंक में जॉब करते हैं।

संबंधित समाचार

:
:
: