Headline • सोशल मिडिया पर नुसरत जहां की हुई बड़ी तारीफ• 2019 के सेमीफाइनल में पहुंचने वाली पहली टीम बनी ऑस्ट्रेलिया• चंद्रबाबू नायडू का आलीशान बंगला बना खँडहर • पीएम मोदी के बयान पर सदन में हंगामा   • मसूद अजहर मौत के दरवाजे पर • सुनैना रोशन के ब्वॉयफ्रेंड रुहेल ने रोशन परिवार पर लगाया आरोप • माइकल क्लार्क ने बुमराह और कोहली के बारे में कहा• हफ्ते भर की देरी के बाद मानसून अब  देगा दस्तक  •  राम रहीम ने की पैरोल मांग• रणबीर कपूर और आलिया के रिश्ते पर लग सकती है मुहर • रूस अमेरिका से रिश्ते मधुर करने में जुटा • यूपी के 15 शहरों के लिए राष्ट्रीय हरित अधिकरण (NGT) की चेतावनी • मायावती का अखिलेश पर बड़ा आरोप, अखिलेश के कारण हुई हार• चेन्नई की प्यास बुझाने के लिए चलाई गई स्पेशल ट्रेन• भारत की निगाह बड़ी जीत पर, अफगानिस्तान के खिलाफ विश्व कप में पहली बार भारत• बिहार में मानसून पहुंचने से लोगो ने ली राहत की सांस • एक बार फिर सदन में तीन तलाक के मुद्दे पर तीखी बहस • विश्व कप में अंतिम चार के लिए अपनी दावेदारी मजबूत करने उतरेगा भारत • संकट में कुमारस्वामी की सरकार, एचडी देवगौड़ा ने मध्यावधि चुनाव की आशंका जताई• अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंन्द मोदी का दुनिया को सन्देश। • गौतम गंम्भीर ने साझा किए इमोशनल मैसेज • अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर पीएम मोदी  रांची  में करेगें योग • भारत को आतंक का नया ठिकाना बनाने की फिराख में है ISIS के आतंकी• अमेरिका के इस कदम से, कामकाजी भारतीयों को होगी परेशानी• चुनाव के बाद तेजस्वी कहाँ गायब हो गये है।

30 हजार KM का सफर पूरा कर चुका है ये ट्रेवलर, जॉब छोड़ने पर लोगों ने उड़ाया था मजाक

नई दिल्ली. सपने को पूरा करने के लिए लोग किसी भी हद तक जाने को तैयार रहते हैं। कई बार रास्ते में रूकावटें भी आती है। लेकिन, उसे दूर कर मंजिल तक पहुंचनेवाला ही असली योद्धा कहलाता है। ट्रैवलिंग को अपनी जिंदगी माननेवाले अंशुल अखौरी का यही कहना है। वे अब तक देश के 22 राज्यों की यात्रा कर चुके हैं। करीब 30 हजार किमी का सफर तय कर चुके हैं।

 

ऐसे पूरा कर रहे ड्रीम

- अंशुल के लिए सपने को सच में बदलना इतना आसान नहीं रहा।

- उन्हें कई मोर्चों पर कभी खुद से तो कभी फैमिली और समाज का विरोध झेलना पड़ा।

- सबसे बड़ा फैसला था जॉब छोड़कर ट्रैवलिंग को अपनाने का।

- शुरुआत में फैमिली के सदस्य भी इसके लिए तैयार नहीं थे। वे भी विरोध में थे।

- लेकिन, अंशुल ने लक्ष्य को पाने के लिए बड़ा फैसला ले लिया।

- वे जॉब छोड़कर नोमैड की तरह देश की यात्रा पर निकल गए।

- इसके बाद अपनी स्टोरी को अलग-अलग पब्लिकेशन में भेजने लगे।

- कई रिजेक्शन के बाद उनकी स्टोरी छपने लगी। इससे अंशुल को राहत मिली। 

 

कई प्रोजेक्टस पर करते हैं काम

- घूमने के लिए उन्होंने कई ब्रांड्स के साथ काम करना शुरू कर दिया।

- वे एनजीओ के साथ भी जुड़ गए और वॉलंटियर के तौर पर काम करने लगे।

- इससे अंशुल की बजट की समस्या दूर होने लगी। उन्हें अपना सपना पूरा होता दिखने लगा।

- उन्होंने बताया कि की बार क्लाइंट्स से पैसे नहीं मिलने पर परेशानी बढ़ जाती है।

- लेकिन, घूमने का सपना पूरा हो रहा है। इस वजह से कुछ दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

- अंशुल के मुताबिक प्रोजेक्ट्स के तौर पर उन्हें ब्रांड्स के साथ काम करना ज्यादा पसंद है।

- वे लोकल कारीगरों को बढ़ावा देते हैं और उनका शोषण नहीं करते| 

 

किन्नौर में हुई थी ऐसी गलती

- ट्रैवलर अंशुल एक बार हिमाचल प्रदेश के किन्नौर गए थे।

- वे यहां के रिस्ट्रिक्टेड एरिया में घुस गए थे। इसके बाद ITBP के जवानो ने पकड़ लिया था|

- उस दिन अंशुल को लगा था की ये उनका आखिरी सोलो ट्रेवल है।

- हालांकि, काफी ज्यादा फटकार लगाने के बाद उन्हें छोड़ दिया गया।

 

इनका क्या है कहना

- अंशुल जहां भी जाते हैं लोगों को देश घूमने की सलाह देते हैं।

- उनका मानना है कि किताबों से ज्यादा अनुभव और ज्ञान लोगों से मिलता है।

- बता दें कि अंशुल बिहार के रहनेवाले हैं। इनके पिता बैंक में जॉब करते हैं।

संबंधित समाचार

:
:
: