Headline • राम मंदिर बनाने का माहौल बन गया है, जल्द ही राम मंदिर बनेगाः मंत्री लक्ष्मीनारायण• सलमान के घर जल्द बजेगी शहनाई, जनवरी में अरबाज करेंगे अंद्रियानी से शादी!• योगी के बगावती मंत्री बोले, बीजेपी नेताओं का दोहरा चरित्र आया सामने• खराब अंपायरिंग पर बोले धोनी, टिप्पणी कर जुर्माना नहीं भरना चाहता हूं• सपा के पूर्व विधायक और लेखपाल के खिलाफ गंभीर धाराओं में रिपोर्ट दर्ज, हेराफेरी कर सरकारी जमीनों पर किया कब्जा• आजमगढ़ में आज से फिल्म फेस्टिवल, ओमपुरी की फिल्मों की होगी स्क्रीनिंग, शहर की छवि को सुधारने की कवायद• हाथरस में प्राथमिक स्कूल की छत गिरी, तीन दर्जन बच्चे घायल, तीन की हालत गंभीर• मथुरा में सड़क पर बदमाशों का तांडव, स्कूली बस में चढ़कर छात्र को लाठी डंडों से पीटा• इंसान को जानवरों की तरह घसीटते रहे रेलवे पुलिसकर्मी, वीडियो बनाया तो दी बंद करने की धमकी• बैडमिंटन स्टार सायना नेहवाल और पी कश्यप दिसंबर में बंधेगे शादी के बंधन में• सपना चौधरी ने ऐसे सेलिब्रेट किया अपना बर्थडे, तस्वीरें और वीडियो वायरल• बकाया पैसा देने के बहाने युवती को घर बुलाया फिर 3 महीने तक करता रहा यौन शोषण, पुलिस नहीं कर रही मदद• पति पर दर्ज हुई सरकारी जमीन कब्जाने की रिपोर्ट तो सभासद ने दी आत्महत्या की धमकी • ‘बाजार’ का ट्रेलर रिलीज, दमदार लुक में नजर आएं सैफ अली खान • भारतीय मूल की मॉडल का खुलासा, 16 वर्ष की थी तो उसके दोस्त ने रेप की कोशिश की थी• सऊदी अरब में मालिक के अत्याचार से हरदोई के युवक की मौत, लाश लाने के लिए पत्नी ने लगाई गुहार• अखिलेश के साथ मंच क्या शेयर किया, शिवपाल  समर्थक हो गए मुलायम से नाराज, पोस्टरों से हटाई तस्वीर• शमशेर सिंह बिष्ट ने कभी भी सत्ता के साथ कोई समझौता नहीं किया, श्रद्धांजलि सभा में बोले लोग• कॉमेडी क्वीन भारती सिंह की सेहत में हुआ सुधार, अस्पताल से शेयर किया ये वीडियो• फिर विधायक सुरेंद्र सिंह के विवादित बोल, कहा-भारत में रहने वाले सारे मुसलमान परिवर्तित हिन्दू हैं• बरेली: विधायक पप्पू भरतौल ने सीएम से की एसएसपी की शिकायत, सच्चाई जानने बरेली पहुंच रहे हैं सुनील बंसल• औलख का करारा जवाब, कहा-एसआईटी रिपोर्ट आने की आहट से ही बौखला गए हैं आजम • आज हो सकती है पूर्व विधायक योगेश वर्मा की रिहाई, रासुका हटने के बाद रिहाई का रास्ता साफ• SC के फैसले का बसपा सुप्रीमो मायावती ने किया स्वागत,जानें क्या कहा...• सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला : बैंक अकाउंट और मोबाइल से आधार लिंक करना जरूरी नहीं

नहाय-खाय के साथ छठ पर्व आज से शुरू, जानें क्या हैं इस त्योहार का महत्व

यूं तो छठ का त्योहार पूरे देश में ही मनाया जाता है। लेकिन इस त्योहार के मायने बिहार और यूपी के लोगों के लिए कुछ खास ही हैं।

यह सिर्फ एक त्योहार नही बल्कि बिहार,यूपी के लोगों के लिए एक महापर्व है। छठ का यह त्योहार नहाय खाय से शुरु होकर 4 दिनों तक चलता हैं। इस त्योहार का समापन भगवान भास्कर को अर्घ्य देकर किया जाता हैं।

आपको बता दें कि छठ पूजा की परंपरा और उसके महत्व को बताने वाली कई पौराणिक और लोक कथाएं भी काफी प्रचलित हैं। माना जाता हैं कि सबसे पहले छठ पूजा सूर्यपुत्र कर्ण ने की थी।

इतना ही नही कहा जाता हैं कि छठ की पूजा माता सीता और द्रौपदी के भी द्वारा की गई थी। गौरतलब हैं कि आज 'नहाय-खाय' के साथ इस महापर्व छठ का आरंभ हो गया है।

इस बार पहला अर्घ्य 6 नवम्बर को संध्या काल में दिया जाएगा और अंतिम 7 नवम्बर को अरुणोदय में। पहले दिन की पूजा के बाद से नमक का त्याग कर दिया जाता है।

छठ के दूसरे दिन को खरना के रूप में मनाया जाता है। इस दिन भूखे-प्यासे रहकर व्रती खीर का प्रसाद तैयार करती है। खीर गन्ने के रस की बनी होती है।

इसमें नमक या चीनी का प्रयोग नहीं होता। शाम के वक्त इस प्रसाद को ग्रहण करने के बाद फिर निर्जल व्रत कि शुरुआत होती है। छठ के तीसरे दिन शाम के वक्त डूबते सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है।

साथ में विशेष प्रकार का पकवान 'ठेकुवा' और मौसमी फल चढ़ाए जाते हैं। अर्घ्य दूध और जल से दिया जाता है। छठ के चौथे और आखिरी दिन उगते सूर्य की पूजा होती है।

सूर्य को इस दिन अंतिम अर्घ्य दिया जाता है। इसके बाद कच्चे दूध और प्रसाद को खाकर व्रत का समापन किया जाता है।

छठ पर्व पर महिलाओं के साथ-साथ कुछ पुरुष भी यह व्रत रखते हैं। व्रत रखने वाली महिला को परवैतिन कहा जाता है। चार दिन के इस व्रत में व्रती को लगातार उपवास करना होता है।

छठ का महत्व-

-कार्तिक मास में भगवान सूर्य की पूजा की परंपरा है
-शुक्ल पक्ष में षष्ठी तिथि को इस पूजा का विशेष विधान है
-कार्तिक मास में सूर्य नीच राशि में होता है इसलिए विशेष उपासना होती है
-षष्ठी तिथि का सम्बन्ध संतान की आयु से होता है
-सूर्य देव और षष्ठी की पूजा से संतान प्राप्ति और और उसकी आयु रक्षा दोनों होते हैं
-सूर्य उपासना से अपनी ऊर्जा और स्वास्थ्य का बेहतर स्तर बनाये रख सकते हैं

छठ व्रत के लाभ

-जिन लोगों को संतान न हो रही हो  उन्हे इस व्रत से लाभ होता
-अगर संतान पक्ष से कष्ट हो तो भी ये व्रत लाभदायक माना जाता है
-कुष्ठ रोग या पाचन तंत्र की गंभीर समस्या हो तो भी इस व्रत को रखना शुभ है
-जिन लोगों की कुंडली में सूर्य की स्थिति खराब हो उन्हे भी व्रत रखना चाहिए
-राज्य पक्ष से समस्या हो ऐसे लोगों को भी इस व्रत को जरूर रखना चाहिए

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: