Headline • नवजोत सिंह सिद्धू के शो से बाहर होने पर कपिल शर्मा का बयान• तमिलनाडु में भाजपा संग एआईएडीएमके गठबंधन हुआ तय • इमरान खान की भारत को धमकी बिना साबुत किया हमला तो खुला जवाब देंगे• अलीगढ़ हिंदू छात्र वाहिनी कार्यकर्ताओं का धारा 370 को हटाने को लेकर प्रदर्शन• कुलभूषण जाधव मामले की सोमवार से सुनवाई शुरू• उत्तराखंड पुलिस की कश्मीरी छात्रों से सोशल मीडिया पर भड़काऊ बयान न देने की अपील • पुलवामा एनकाउंटर: मेजर समेत 4 जवान शहीद, 2 आतंकी ढेर• राजस्‍थान का गुर्जर आंदोलन शनिवार को खत्म• पुलवामा आतंकी हमले पर सर्वदलीय बैठक शुरू• PM मोदी का ऐलान: आतंकियों की बहुत बड़ी गलती चुकानी होगी कीमत• गांधीजी के पुतले को गोली मारने वाली हिंदू महासभा सचिव पूजा पांडे को मिली जमानत• कश्मीर के पुलवामा में आत्मघाती विस्फोट 41 सीआरपीएफ जवानों की मौत• राजीव सक्सेना को अगस्ता वेस्टलैंड मामले में 22 फरवरी तक मिली अंतरिम जमानत • सुप्रीम कोर्ट ने केजरीवाल और एलजी विवादों पर अपना फैसला सुनाया• केसरी: अक्षय कुमार अभिनीत ऐतिहासिक ड्रामा का पहला झलक वीडियो रिलीज़ • पीएम मोदी ने हरियाणा में की विकास परियोजनाओं की शुरुआत • राफेल डील को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की मोदी सरकार पर जुबानी जंग • मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस में SC ने राव के माफ़ी नामे को किया अस्वीकार लगाया 1 लाख का जुर्माना• आरक्षण की मांग को लेकर गुर्जर आंदोलन उग्र • शराब पर राजनीति: त्रिवेंद्र सिंह रावत से मुख्यमंत्री पद का इस्तीफा देने की मांग• आ रही हूँ यूपी लूटने- वाराणसी में प्रियंका वाड्रा के खिलाफ लगाए गए पोस्टर• PM मोदी ने 300 करोड़ के भोजन वितरण पर मथुरा वासियो को किया सम्बोधित • आंध्र प्रदेश में PM का विरोधी पोस्टरों से स्वागत, उपवास पर बैठे चंद्रबाबू नायडू • J&K: हिमस्‍खलन के बाद फसे पुलिसकर्मियों की तलाश जारी • SC ने तेजस्वी यादव को पटना में सरकारी बंगला खाली करने का दिया आदेश


नई दिल्ली। (सुब्रत भट्टाचार्य) देश के करीब 60 फीसदी हिस्से पर भगवा झंडा फहराने के बाद बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने अब तक की सबसे बड़ी चुनौती हाथ में ली है। यह चुनौती है वामपंथियों के गढ़ को भेदने की। पश्चिम बंगाल में मिली कामयाबी के बाद अब अमित शाह सुदूर केरल में भी भाजपा की उपस्थिति दर्ज करना चाहते हैं। केरल और त्रिपुरा ही दो ऐसे राज्य हैं जहां वामपंथियों की सरकारें हैं।

-जिन राज्यों में वामपंथी पार्टियों की सरकारें हैं वहां राजनीति हिंसा का लंबा इतिहास है। आजादी के बाद से ही आरएसएस केरल में जड़े जमाने में लगा हुआ है लेकिन आशातीत सफलता नहीं मिल सकी है। संघ के लिए केरल का क्या महत्व है, इसे इस बात से पता लगाया जा सकता है कि घनत्व के हिसाब से पूरे देश में संघ की सबसे ज्यादा शाखाएं केरल में है। और, केरल में ही संघ ने अपने सबसे ज्यादा संख्या में कार्यकर्ताओं को खोया है।

-अब जब अमित शाह ने केरल में बीजेपी की आमदगी की चुनौती को हाथ में लिया है, संघ इस बात से खुश है गाहे बगाहे राज्य में हो रही राजनीतिक हिंसा पर दुनिया की नजर जाएगी। इससे पार्टी को जड़े जमाने में मदद मिल सकती है।

-अमित शाह ने 15 दिनों तक चलने वाले जनरक्षा यात्रा का अगाज कर दिया है। आज इस यात्रा में यूपी के सीएम और हिन्दुत्व के पोस्टरबाॅय योगी आदित्यनाथ भी जुड़ंेगे। आदित्यनाथ कीचेरी से कन्नूर के बीच करीब 10 किलोमीटर की पदयात्रा करेंगे। यह क्षेत्र केरल के सीएम पिनाराई विजयन का क्षेत्र है। कहा जाता है  िकइस क्षेत्र में कोई भी विपक्ष नहीं है। वामपंथियों का यहां एकछत्र राज है। केरल में विचारधाराओं की लड़ाई अक्सर खूनी संघर्ष में तब्दील हो जाती है।

-शाह अपने कार्यकाल के दौरान ही बंगाल और केरल को फतह करना चाहते हैं ताकि वह संघ के उस सपने को पूरा कर सके जिसमें वामपंथियों के गढ़ में भगवा झंडे को फहराते हुए देखा जाता है।
लेकिन जानकार मानते है कि शाह का यह प्रयास बेहद मुश्किल है, क्योंकि केरल में सीपीएम की गली-गली समितियां है। इसका मुकाबला करने के लिए बीजेपी को पहले अपने कॉडर खड़े करने पड़ेंगे।
बंगाल और केरल में बीजेपी ने अलग नीति अपनाई है। यहां फिल्मी सितारों और क्रिकेटरों को साथ लेकर चलने का इरादा है। क्रिकेटर श्रीसंत को पार्टी चुनाव लड़ा चुकी है। अब जॉन इब्राहीम के माध्यम से युवाओं को जोड़ने की कोशिश है। यहीं कारण है कि दिल्ली की रामलीला में अमित शाह के साथ जॉन इब्राहीम भी दिखे थे।

संबंधित समाचार

:
:
: