Headline • राजस्‍थान का गुर्जर आंदोलन शनिवार को खत्म• पुलवामा आतंकी हमले पर सर्वदलीय बैठक शुरू• PM मोदी का ऐलान: आतंकियों की बहुत बड़ी गलती चुकानी होगी कीमत• गांधीजी के पुतले को गोली मारने वाली हिंदू महासभा सचिव पूजा पांडे को मिली जमानत• कश्मीर के पुलवामा में आत्मघाती विस्फोट 41 सीआरपीएफ जवानों की मौत• राजीव सक्सेना को अगस्ता वेस्टलैंड मामले में 22 फरवरी तक मिली अंतरिम जमानत • सुप्रीम कोर्ट ने केजरीवाल और एलजी विवादों पर अपना फैसला सुनाया• केसरी: अक्षय कुमार अभिनीत ऐतिहासिक ड्रामा का पहला झलक वीडियो रिलीज़ • पीएम मोदी ने हरियाणा में की विकास परियोजनाओं की शुरुआत • राफेल डील को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की मोदी सरकार पर जुबानी जंग • मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस में SC ने राव के माफ़ी नामे को किया अस्वीकार लगाया 1 लाख का जुर्माना• आरक्षण की मांग को लेकर गुर्जर आंदोलन उग्र • शराब पर राजनीति: त्रिवेंद्र सिंह रावत से मुख्यमंत्री पद का इस्तीफा देने की मांग• आ रही हूँ यूपी लूटने- वाराणसी में प्रियंका वाड्रा के खिलाफ लगाए गए पोस्टर• PM मोदी ने 300 करोड़ के भोजन वितरण पर मथुरा वासियो को किया सम्बोधित • आंध्र प्रदेश में PM का विरोधी पोस्टरों से स्वागत, उपवास पर बैठे चंद्रबाबू नायडू • J&K: हिमस्‍खलन के बाद फसे पुलिसकर्मियों की तलाश जारी • SC ने तेजस्वी यादव को पटना में सरकारी बंगला खाली करने का दिया आदेश • इलाहाबाद हाईकोर्ट ने उत्तर प्रदेश के राज्य कर्मचारियों की हड़ताल को अवैध ठहराया • राहुल गांधी ने राफेल डील को लेकर PM मोदी पर सादा निशाना • ममता के धरने में शामिल होने वाले अधिकारियों पर गिर सकती है गाज• मुजफ्फरपुर आश्रय गृह में यौन उत्पीड़न: सुप्रीम कोर्ट ने बिहार से दिल्ली ट्रांसपर किया मामला• शेर से भिड़ा युवक, आत्मरक्षा के लिए शेर को ही मार डाला• PM मोदी 15 फरवरी को पहली स्वदेशी इंजन रहित वंदे भारत एक्सप्रेस को दिखाएंगे हरी झंडी • मनी लॉन्ड्रिंग केस: रॉबर्ट वाड्रा आज फिर पहुंचे ED दफ्तर

मजबूरी में 'अम्मा' ने फिल्मों में रखा था कदम,ऐसे बनी थी सुपरस्टार से फेवरेट पॉलिटिशन

चेन्नई: अपोलो हॉस्पिटल में AIADMK प्रमुख और तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जे.जयललिता ने सोमवार देर रात करीब 11: 30 बजे आखिरी सांस ली। बता दे कि रविवार को तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता को कार्डियक अरेस्ट हुआ था। जिसके बाद से ही उनकी हालत गंभीर बताई जा रही थी। हालांकि जयललिता करीब दो महिने से अस्पताल में भर्ती थी। जहां उनका इलाज चल रहा था। तमिलनाडु की राजनीति में अपना लोहा मनवाने वाली जयललिता का फिल्मी करियर भी काफी शानदार रहा।

जयललिता का बचपन  
-
जयललिता का जन्म कर्नाटक के अयंगर परिवार में फरवरी, 1948 को हुआ था।
-जयललिता की पढ़ाई बेंगलुरू और चेन्नई के कांवेंट स्कूलों में हुई।
-महज दो साल की उम्र में जयललिता के पिता का देहांत हो गया था। जिसके बाद उनके परिवार की आर्थिक हालत अच्छी ना होने के कारण उनकी मां ने तमिल फिल्मों में अपने अभिनय की शुरुआत की।

जयललिता की फिल्मों में एंट्री

-जयललिता ने भी महज 13 साल की उम्र में चाइल्ड आर्टिस्ट के तौर पर फिल्मों में काम करना शुरू कर दिया।
-उन्होंने फिल्मी जीवन की शुरुआत भले ही कन्नड़ फिल्मों से की हो लेकिन तमिल और तेलुगु फिल्मों में भी वो एक सफल अभिनेत्री रहीं।
-जयललिता ने हिंदी, कन्नड और इंग्लिश फिल्मों में भी काम किया है।
-1964 में महज 15 साल की उम्र में जयललिता ने कन्नड़ फिल्म 'चिन्नाड़ा गोम्बे' में लीड रोल किया।
-उन्होंने 100 से ज्यादा तमिल, तेलुगू और कन्नड़ फिल्मों में काम किया।
-1971 में जयललिता की मां की मत्यु हो गई थी।

जयललिता के पॉलिटिकल मेंटर बनें MGR
-1965 में जयललिता ने तमिल फिल्म में काम किया जो बहुत बड़ी हिट साबित हुई। इसी साल उन्होंने एमजी रामचंद्रन के साथ भी काम किया।
- एमजी रामचंद्रन 1977 में एआईएडीएमके के नेता के तौर पर पहली बार तमिलनाडु के मुख्यमंत्री बने। साथ ही बाद में एमजी ने जयललिता के पॉलिटिकल मेंटर के रुप में भी अहम भूमिका निभाई।
-1965 से 1972 के दौर में जयललिता ने अधिकतर फिल्में एमजी रामचंद्रन के साथ ही की।
-लेकिन 1970 में पार्टी के दबाव में आकर एमजीआर ने दूसरी कई अभिनेत्रियों के साथ भी काम करना शुरू किया। जिसके बाद जयाललिता और एमजीआर ने करीब 10 सालों तक एक साथ कोई फिल्म नहीं की।

- बता दें कि 1973 में आखिरी बार अम्मा और एमजीआर एक साथ एक फिल्म में नजर आए थे। इन दोनों ने कुल मिलाकर 28 फिल्मों में एक साथ काम किया।
-1980 में जयललिता ने अपनी आखिरी तमिल फिल्म में काम किया। आपको बता दें कि अम्मा कुल मिलाकर 300 से ज्यादा फिल्मों में काम कर चुकी हैं।

जयललिता का सुपरस्टार से पोपुलर पॉलिटिशन तक का सफर
-जयललिता का सुपरस्टार से पोपुलर पॉलिटिशन तक का सफर
- जयललिता 1982 में एआईएडीएमके की सदस्य बनकर राजनीति में आ गईं।
-1983 में उन्हें पार्टी के प्रचार विभाग का सचिव बनाया गया।
-बहरहाल 1984 में एमजीआर ने उन्हें राज्य सभा का सांसद बनाया।
- हालांकि कुछ समय बाद ही एमजीआर से उनके बीच मतभेद शुरू हो गए।
-1987 में एमजीआर के देहांत के बाद पार्टी में विरासत की बागडोर को लेकर जंग छिड़ गई। पार्टी का एक धड़ा एमजीआर की पत्नी जानकी रामचंद्रन के साथ था तो दूसरा धड़ा जयललिता के साथ खड़ा था।

राजनीतिक दुनिया में जयललिता ने किया कई चुनौतियों का सामना

-तमिलनाडु और जयललिता के राजनीतिक इतिहास में 25 मार्च 1989 का दिन काफी अहम है। इस दिन डीएमके और एआईडीएमके विधायकों की हाथापाई के बीच जयललिता के साथ भी सदन में अभद्रता की गई थी।
-खबरों की माने तो जयललिता उस दिन अपने साथ हुई बदसलूकी के बाद सदन से यह कहते हुए बाहर चली गईं कि वो दोबारा मुख्यमंत्री बनकर ही विधान सभा में वापस आएंगी।
-विधान सभा में हुई बदसलूकी के सिर्फ 2 साल बाद ही जयललिता के नेतृत्व वाले एआईएडीएमके और कांग्रेस गठबंधन ने राज्य की 234 सीटों में से 225 पर जीत हासिल कर ली।
-जिसके बाद जयललिता पहली बार राज्य की मुख्यमंत्री बनीं।
-मुख्यमंत्री बनने के कुछ ही वक्त बाद जयललिता पर आय से अधिक संपत्ति, भ्रष्टाचार और अव्यवस्था इत्यादि के आरोप लगने लगे।
-साल 2015 में हाई कोर्ट ने जयललिता को आय से अधिक संपत्ति मामले में बरी कर दिया और वो फिर से राज्य की सीएम बन गईं।
-जयललिता को कई महीने जेल में बिताने पड़े।
-साल 2015 में हाई कोर्ट ने जयललिता को आय से अधिक संपत्ति मामले में बरी कर दिया और वो फिर से राज्य की सीएम बन गईं।
-साल 2016 में हुए विधान सभा चुनाव में जयललिता ने रिकॉर्ड जीत हासिल की। तमिलनाडु के इतिहास में 32 साल बाद किसी पार्टी को लगातार दूसरी बार बहुमत मिला था।
-मई 2016 में जयललिता छठवीं बार राज्य की सीएम बनीं।

जिंदगी की जंग हार गई जब अम्मा

-68 वर्षीय जयललिता 22 सितंबर को तबीयत खराब होने के कारण अपोलो अस्पताल में भर्ती हुईं। जिसके बाद 3 दिसंबर को पहले खबर आई कि वो किसी भी वक्त घर जा सकती हैं। हांलाकि थोड़ी देर बाद ही खबर आई कि उन्हें कार्डिएक अरेस्ट हुआ है।
- 5 दिसंबर को अम्मा जिंदगी की जंग हार गई। रात 11.30 बजे तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जे जयललिता ने दुनिया को अलविदा कह दिया।
-उनके पार्थिव शरीर को राजाजी हॉल में मंगलवार शाम तक रखा जाएगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राजाजी हॉल पहुंच कर मंगलवार को तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता को अंतिम श्रद्धांजलि दी।
-बता दें कि उनका अंतिम संस्कार मंगलवार शाम 4:30 बजे पूरे राजकीय सम्मान के साथ मरीना बीच पर किया जाएगा।
-केंद्र सरकार ने भी उनके निधन पर एक दिन के राष्ट्रीय शोक की घोषणा की है।

 

संबंधित समाचार

:
:
: